नासा का भी उपकरण चांद पर ले जाएगा भारत का चंद्रयान-2

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) ने बताया कि जुलाई में भेजे जा रहे भारत के दूसरे चंद्र अभियान में 13 पेलोड होंगे और अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा का भी एक उपकरण होगा.

News18Hindi
Updated: May 16, 2019, 10:15 AM IST
नासा का भी उपकरण चांद पर ले जाएगा भारत का चंद्रयान-2
तस्वीर साभार- ट्विटर/इसरो
News18Hindi
Updated: May 16, 2019, 10:15 AM IST
भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) ने बताया कि जुलाई में भेजे जा रहे भारत के दूसरे चंद्र अभियान में 13 पेलोड होंगे, जिसमें से एक अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा का उपकरण होगा. इसरो ने चंद्र मिशन के बारे में जानकारी देते हुए कहा कि इसमें 13 भारतीय पेलोड (ओर्बिटर पर आठ, लैंडर पर तीन और रोवर पर दो तथा नासा का एक पैसिव एक्सपेरीमेंट (उपरकण) होगा. हालांकि, इसके भेजे जाने का क्या उद्देश्य है इसरो ने ये साफ नहीं किया है.

इस अंतरिक्ष यान का वजन 3.8 टन है. इसमें तीन मॉड्यूल ऑर्बिटर , लैंडर (विक्रम) और रोवर (प्रज्ञान) हैं. अंतरिक्ष एजेंसी ने इस महीने के प्रारंभ में कहा था कि 9 से 16 जुलाई, 2019 के दौरान चंद्रयान - 2 को भेजे जाने के लिए सारे मॉड्यूल तैयार किये जा रहे हैं.



चंद्रयान-2 के छह सितंबर को चंद्रमा पर उतरने की संभावना जताई जा रही है. ऑर्बिटर चंद्रमा की सतह से 100 किलोमीटर की दूरी पर उसका चक्कर लगायेगा, जबकि लैंडर (विक्रम) चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव पर आसानी से उतरेगा और रोवर (प्रज्ञान) अपनी जगह पर प्रयोग करेगा.

ये भी पढ़ें- इस रॉकेट के जरिए 'छोटे चंद्रमा' को कई हिस्सों में तोड़कर बिखेर देगा नासा

इसरो के मुताबिक इस अभियान में जीएसएलवी मार्क 3 प्रक्षेपण यान का इस्तेमाल किया जाएगा. इसरो ने कहा कि रोवर चंद्रमा की सतह पर वैज्ञानिक प्रयोग करेगा. लैंडर और ऑर्बिटर पर भी वैज्ञानिक प्रयोग के लिए उपकरण लगाये गये हैं.

इसरो के अध्यक्ष के. सीवन ने जनवरी में कहा था, हम चंद्रमा पर उस जगह पर उतरने जा रहे हैं जहां कोई नहीं पहुंचा है- इसका मतलब कि चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव पर. इस क्षेत्र को अब तक खंगाला नहीं गया है. चंद्रयान- 2 पिछले चंद्रयान- 1 मिशन का उन्नत संस्करण है. चंद्रयान- 1 अभियान करीब 10 साल पहले किया गया था.

ये भी पढ़ें-चांद पर ये चीजें लेने जा रहा है भारत का चंद्रयान-2 मिशन

47 साल से चांद पर क्यों नहीं भेजा जा सका कोई इंसानी मिशन?
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर

News18 चुनाव टूलबार

चुनाव टूलबार