Assembly Banner 2021

CPIM नेता की हत्या मामलाः 2 दिन की NIA हिरासत में भेजे गए TMC नेता छत्रधर महतो

इससे पहले भी पूर्व माओवादी नेता महतो को एनआइए ने गिरफ्तार किया था.

इससे पहले भी पूर्व माओवादी नेता महतो को एनआइए ने गिरफ्तार किया था.

West Bengal Latest news: माकपा नेता प्रबीर महतो की 2009 में हत्या के मामले में कोलकाता की एक अदालत ने टीएमसी नेता छत्रधर महतो को दो दिन की एनआइए हिरासत में भेज दिया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 28, 2021, 6:36 PM IST
  • Share this:
कोलकाता. पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनावों (West Bengal Assembly Elections 2021) के बीच तृणमूल कांग्रेस को बड़ा झटका लगा है. माकपा नेता प्रबीर महतो (CPI (M) leader Prabir Mahato) की 2009 में हत्या के मामले में कोलकाता की एक अदालत ने टीएमसी नेता छत्रधर महतो (TMC leader Chhatradhar Mahato) को दो दिन की एनआइए हिरासत में भेज दिया है. बता दें कि एनआइए ने महतो को देर रात लगभग 3:00 बजे लालगढ़ में स्थित उनके घर से गिरफ्तार किया था.

इससे पहले भी पूर्व माओवादी नेता महतो को एनआइए ने गिरफ्तार किया था. लेकिन 10 साल जेल में गुजारने के बाद पिछले साल फरवरी में रिहा होने के बाद महतो माओवाद का रास्ता छोड़कर टीएमसी में शामिल हो गए थे.

NIA के बार-बार समन के बाद भी नहीं हुए थे पेश
एनआईए ने 16, 18 और 22 मार्च को टीएमसी नेता छत्रधर महतो को एजेंसी के सामने पेश होने के लिए समन भेजा था. लेकिन छत्रधर महतो ने बताया कि उन्हें दांत में दर्द है इसलिए वो एजेंसी के सामने पेश नहीं हो सकते. उन्होंने दांत में दर्द की मेडिकल रिपोर्ट भी दिखाई दी थी लेकिन एनआईए उनसे संतुष्ट नहीं थी.
ये भी पढ़ें- शराब के धंधे में तो नहीं उतर गए 211 बर्खास्त जवान? पुलिस मुख्यालय रख रहा नजर



ममता बनर्जी के दूत कहे जाते हैं महतो
महतो को ममता बनर्जी का दूत भी कहा जाता है. साल 2009 में भुवनेश्वर राजधानी एक्सप्रेस को कथित तौर पर हाईजैक करने के आरोप में गिरफ्तार किया. छत्रधर महतो को आज कोर्ट में पेश किया जा सकता है. इससे पहले भी एनआईए महतो को गिरफ्तार कर चुकी है.

2009 में गिरफ्तारी के बाद आरोपियों के खिलाफ देशद्रोह का मामला दर्ज किया गया था. मई 2015 में मेदिनीपुर जिला अदालत ने महतो को दोषी करार देते हुए उम्रकैद की सजा सुनाई थी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज