सैन्य फायदे के लिए अंतरिक्ष का उपयोग करने की कोशिश कर रहा है चीन

सैन्य फायदे के लिए अंतरिक्ष का उपयोग करने की कोशिश कर रहा है चीन
चीनी PLA सैनिकों की एक टुकड़ी की फाइल फोटो (ANI)

चीन के अंतरिक्ष कार्यक्रम (Chinese space programme) में पिछले साल 8 बिलियन अमेरिकी डॉलर (USD) यानि 58 हजार करोड़ से ज्यादा का अनुमानित बजट था. और इस मामले में वह सिर्फ अमेरिका (America) से पीछे था.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 31, 2020, 8:49 PM IST
  • Share this:
हांगकांग. आधुनिक सेना (Modern army) बनाने की अपनी महत्वाकांक्षा के अनुरूप, चीन (China) अंतरिक्ष में भी हावी होने (dominating space) की कोशिश कर रहा है. इस प्रयास को अंतरिक्ष प्रक्षेपणों की संख्या (number of space launches) से समझा जा सकता है, जो कि यह वर्षों से किये जा रहे हैं. चीन वह देश है जिसने 2018 और 2019 में सबसे अधिक अंतरिक्ष प्रक्षेपण (Space launching) किए. और इस साल वह अपनी योजना के मुताबिक प्रक्षेपित किये जाने के लिए निर्धारित 40 में से 22 अंतरिक्ष यान लॉन्च कर चुका हैं. चीन इस बात को स्वीकार नहीं करता है कि उसका महत्वाकांक्षी अंतरिक्ष कार्यक्रम (ambitious space programme) उसकी सेना पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (PLA) के नियंत्रण में है.

चीन के अंतरिक्ष कार्यक्रम (Chinese space programme) में पिछले साल 8 बिलियन अमेरिकी डॉलर (USD) यानि 58 हजार करोड़ से ज्यादा का अनुमानित बजट था. और इस मामले में वह सिर्फ अमेरिका (America) से पीछे था. इतने धन को लगाने से उसने प्रभावशाली उपलब्धियां भी अर्जित की हैं. पिछले साल, चीन ने अपने चांग ई-4 रोवर (Chang'e 4 Rover) को चंद्रमा (Moon) के अंधेरे में रहने वाले भाग की ओर उतारा, जिससे राष्ट्र को अंतरिक्ष (space) में एक अग्रणी खिलाड़ी माना जाने लगा और इस उपलब्धि ने उसे इस क्षेत्र को रणनीतिक प्रतिस्पर्धा (Strategic competition) के क्षेत्र में ऊंचा स्थान दिलाया.

सैन्य फायदों के लिए प्रयोग किया जा रहा चीन का अंतरिक्ष प्रोग्राम
अभी हाल ही में, 23 जून को, चीन ने अपने दोहरे उपयोग (यानी नागरिक और सैन्य दोनों के) सटीक नेविगेशन और समय (PMT) प्रणाली के वैश्विक कवरेज को पूरा करने के लिए अपना अंतिम बेईडौ उपग्रह BeiDou लॉन्च किया. वर्तमान में 30 BeiDou उपग्रह पृथ्वी की कक्षा में हैं, जो पांच मुख्य कामों के लिए चीन को सक्षम बनाते हैं: वास्तविक समय में नेविगेशन, तेजी से स्थिति बदलना, सटीक समय, स्थान की रिपोर्टिंग और लघु संदेश संचार. BeiDou निश्चित रूप से PLA की बहुत मदद करता है क्योंकि यह दूर-दराज के क्षेत्रों में काम आता है.
अमेरिका के थिंक-टैंक जैमस्टाउन फाउंडेशन ने 19 अगस्त को एक वेबिनार आयोजित किया, जिसका शीर्षक था "चीन की अंतरिक्ष महत्वाकांक्षाएं: प्रतियोगिता के उभरते आयाम." इसमें एक वक्ता डीन चेंग, जो द हेरिटेज फाउंडेशन में वरिष्ठ अनुसंधान फेलो हैं, उन्होंने कहा कि बीजिंग का अंतरिक्ष कार्यक्रम व्यापक राष्ट्रीय शक्ति की चीन की केंद्रीय अवधारणा से जुड़ा हुआ है. "यह मूल रूप से चीनी कैसे सोचते हैं कि वे कैसे संतुलन की अवधारणा बनाते हैं, और वे अन्य देशों के साथ कैसे तुलना करते हैं से जुड़ा है."



यह भी पढ़ें: वित्त वर्ष के शुरुआती 4 महीनों में ही राजकोषीय घाटा बजट अनुमान के पार निकला!

चीन अपनी सामरिक शक्ति को अंतरिक्ष तक विस्तार दे चुका है. मसलन ताइवान का बचाव करने के लिए जा रहे एक अमेरिकी नौसेना के विमान वाहक पोत को अब अधिक खतरा होगा, क्योंकि चीन भारत-प्रशांत क्षेत्र में अपने उपग्रहों की स्थिति में सुधार कर रहा है. अंतरिक्ष-आधारित सेंसर बैलिस्टिक और भूमि पर हमले करने वाली क्रूज मिसाइलों के जरिए वह और भी अधिक सटीक तरीके से हमला कर सकता है. बीजिंग की ओर से ऐसे में दी जाने वाली "स्टार वार्स" की धमकी बहुत वास्तविक है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज