Home /News /nation /

सिर्फ माउथ फ्रेशनर ही नहीं है च्युइंग गम, कई बीमारियों से भी बचाती है यह

सिर्फ माउथ फ्रेशनर ही नहीं है च्युइंग गम, कई बीमारियों से भी बचाती है यह

च्युइंग गम चबाने से खून की तरफ ब्लड को फ्लो बूस्ट होता है. (Image: Shutterstock)

च्युइंग गम चबाने से खून की तरफ ब्लड को फ्लो बूस्ट होता है. (Image: Shutterstock)

Health benefits of Chewing gum: च्युइंग गम (Chewing gum) को आमतौर पर लोग माउथ फ्रेशनर (Mouth Freshener) के रूप में इस्तेमाल करते हैं लेकिन इसके कई और भी फायदे हैं. अगर च्युइंग गम में चीनी (Sugar) न हो तो यह पाचन तंत्र (Digestive system) को दुरुस्त रखने से लेकर मेमोरी (memory) बढ़ाने तक में मदद करती है. च्युइंग गम में कई तरह के विटामिन पाए जाते हैं जो मुंह में ही घुल जाते हैं. च्युइंग गम इम्यून सिस्टम को भी बूस्ट करती है. यह घाव को जल्दी भरने में सहायक है.

अधिक पढ़ें ...

    Health benefits of Chewing gum: च्युइंग गम (Chewing gum) का इस्तेमाल पश्चिमी जगत में सदियों से होता रहा है. रोम में इसे मैस्टिक ट्री (mastic tree) से बनाई जाती था. लेकिन आजकल जो च्युइंग गम बन रही है वह सिंथेटिक च्युइंग गम है. बड़े पैमाने पर सिंथेटिक च्युइंग गम की ही बिक्री होती है. हाल के एक अध्ययन में दावा किया गया था च्युइंग गम में कई तरह के विटामिन पाए जाते हैं जो मुंह में ही घुल जाते हैं. इससे पाचन तंत्र को मजबूती मिलती है. च्युइंग गम थकान को मिटाती है और इम्यून सिस्टम को भी दुरुस्त करती है. यह घाव को जल्दी भरने में सहायक है.

    मुंह में बफर की तरह काम करती है च्युइंग गम
    वेबएमडी की खबर के अनुसार अगर च्युइंग गम में शुगर ज्यादा है तो इसके फायदे की जगह नुकसान ज्यादा हो सकता है. लेकिन अच्छी बात यह है कि सिंथेटिक च्युइंग गम में भी चीनी नहीं होती है. शुगर फ्री च्युइंग गम में 0.5 ग्राम से कम शुगर होता है. रिपोर्ट के मुताबिक च्युइंग गम में साइट्रिक एसिड होता है जो दांतों के बीच प्लैक बनने से रोकता है. सबसे बड़ी बात यह है कि जब आप च्युइंग गम को ज्यादा देर तक चबाते हैं तो इससे बहुत ज्यादा स्लाइवा यानी थूक बनता है. मुंह के अंदर जितना थूक बनेगा, सेहत के लिए यह उतनी ही अच्छी बात होगी. स्लाइवा दांत और मुंह के लिए बफर का काम करता है. यानी यह दांत और मुंह के लिए रक्षात्मक प्रणाली विकसित कर लेती है. इससे दांतों की क्षति नहीं होती.

    इसे भी पढ़ेंः क्या है मंकी पॉक्स, जानिए इसके लक्षण और बचाव के तरीके

    एसिड रिफलेक्स की बीमारी नहीं होती
    अगर मुंह में ज्यादा स्लाइवा बन रहा है तो इससे गुड बैक्टीरिया और एसिड गले की नली से आगे आसानी से बढ़ जाता है. ज्यादा स्लाइवा होने से गला और पेट को जोड़ने वाली नली में एसिड बैलेंस संतुलित रहता है. इससे एसिड रिफलेक्स नहीं होता. यानी इससे पेट में गैस नहीं बनती. जब पेट से एसिड श्वास नली में उपर आने लगता है तब गेस्ट्रोओसेफेगल रिफलेक्स डिजीज (Gastroesophageal reflux disease -GERD) या गैस की बीमारी होती है. इससे छाती में जलन होने लगती है.

    इसे भी पढ़ेंः Health News: एंटी एजिंग के लिए दवा से बेहतर असर करती है डाइट- नई स्टडी

    मेमोरी भी होती है बूस्ट
    वेबएमडी की खबर के मुताबिक च्युइंग गम चबाने से एक घंटे में 11 कैलोरी ऊर्जा बर्न होती है. च्युइंग गम चबाने से खून की तरफ ब्लड को फ्लो बूस्ट होता है. इससे मेमोरी इंप्रूव होती है. अगर नींद आ रही है तो च्युइंग गम चबाएं इससे एलर्टनेस आएगी. जी मिचलाने की बीमारी है तो च्युइंग गम का सेवन फायदेमंद होता है. च्युइंग गम में मौजूद विटामिन मुंह के अंदर जीभ के पास ही घुल जाते हैं. चूंकि जीभ में ब्लड की सप्लाई बहुत ज्यादा होती है, इसलिए यह जल्द ही शरीर के बाकी हिस्सों में पहुंच जाते हैं. कुछ विटामिन थूक के साथ घुल जाते हैं और जल्दी ही इंटेस्टाइन में पहुंच जाते हैं.

    Tags: Health, Lifestyle

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर