बाढ़ से बचकर भागा बाघ बकरियों के साथ बाड़े में रहा, नहीं पहुंचाया किसी को नुकसान

बाढ़ से बचकर भागा बाघ बकरियों के साथ बाड़े में रहा, नहीं पहुंचाया किसी को नुकसान
काजीरंगा नेशनल पार्क की बाढ़ से बचकर भागता एक बाघ

काजीरंगा राष्ट्रीय उद्यान (Kaziranga National Park) की बाढ़ग्रस्त अगोराटोली रेंज से 200 मीटर की दूरी पर, एक किशोर बाघ (sub-adult tiger) पास के गांव में तैरता हुआ पहुंच गया और शर्मा के घर के अंदर बकरियों (Goats) के फूस के शेड के नीचे शरण ली.

  • News18Hindi
  • Last Updated: July 14, 2020, 10:48 PM IST
  • Share this:
(करिश्मा हसनत)

गुवाहाटी. असम (Assam) के गोलाघाट जिले (Golaghat District) के कंधुलिमारी गांव में सोमवार को अपने घर में एक रॉयल बंगाल टाइगर (Royal Bengal tiger) की मेजबानी करने वाले कमल शर्मा ने बताया, "हमारे परिवार (Family) में हर किसी ने एक बाघ (Tiger) देखा है, लेकिन आज मेरी मां एक को छू सकती थी. उसने उसकी (बाघ की) पीठ थपथपाई.”

काजीरंगा राष्ट्रीय उद्यान (Kaziranga National Park) की बाढ़ग्रस्त अगोराटोली रेंज से 200 मीटर की दूरी पर, एक किशोर बाघ (sub-adult tiger) पास के गांव में तैरता हुआ पहुंच गया और शर्मा के घर के अंदर बकरियों (Goats) के फूस के शेड के नीचे शरण ली. अगले दिन शाम को ऊंची जमीन पर लौटने से पहले यह सारी रात बकरियों के पास ही पड़ा रहा. इस दौरान इसने पशुओं या मनुष्यों (humans) को कोई नुकसान नहीं पहुंचाया.



'मेरी मां ने उसे छुआ और घर में वापस आकर 15 मिनट कांपती रही'
इलाके के दिहाड़ी किसान शर्मा ने बताया, “हमने लगभग 1.30 बजे शोर सुना, लेकिन मैं देखने नहीं गया. अगली सुबह, हमने जमीन पर ताजे पंजे के निशान देखे, और यह माना कि यह एक बाघ था जो कुछ देर आराम करके चला गया. मेरी मां बकरियों को घास देने के लिए शेड के अंदर गई और उस जगह को साफ किया. तभी उसने पानी में एक बोरी जैसी वस्तु पड़ी देखी. उसने उसे छुआ और बिना एक भी शब्द बोले वापस घर में भाग आई. वह लगभग 15 मिनट तक कांपती रही और हमें बताया कि वहां एक बाघ था.

शर्मा ने कहा, “मैंने तीन फीट दूर से बाघ को देखा. यह सो रहा था. मेरी मां ने कहा कि यह सुबह भारी सांसे ले रहा था. बेचारा जानवर थक गया होगा, और उसने मेरे आंगन में आराम किया- यह उसके लिए एक बहुत ही सुरक्षित जगह थी.”

यह भी पढ़ें: कोविड-19 वैक्सीन के लिए साइट्स तैयार, 2000 वॉलंटियर्स पर होगा टेस्ट- ICMR

असम की सालाना बाढ़ में डूब गया है काज़ीरंगा राष्ट्रीय उद्यान का 95% हिस्सा
बाघ ऊंचे इलाके तक जाने के लिए जंगल के अंदर जलमग्न क्षेत्रों से भटक आया था. असम में सालाना बाढ़ ने काज़ीरंगा राष्ट्रीय उद्यान और टाइगर रिजर्व के लगभग 95% हिस्से को डुबा दिया है. कोई अन्य जगह नहीं मिलने पर, 'बिग कैट' ने बकरी के शेड के नीचे शरण ली, जिसमें केवल उसका सिर केवल पानी से बाहर था. 11 घंटे के इंतजार के बाद, जानवर को सुरक्षित मार्ग दिया गया.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading