महिलाओं में कोविड वैक्सीन का असर अलग, दिख रहे इस तरह के साइड इफेक्ट

28  लोग जिन्हें जॉनसन एंड जॉनसन की वैक्सीन लगाने के बाद खून जमने की शिकायत हुई उनमें से 22 महिलाएं थीं.  (सांकेतिक तस्वीर)

28 लोग जिन्हें जॉनसन एंड जॉनसन की वैक्सीन लगाने के बाद खून जमने की शिकायत हुई उनमें से 22 महिलाएं थीं. (सांकेतिक तस्वीर)

Coronavirus Vaccine Side Effects: इसके सटीक परिणाम जानने के लिए जहां लोगों को और उनके शारीरिक बदलावों को वास्तविक समय में ट्रैक किया गया, उनमें महिलाओं में मासिक धर्म की कई अजीबोगरीब अनियमितता देखने को मिली.

  • Share this:

नई दिल्ली. कोरोना वायरस वैक्सीनेशन (Coronavirus Vaccination) के साइड इफेक्ट्स महिलाओं के शरीर को अलग तरह से प्रभावित कर रहे हैं. इसमें उनके मेंस्ट्रल साइकिल पर भी परेशान करने वाले बदलाव हो रहे हैं. इस वसंत की शुरुआत में जल्दी और असामान्य रूप से हेवी पीरियड्स और उनकी अनियमितता के मामले मिलने के बाद इस पर एक मानवविज्ञानी का ध्यान गया और उन्होंने इस पर काम शुरू किया. उनकी रिपोर्ट की मानें तो कई डॉक्टर्स का मानना है कि इसके लिए एक सेल्फ रिपोर्टिंग सिस्टम है जिसे वी सेफ कहा जाता है. हालांकि इसके सटीक परिणाम जानने के लिए जहां लोगों को और उनके शारीरिक बदलावों को वास्तविक समय में ट्रैक किया गया, उनमें महिलाओं में मासिक धर्म की कई अजीबोगरीब अनियमितता देखने को मिली.

इस बात के पर्याप्त सबूत हैं कि वैक्सीन के असर में लिंग का अंतर मायने रखता है और इस पर और अधिक अध्ययन की जरूरत है. महिलाओं में हल्के या मध्यम दुष्प्रभाव होने की संभावना अधिक होती है जबकि गंभीर रूप से पीड़ित होने की संभावना अधिक होती है. 28 में से 20 लोग जिन्हें जॉनसन एंड जॉनसन की वैक्सीन लगाने के बाद खून जमने की शिकायत हुई उनमें से 22 महिलाएं थीं. इंजेक्शन से दूसरी वैक्सीन लगने के बाद गंभीर एलर्जिक रिएक्शन एनाफिलैक्सिस भी कुछ महिलाओं में देखा गया.

ये भी पढ़ें- Corona की दूसरी लहर में युवाओं का 'मजबूत इम्यून सिस्टम' ही बना जानलेवा, समझें वायरस की चाल

कोविड-19 वैक्सीन लगने के बाद महिलाओं में गंभीर और अत्यधिक मात्रा में रैशेस की शिकायत भी देखी गई जो कि एक अन्य असामान्य और परेशानी बढ़ाने वाला साइड इफेक्ट है. सभी महिलाएं जिन्हें जॉनसन एंड जॉनसन की वैक्सीन दी गईं वह 18 से 45 वर्ष के बीच की थीं. डॉक्टर अभी भी इस बात पर चर्चा कर रहे हैं कि क्या प्रजनन आयु की महिलाओं को अन्य स्वीकृत टीकों के पक्ष में इससे बचने की सलाह दी जानी चाहिए, लेकिन वह कहती हैं कि कोई भी इस सवाल पर अध्ययन नहीं कर रहा है.


कुछ लोगों ने ब्लड क्लॉट की समस्या को खारिज करते हुए कहा कि ये कुछ नहीं है गर्भ निरोधक गोलियों के चलते भी ब्लड क्लॉट की समस्या होती है. ये भी कहा गया है कि इस पर और काम किए जाने की जरूरत है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज