चीन का आरोप, भारत ने किया सिक्किम सीमा पर हुई 1890 की संधि का उल्लंघन

भारत चीन बॉर्डर (फाइल फोटो)

भारत चीन बॉर्डर (फाइल फोटो)

चीन ने भारतीय सेना पर सि​क्किम के पास चीनी सीमा को पार करने का आरोप लगाते हुए इसे 1890 के संधि का उल्लंघन बताया है. चीन ने भारत पर ब्रिटेन और चीन के बीच सिक्किम और तिब्बत को लेकर हुए 1890 में हुए संधि के उल्लंघन का आरोप लगाया है.

  • Share this:

चीन ने भारतीय सेना पर सि​क्किम के पास चीनी सीमा को पार करने का आरोप लगाते हुए इसे 1890 के संधि का उल्लंघन बताया है. चीन ने भारत पर ब्रिटेन और चीन के बीच सिक्किम और तिब्बत को लेकर हुए 1890 में हुए संधि के उल्लंघन का आरोप लगाया है.

चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता जेंगे शुआंग ने सोमवार को कहा, 'भारत-चीन सीमा का सि​क्किम खंड ​ब्रिटेन और चीन के बीच सिक्किम और तिब्बत को लेकर 1890 में हुए संधि में परिभाषित की गई है.'

शुआंग ने दावा किया कि भारतीय सरकारों ने लिखित रूप में इस कंवेंशन से सहमति जताई है. शुआंग ने इस सीमा निर्धारण के उल्लंघन को काफी गंभीर बताया है.



उन्होंने कहा कि चीन और भारत के दस्तावेजों के अनुसार भारत की आजादी के बाद से भारत के पूर्व प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू ने कई बार स्पष्ट रूप से मान्यता दी थी कि चीन के शी-जैंग (तिब्बती स्वायत्त क्षेत्र) और सिक्किम के बीच सीमा संधि में परिभाषित हैं. यह कंवेंशन चीन और भारत दोनों के लिए बाध्य है.
वर्तमान विवाद दोको-ला (या दोकलाम) तिराहे पर है, जहां भारत ने पहले भूटान की तरफ चीन द्वारा सड़क निर्माण का विरोध किया था. भूटान में स्थित इस जगह पर सड़क निर्माण को लेकर भूटान ने भी आपत्ति दर्ज कराई थी.

इस तिराहे पर सिक्किम, चीन और भूटान की सीमाएं मिलती हैं. सिक्किम सीमा पर भारत अपना दावा करता है जबकि चीन का कहना है कि 1890 के समझौते के अनुसार यह चीन का हिस्सा है.

भूटान के डोका ला में चीन के सड़क निर्माण को लेकर चल रहे विवाद में भारत के हस्तक्षेप के बाद चीन ने मानसरोवर यात्रा भी रोक दी. चीन भारत सेना पर सीमा पार करने का भी आरोप लगाया है.

ये भी पढ़ें

चीनी अखबार की चेतावनी, तनाव कम नहीं हुआ तो भारत के साथ युद्ध पक्‍का

चीन को जेटली का करारा जवाब, '1962 और 2017 के भारत में काफी फर्क' 

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज