लैंडर से संपर्क टूटने पर बोलीं सोनिया गांधी, चंद्रयान-2 का सफर थोड़ा लंबा हुआ, लेकिन...

भाषा
Updated: September 7, 2019, 1:32 PM IST
लैंडर से संपर्क टूटने पर बोलीं सोनिया गांधी, चंद्रयान-2 का सफर थोड़ा लंबा हुआ, लेकिन...
सोनिया गांधी ने कहा कि यह सफर थोड़ा लंबा जरूर हुआ है, लेकिन सफलता जरूर मिलेगी

कांग्रेस (Congress) अध्यक्ष सोनिया गांधी (Sonia Gandhi) ने शनिवार को कहा कि यह सफर थोड़ा लंबा जरूर हुआ है, लेकिन आने वाले कल में सफलता जरूर मिलेगी.

  • Share this:
नई दिल्ली. चंद्रयान-2 (Chandrayaan 2) के लैंडर ‘विक्रम’ का चांद पर उतरते समय जमीनी स्टेशन से संपर्क टूट गया. लैंडर विक्रम (Lander Vikram) चांद की सतह से महज 2.1 किलोमीटर की दूरी पर था. इसके साथ ही वैज्ञानिकों और देश के लोगों में मायूसी छा गई. वहां मौजूद पीएम नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने वैज्ञानिकों का हौसला बढ़ाया और कहा कि जीवन में उतार-चढ़ाव आते रहते हैं. अब कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी (Sonia Gandhi) ने भी इसरो के वैज्ञानिकों का हौसला बढ़ाते हुए उनकी तारीफ की है.

कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी (Sonia Gandhi) ने शनिवार को कहा कि यह सफर थोड़ा लंबा जरूर हुआ है, लेकिन आने वाले कल में सफलता जरूर मिलेगी. उन्होंने इसरो के वैज्ञानिकों के उल्लेखनीय प्रयासों की सराहना की. सोनिया ने कहा, 'हम इसरो और इससे जुड़े पुरुषों एवं महिलाओं के ऋणी हैं. उनकी कड़ी मेहनत और समर्पण ने भारत को अंतरिक्ष की दुनिया में अग्रणी देशों की कतार में शामिल कर दिया है और आगे की पीढ़ियों को प्रेरित किया है कि वे सितारों तक पहुंचे.'

‘हम हार नहीं मानते, आज नहीं तो कल पहुंचेगे’
कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा, 'यह हमारे वैज्ञानिकों की उल्लेखनीय क्षमता, ख्याति और हर भारतीय के दिल में उनके लिए खास जगह होने का प्रमाण है.’ उन्होंने कहा, 'चंद्रयान का सफर थोड़ा लंबा जरूर हुआ है, लेकिन इसरो का इतिहास ऐसी मिसालों से भरा पड़ा है कि नाउम्मीदी में उम्मीद पैदा हुई. वे कभी हार नहीं मानते. मुझे कोई संदेह नहीं है कि हम वहां पहुंचेंगे, भले ही आज नहीं पहुंच पाए, लेकिन कल हम जरूर पहुंचेंगे.'

उन्होंने इसरो की अतीत की सफलताओं का उल्लेख किया और कहा कि हर रुकावट भविष्य की सफलता से पहले का एक पड़ाव भर है.

सतह से 2.1 किमी दूरी पर टूटा संपर्क
गौरतलब है कि चंद्रयान-2 के लैंडर ‘विक्रम’ का चांद पर उतरते समय जमीनी स्टेशन से संपर्क टूट गया. संपर्क तब टूटा, जब लैंडर चांद की सतह से 2.1 किलोमीटर की ऊंचाई पर था. लैंडर को रात लगभग एक बजकर 38 मिनट पर चांद की सतह पर लाने की प्रक्रिया शुरू की गई, लेकिन चांद पर नीचे की तरफ आते समय 2.1 किलोमीटर की ऊंचाई पर जमीनी स्टेशन से इसका संपर्क टूट गया.
Loading...

ट्रांसफर से नाराज मद्रास हाईकोर्ट की चीफ जस्टिस ताहिलरमानी ने दिया इस्तीफा

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 7, 2019, 1:28 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...