छत्‍तीसगढ़: दीपावली पर स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव ने मितानिन बहनों को दी सौगात

मितानिन बहनों को मिली सौगात.
मितानिन बहनों को मिली सौगात.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 12, 2020, 12:09 PM IST
  • Share this:
रायपुर. इस वर्ष के प्रारंभिक समय से ही देश और दुनिया डॉक्टरों एवं कोरोना योद्धाओं पर आश्रित रहे हैं, छत्तीसगढ़ जैसे छोटे राज्य के लिए कोरोना जैसे भीषण प्रकोप से लड़ना आसान नहीं रहा लेकिन प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव की निर्णायक भूमिका और आला अधिकारियों से ग्रामीण क्षेत्रों की मितानिन बहनों तक सभी से निरंतर संवाद और संतुलन रखकर उन्होंने प्रदेश को नई प्रेरणा दी. जिसके फलस्वरूप छत्तीसगढ़ इस संक्रमण से उबरने में बहुत हद तक कामयाब रहा है.

कोरोना की इस लड़ाई में प्रदेश के दूरस्थ क्षेत्रों तक घर-घर पहुंचकर मितानिनों ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है. देश में सर्वप्रथम छत्तीसगढ़ की धरती से शुरू हुए मितानिन कार्यक्रम से आज भारत की सर्वाधिक मितानिन (आशा) जुड़ी हुई हैं. इन मितानिन (आशा) के लिए शासन द्वारा विभिन्न स्वास्थ्य कार्यक्रमों के अंतर्गत प्रोत्साहन राशि दी जाती है परन्तु रिपोर्टिंग सत्यापन इत्यादि की प्रक्रिया अत्यंत जटिल होने के कारण इसमें बहुत समय लगता था जिससे प्रोत्साहन राशि के भुगतान में अब तक विलंब होता था.

सुदूर क्षेत्रों तक लोकसेवा में समर्पित मितानिन (आशा) के लिए स्वास्थ्य मंत्री श्री टीएस सिंहदेव एवं स्वास्थ्य विभाग की अपर मुख्य सचिव श्रीमती रेणु जी. पिल्लै के मार्गदर्शन में एक ऐतिहासिक पहल कर उन्हें दीपावली से पहले सौगात दी है, NIC के सहयोग से एक विशेष सॉफ्टवेयर Mitanin Incentive Online Payment System के माध्यम से इस अक्टूबर माह के भुगतान की सम्पूर्ण प्रक्रिया पूर्ण कर सभी मितानिनों की प्रोत्साहन राशि उनके खातों में दीपोत्सव पर्व से पूर्व 9 नवंबर को ही हस्तांतरित कर दी गई है, यह छत्तीसगढ़ के इतिहास में पहली बार हुआ है.



इस समस्या को हल करने हेतु राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन (NHM) व NIC के सहयोग से राज्य स्तर पर राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन छत्तीसगढ़ द्वारा बिना किसी अतिरिक्त खर्च पर एक विशेष सॉफ्टवेयर Mitanin Incentive Online Payment System तैयार किया गया है. सर्वप्रथम इस सॉफ्टवेयर को पायलट रायपुर के अभनपुर विकासखंड में प्रारंभ किया गया जहाँ पूर्ण सफलता मिलने के उपरांत इस सॉफ्टवेयर का विस्तारीकरण शेष ज़िलों में किया गया.
इस सॉफ्टवेयर के माध्यम से प्रदेश की 68,940 मितानिनों को सॉफ्टवेयर में पंजीकृत कर उनका समस्त विवरण इंस्टॉल किया गया जो इसके उपरांत सभी ज़िलों द्वारा सत्यापित भी किया गया. यह समस्त प्रक्रिया पूर्ण होने के उपरांत अक्टूबर माह में सितम्बर माह की मितानिन प्रोत्साहन राशि का ज़िलेवार भुगतान इसी सॉफ्टवेयर के माध्यम से सभी मितनिनों के खाते में हस्तांतरित किया गया.

आज तक जहां मितानिनों को प्रोत्साहन राशि के लिए महीनों प्रतीक्षा करनी पड़ती थी, अब भुगतान प्रक्रिया को सरल बनाकर स्वास्थ्य विभाग ने इस समस्या का स्थाई निराकरण कर दिया है, इस अक्टूबर माह के भुगतान की सम्पूर्ण प्रक्रिया पूर्ण कर सभी मितानिनों की प्रोत्साहन राशि उनके खातों में 9 नवंबर को ही हस्तांतरित कर दी गई है. छत्तीसगढ़ के इतिहास में यह पहली बार है कि अविलंब मितानिनों को प्रोत्साहन राशि अगले माह की 10 तारीख से पूर्व प्राप्त हुई हो.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज