लाइव टीवी

जम्मू-कश्मीर के बच्चे राष्ट्रवादी, कभी-कभी गलत दिशा में चले जाते हैं: राजनाथ सिंह

भाषा
Updated: January 22, 2020, 2:25 PM IST
जम्मू-कश्मीर के बच्चे राष्ट्रवादी, कभी-कभी गलत दिशा में चले जाते हैं: राजनाथ सिंह
राजनाथ सिंह बोले, जम्मू-कश्मीर के बच्चे राष्ट्रवादी हैं

दिल्ली में गणतंत्र दिवस के उपलक्ष्य में आयोजित एनसीसी (NCC) के शिविर में रक्षा मंत्री ने कहा, 'जम्मू-कश्मीर (Jammu-Kashmir) के बच्चे राष्ट्रवादी हैं, उन्हें किसी और तरीके से नहीं देखा जाना चाहिए.

  • Share this:
नई दिल्ली. रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह (Defence Minister Rajnath Singh) ने बुधवार को कहा कि जम्मू-कश्मीर के बच्चे राष्ट्रवादी हैं लेकिन कभी-कभी वे गलत दिशा में चले जाते हैं. कुछ दिन पहले प्रमुख रक्षा अध्यक्ष जनरल बिपिन रावत (Bipin Rawat) ने कहा था कि कश्मीर में 10 से 12 साल के लड़के-लड़कियों को कट्टरपंथी बनाया जा रहा है जो चिंता का विषय है. दिल्ली में गणतंत्र दिवस के उपलक्ष्य में आयोजित एनसीसी (NCC) के शिविर में रक्षा मंत्री ने कहा, 'जम्मू-कश्मीर (Jammu-Kashmir) के बच्चे राष्ट्रवादी हैं, उन्हें किसी और तरीके से नहीं देखा जाना चाहिए. हां, कभी-कभी वे गलत दिशा में चले जाते हैं.'

रक्षा मंत्री से नेशनल कैडेट कोर में शामिल होने के लिए राज्य के बच्चों को प्रेरित किए जाने के बारे में राय पूछी गई थी जिसके जवाब में सिंह ने यह कहा.



उन्होंने कहा, बच्चे तो बच्चे ही होते हैं. उन्हें जिस तरह से प्रेरित किया जाना चाहिए, कभी-कभार लोग उन्हें उस तरीके से प्रेरित नहीं करते. बल्कि उन्हें तो गलत दिशा में भेज दिया जाता है. इसलिए बच्चों को इसका दोष नहीं दिया जाना चाहिए. जो लोग उन्हें गलत दिशा में बढ़ावा दे रहे हैं, दोष उन्हें दिया जाना चाहिए. उन्हें गलत दिशा में मोड़ रहे लोग दोषी हैं.

सिंह ने कहा, अमेरिका भी धर्मशासित देश है. भारत एक धर्मशासित देश नहीं है क्यों? क्योंकि हमारे साधु-संतों ने न केवल हमारी सीमाओं के भीतर रहने वाले लोगों को अपने परिवार का हिस्सा माना बल्कि पूरी दुनिया में रहने वाले लोगों को उन्होंने एक परिवार बताया.

ये भी पढ़ें : पाक, यहां तक कि अमेरिका भी धर्मशासित देश है, केवल हम ही धर्मनिरपेक्ष: राजनाथ

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 22, 2020, 2:25 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर