एक और संस्था 'मर' गई- मोदी सरकार पर चिदंबरम का हमला

एक और संस्था 'मर' गई- मोदी सरकार पर चिदंबरम का हमला
पी चिदंबरम की फाइल फोटो

पूर्व वित्त मंत्री का ये बयान तब आया है जब एनएससी के दो स्वतंत्र सदस्यों पीसी मोहनन और जीवी मीनाक्षी ने कुछ मुद्दों को लेकर सरकार से मतभेद होने के कारण इस्तीफा दे दिया.

  • News18.com
  • Last Updated: January 30, 2019, 11:56 AM IST
  • Share this:
राष्ट्रीय सांख्यिकी आयोग (नेशनल स्टेटिस्टिकल कमीशन, NSC) के दो सदस्यों द्वारा इस्तीफा दिए जाने के बाद कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पी चिदंबरम ने बुधवार को कहा कि सरकार की 'द्वेषपूर्ण लापरवाही' के कारण एक और महत्वपूर्ण संस्था मर चुकी है.

पूर्व वित्त मंत्री का ये बयान तब आया है जब एनएससी के दो स्वतंत्र सदस्यों पीसी मोहनन और जेवी मीनाक्षी ने कुछ मुद्दों को लेकर सरकार से मतभेद होने के कारण इस्तीफा दे दिया. मोहनन कार्यकारी अध्यक्ष भी थे.

बेरोजगारी ने तोड़ा 4 साल का रिकॉर्ड, नोटबंदी से नौकरियों पर बुरा असर- सर्वे



द इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक, नेशनल सैम्पल सर्वे ऑर्गनाइजेशन (NSSO) की तरफ से रोजगार और बेरोजगारी पर तैयार की गई सालाना रिपोर्ट (2017-18) तैयार होने के दो महीने बाद भी सरकार की तरफ से जारी नहीं किए जाने की वजह से इन दोनों सदस्यों ने इस्तीफा दे दिया.
चिदंबरम ने ट्वीट किया, 'हम एनएससी की मौत पर दुख मनाते हैं और सही जीडीपी और रोजगार से संबंधित डेटा को रिलीज़ करने के लिए इसके द्वारा लड़ी जाने वाली लड़ाई की तारीफ करते हैं. दुबारा एनएससी के जिंदा होने तक उसकी आत्मा को शांति मिले.



इन दो सदस्यों के इस्तीफे के बाद एनएससी में अब सिर्फ दो ही सदस्य बचे हैं. पिछले साल नवंबर में यूपीए के समय का रिवाइज़्ड जीडीपी डेटा देने के कारण नीति आयोग को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ा था.
एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पाससब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज