करगिल युद्ध के वक़्त से अटका था 'चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ' की नियुक्ति का प्रपोजल

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने स्‍वतंत्रता दिवस (Independence Day) पर लालकिला की प्राचीर से 'चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ' (CDS) का पद बनाने की घोषणा की. सीडीएस थलसेना (Army), वायुसेना (Air Force) और नौसेना (naval) का प्रमुख होगा.

News18Hindi
Updated: August 16, 2019, 7:13 AM IST
करगिल युद्ध के वक़्त से अटका था 'चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ' की नियुक्ति का प्रपोजल
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 73वें स्वतंत्रता दिवस पर कहा कि सीडीएस थलसेना, नौसेना, वायुसेना के बीच तालमेल सुनिश्चित करेगा और उन्हें प्रभावी नेतृत्व देगा.
News18Hindi
Updated: August 16, 2019, 7:13 AM IST
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने स्‍वतंत्रता दिवस (Independence Day) पर लालकिला की प्राचीर से 'चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ' (CDS) का पद बनाने की घोषणा की. सैन्‍य सुधार के तहत इस पद को बनाए जाने का प्रस्‍ताव 19 साल पहले रखा गया था. सीडीएस सेना के तीनों अंगों थलसेना (Army), वायुसेना (Air Force) और नौसेना (Navy) का प्रमुख होगा. इस पद को बाने का प्रस्‍ताव 1999 में करगिल युद्ध (kargil War) के समय आया था, जो अब तक लंबित था.

रक्षा मंत्री ने कहा, तीनों सेनाओं को नेतृत्‍व देगा सीडीएस
प्रधानमंत्री मोदी ने 73वें स्वतंत्रता दिवस पर कहा कि सीडीएस थलसेना, नौसेना, वायुसेना के बीच तालमेल सुनिश्चित करेगा और उन्हें प्रभावी नेतृत्व देगा. इससे हमारे सशस्त्र बल ज्‍यादा प्रभावशाली बनेंगे. रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह (Defence Minister Rajnath Singh) ने एक ट्वीट में कहा कि सीडीएस पर पीएम मोदी की घोषणा तीनों बलों में समन्वय और उनके कामकाज में सुधार के मद्देनजर की गई. लंबे समय में सीडीएस का भारतीय सुरक्षा पर अच्‍छा असर होगा.

तीनों सेनाओं के बीच समन्‍वय बढ़ाने की होगी जिम्‍मेदारी

सेना के तीन अंगों के प्रमुखों में सबसे वरिष्ठ व्यक्ति सीडीएस होगा. उसकी बुनियादी भूमिका सेना, नौसेना, वायुसेना के बीच कामकाजी समन्वय बढ़ाने की दिशा में काम करने और जरूरत के मुताबिक राष्ट्रीय सुरक्षा को देखने की होगी. सीडीएस प्रधानमंत्री और रक्षा मंत्री के लिए महत्वपूर्ण रक्षा व सामरिक मुद्दों पर सैन्य सलाहकार (Defence Advisor) की भूमिका भी निभाएगा. सूत्रों के मुताबिक, सरकार सीडीएस की नियुक्ति के लिये उच्चस्तरीय समिति गठित करने की प्रक्रिया में है.

अभी यह स्पष्ट नहीं हुआ है कि सीडीएस का कार्यकाल कितने वक्त का होगा और क्या उनका पद तीनों सेना प्रमुखों के समान होगा या उनसे ऊपर होगा.


स्‍पष्‍ट नहीं कितने वक्‍त का होगा सीडीएस का कार्यकाल
Loading...

अभी यह स्पष्ट नहीं हुआ है कि सीडीएस का कार्यकाल कितने वक्त का होगा और क्या उनका पद तीनों सेना प्रमुखों के समान होगा या उनसे ऊपर होगा. करगिल युद्ध के बाद देश की सुरक्षा व्यवस्था में कमियों का पता लगाने के लिए गठित उच्चस्तरीय समिति ने चीफ ऑफ डिफेंस स्‍टाफ की नियुक्ति की पैरवी की थी. राष्ट्रीय सुरक्षा व्यवस्था में जरूरी सुधारों का विश्लेषण कर रहे एक मंत्रिसमूह ने भी सीडीएस की नियुक्ति की पैरवी की थी.

2012 में की गई थी CSC प्रमुख पद की अनुशंसा
वर्ष 2012 में 'नरेश चंद्र टास्क फोर्स' ने चीफ्स ऑफ स्टाफ कमेटी (CSC) के स्थायी प्रमुख का पद सृजित करने की अनुशंसा की थी. मौजूदा समय में चीफ्स ऑफ स्टाफ कमेटी में सेना, नौसेना और वायुसेना के प्रमुख होते हैं. इनमें सबसे वरिष्ठ व्यक्ति इसका प्रमुख होता है. प्रधानमंत्री की घोषणा के बाद पूर्व सेना प्रमुख वीपी मलिक ने ट्वीट कर कहा कि पीएम मोदी ने सीडीएस बनाने का ऐतिहासिक कदम उठाया है. इससे राष्ट्रीय सुरक्षा ज्‍यादा प्रभावी व किफायती होगी.

ये भी पढ़ें:

PM मोदी बोले- आतंकवाद को पनाह और प्रोत्साहन देने वालों को बेनकाब करता रहेगा भारत

15 अगस्‍त 1947 को इस भारतीय ने इंग्‍लैंड में यूनियन जैक उतारकर फहरा दिया था तिरंगा

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 16, 2019, 5:20 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...