INX घोटाला: घर पर मौजूद नहीं चिदंबरम, CBI के बाद अब ED की टीम भी पहुंची जोरबाग

News18Hindi
Updated: August 20, 2019, 7:52 PM IST
INX घोटाला: घर पर मौजूद नहीं चिदंबरम, CBI के बाद अब ED की टीम भी पहुंची जोरबाग
कांग्रेस नेता और पूर्व गृह मंत्री पी चिदंबरम की अग्रिम जमानत याचिका पर सुप्रीम कोर्ट ने तुरंत सुनवाई से इंकार कर दिया है. Illustration by Mir Suhail. (News18.com)

आईएनएक्स मीडिया घोटाले (INX Media Scam) से संबंधित भ्रष्टाचार और मनीलॉन्ड्रिंग मामलों (Money Laundering Case) में कांग्रेस नेता और पूर्व गृह मंत्री पी चिदंबरम (P Chidambaram) की अग्रिम जमानत याचिका पर सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) ने तुरंत सुनवाई से इंकार कर दिया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 20, 2019, 7:52 PM IST
  • Share this:
आईएनएक्स मीडिया घोटाले (INX Media Scam) से संबंधित भ्रष्टाचार और मनीलॉन्ड्रिंग मामलों (Money Laundering Case) में कांग्रेस नेता और पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम (P Chidambaram) की अग्रिम जमानत याचिका पर सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) ने तुरंत सुनवाई से इंकार कर दिया. अब चीफ जस्टिस रंजन गोगोई (CJI Ranjan Gogoi) की बेंच बुधवार को इस मामले की सुनवाई करेगी.

मंगलवार शाम को दिल्ली के जोरबाग स्थित चिदंबरम के घर सीबीआई (CBI) के 6 अधिकारियों की टीम पहुंची थी, हालांकि चिदंबरम घर पर नहीं थे और टीम वापस लौट गई. कुछ ही देर बाद ED की एक टीम भी चिदंबरम की तलाश में उनके घर पहुंची. इससे पहले मंगलवार को ही दिल्ली हाईकोर्ट (Delhi Highcourt) ने उनकी अग्रिम जमानत याचिका को खारिज कर दिया था.

चिदंबरम को सीबीआई (CBI) और ईडी (ED) द्वारा दाखिल दोनों ही मामलों में जमानत नहीं मिली थी. हाईकोर्ट से याचिका खारिज होने के बाद चिदंबरम के वकील कपिल सिब्बल ने सुप्रीम कोर्ट का रुख किया था. लेकिन सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले की तुरंत सुनवाई से इंकार कर दिया.

ग्रिम जमानत याचिका खारिज कर दिए जाने के बाद कांग्रेस नेता पी चिदंबरम ने मंगलवार को वरिष्ठ अधिवक्ताओं कपिल सिब्बल, अभिषेक मनु सिंघवी और सलमान खुर्शीद के साथ मशविरा किया. सिब्बल ने रजिस्ट्रार (न्यायिक) सूर्य प्रताप सिंह से मुलाकात की और उन्हें स्थिति बताई.

क्या है पूरा मामला
यह मामला साल 2007 का है जब वह यूपीए के कार्यकाल में वित्त मंत्री थे. उस वक्त आईएनएक्स मीडिया को 305 करोड़ रुपये की विदेशी धनराशि प्राप्त करने के लिए विदेशी निवेश संवर्धन बोर्ड (एफआईपीबी) की मंजूरी दिलाने में कथित अनियमितता बरते जाने का आरोप है. 2018 में प्रवर्तन निदेशालय ने इस संबंध में धन शोधन का मामला दर्ज किया। सीबीआई ने पूछताछ के लिए वरिष्ठ कांग्रेस नेता पी चिदंबरम को समन किया.

मई 2018 में चिदंबरम ने दिल्ली उच्च न्यायालय में याचिका दे कर सीबीआई द्वारा दर्ज भ्रष्टाचार के मामले में अग्रिम जमानत का अनुरोध किया. इसके करीब दो महीने बाद 23 जुलाई को चिदंबरम ने प्रवर्तन निदेशालय के धन शोधन मामले में अग्रिम जमानत के लिए दिल्ली उच्च न्यायालय में गुहार लगाई. 25 जुलाई को उच्च न्यायालय ने दोनों ही मामलों में गिरफ्तारी से उन्हें अंतरिम सुरक्षा दी.
Loading...

आज ही हाईकोर्ट से मिला था झटका
इसी साल जनवरी में उच्च न्यायालय ने दोनों ही मामलों में चिदंबरम की अग्रिम जमानत याचिका पर अपना फैसला सुरक्षित रखा. मंगलवार 20 अगस्त को उच्च न्यायालय ने चिदंबरम की अग्रिम जमानत की याचिका ठुकरा दी. साथ ही उच्च न्यायालय ने कांग्रेस नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री पी. चिदंबरम को उच्चतम न्यायालय का दरवाजा खटखटाने के लिए गिरफ्तारी से अंतरिम राहत देने से भी इनकार कर दिया. इसके बाद चिदंबरम जल्द सुनवाई के लिए सुप्रीम कोर्ट गए जहां उनकी अपील ठुकरा दी गई.
(भाषा के इनपुट के साथ)

ये भी पढ़ें-
पी चिदंबरम पर गिरफ्तारी की तलवार, नहीं मिली अग्रिम जमानत

असहिष्णुता से देश को नुकसान पहुंच सकता है- मनमोहन

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 20, 2019, 6:32 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...