राम मंदिर बीजेपी का मुद्दा है एनडीए का नहीं, विकास पर बात हो: चिराग पासवान

रालोद नेता जयंत चौधरी ने कहा कि महागठबंधन में कई नेता होंगे और ये तय है कि बीजेपी के खिलाफ चुनाव लड़ा जाएगा.

Ankit Francis | News18Hindi
Updated: December 19, 2018, 5:43 PM IST
राम मंदिर बीजेपी का मुद्दा है एनडीए का नहीं, विकास पर बात हो: चिराग पासवान
चिराग पासवान और रामविलास पासवान (फाइल फोटो)
Ankit Francis | News18Hindi
Updated: December 19, 2018, 5:43 PM IST
लोकतांत्रिक जनशक्ति पार्टी (लोजपा) नेता चिराग पासवान ने News18 India के कार्यक्रम 'चौपाल' में राम मंदिर के मुद्दे पर कहा कि ये एनडीए का मुद्दा नहीं है सिर्फ बीजेपी का है. अगर अध्यादेश लाया भी जाएगा तो इसका समर्थन फिलहाल चर्चा का विषय है. राम मंदिर के मुद्दे पर कांग्रेस प्रवक्ता जयदीप शेरगिल ने सवाल किया कि यूपी सरकार ने अभी तक सुप्रीम कोर्ट में एफिडेविट क्यों नहीं दिया कि भगवान राम का जन्म वहीं हुआ था ? चर्चा में मौजूद रालोद नेता जयंत चौधरी ने कहा कि महागठबंधन में कई नेता होंगे और ये तय है कि बीजेपी के खिलाफ चुनाव लड़ा जाएगा.

लोजपा नेता चिराग पासवान ने कहा कि हमारी चिंताएं गठबंधन को लेकर काफी बड़ी हैं इसलिए 'अल्टीमेटम' जैसे शब्दों का इस्तेमाल करना पड़ रहा है. समय रहते सीटों का बंटवारा हो जाना चाहिए जिससे वक़्त से कैंडिडेट तय किए जा सके और प्रचार शुरू किया जा सके. मेरी चिंता दो प्रमुख विषयों को लेकर है युवा और किसान, जिस पर ध्यान देना अब ज़रूरी हो गया है. इनके लिए जो भी काम सरकार ने किया है वो जनता को बताए जाएं. मुद्रा योजना या फिर स्टैंडअप इंडिया के तहत जो फायदा हुआ वो युवाओं को बताया जाना चाहिए. किसान आंदोलन कर रहे हैं और उन्हें सुनना अब बेहद ज़रूरी है. चिराग ने का मोदी सरकार से मेरी नाराजगी मुद्दों को लेकर है. चिराग ने राम मंदिर अध्यादेश आया भी तो उसका समर्थन एनडीए में चर्चा के बाद ही किया जाएगा.

रालोद नेता जयंत चौधरी ने महागठबंधन से जुड़े सवाल के जवाब में कहा कि कन्फ्यूजन ये नहीं है कि सपा-बसपा और हमें साथ में काम करना है, सीटों के बंटवारे पर अभी चर्चा नहीं हुई है. उन्होंने महागठबंधन के नेता पर कहा कि ये कोई ब्यूटी कॉन्टेस्ट नहीं है कि एक ही जीतेगा, खुद एनडीए भी 40 पार्टियों को लेकर चल रहा है. लोकतंत्र में संख्याबल के आधार पर ही फैसले लिए जाते हैं. जयंत ने कहा कि बीजेपी में सबसे ज्यादा अपराधी हैं. अखिलेश, राहुल या मायावती में कौन बेहतर है सवाल पर जयंत ने कहा कि चुनाव के नतीजे आने के बाद इसका फैसला है.

कांग्रेस प्रवक्ता जयदीप शेरगिल ने कहा कि हम एक टीम बनाने पर जोर दे रहे हैं और हम मुद्दों पर चुनाव लड़ने जा रहे हैं. हम युवा और किसान पर चुनाव लड़ रहे हैं बजरंग बाली बनाम अली की लड़ाई नहीं करते. 2004 के चुनाव में नेता का नाम पूछा जा रहा था, छत्तीसगढ़ में भी यही सवाल था लेकिन हम मैन ऑफ द मैच 2019 के चुनाव के बाद ही घोषित करेंगे. जयदीप ने कहा कि परिवारवाद का मुद्दा अब पुराना हो चुका है और बीजेपी अब इससे लोगों को भड़का नहीं सकती. मोदी सरकार अहंकार में पटरी से उतर गई है और ज़मीन पर लोगों के लिए कुछ भी नहीं किया गया है. नीति आयोग की रिपोर्ट कर रही है कि बेरोज़गारी बढ़ गई है लेकिन ये राहुल की जाति के पीछे पड़े हुए हैं.

बीजेपी नेता जीवीएल नरसिम्हा राव ने कहा कि बीजेपी काबिलियत के आधार पर चलती है किसी सरनेम के आधार पर नहीं. हमारे पीएम और राष्ट्रीय अध्यक्ष ने मेहनत की है उन्हें ये सब विरासत में नहीं मिला है. राहुल ने अपने चलते सचिन पायलट और ज्योतिरादित्य सिंधिया को सीएम नहीं बनने दिया. कांग्रेस में मालिक सिर्फ एक परिवार है यही सबसे बड़ी दिक्कत है.

राव ने कहा कि राहुल हिंदू होने का नाटक कर रहे हैं इसलिए हम सवाल उठाते हैं. गठबंधन की पार्टियों पर राव ने कहा कि हर बड़ी पार्टी यही चाहती है कि छोटी पार्टियां कंट्रोल में रहे ये गठबंधन के लिए अच्छा भी रहता है. उप्रेंद्र कुशवाहा भी 5 साल सरकार में रहे और आखिरी वक़्त पर चले गए ये बात जनता भी देखेगी ही. कांग्रेस ने 70 सालों में सिर्फ 33 प्रतिशत घरों में टॉयलेट पहुंचाया हमने इसे बढ़ाकर 98 प्रतिशत कर दिया है. बीजेपी ने 8 करोड़ लोगों को एलपीजी कनेक्शन दिया, बिजली कनेक्शन भी 20 प्रतिशत बढ़ गए हैं.
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर