अपना शहर चुनें

States

73वें आर्मी डे पर बोले सेना प्रमुख, चीन ने LAC को बदलने की साजिश रची, भारत ने मुंहतोड़ जवाब दिया

नरवणे ने कहा, मैं आपको आश्वासन देता हूं कि गलवान के नायकों की शहादत व्यर्थ नहीं जाएगी.
नरवणे ने कहा, मैं आपको आश्वासन देता हूं कि गलवान के नायकों की शहादत व्यर्थ नहीं जाएगी.

73rd Army Day: जनरल नरवणे ने 'सेना दिवस परेड' के मौके पर कहा कि सीमा पर एकतरफा बदलाव की साजिश का मुंहतोड़ जवाब दिया गया है और पूर्वी लद्दाख की गलवान घाटी में भारतीय सैनिकों का बलिदान व्यर्थ नहीं जाएगा.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 15, 2021, 7:27 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. 73वें आर्मी डे (73rd Army Day) के मौके पर भारतीय सेना प्रमुख जनरल एमएम नरवणे (Indian Army chief General MM Naravane) ने एक बार फिर पड़ोसी मुल्क पाकिस्तान (Pakistan) और चीन (China) को चेतावनी दी है. एलएसी पर घुसपैठ की कोशिश कर रहे चीन को कड़ा संदेश देते हुए नरवणे ने कहा कि किसी को भारतीय सेना (Indian Army) के धैर्य की परीक्षा लेने की गलती नहीं करनी चाहिए, हालांकि वह उत्तरी मोर्चे पर जारी सीमा गतिरोध को बातचीत और राजनीतिक उपायों से हल करने को प्रतिबद्ध हैं.

जनरल नरवणे ने 'सेना दिवस परेड' के मौके पर कहा कि सीमा पर एकतरफा बदलाव की साजिश का मुंहतोड़ जवाब दिया गया है और पूर्वी लद्दाख की गलवान घाटी में भारतीय सैनिकों का बलिदान व्यर्थ नहीं जाएगा. अपने संबोधन में उन्होंने कहा, 'हम बातचीत और राजनीतिक प्रयासों के माध्यम से विवाद हल करने के लिए प्रतिबद्ध हैं लेकिन किसी को भी हमारे धैर्य की परीक्षा लेनी की गलती नहीं करनी चाहिए.'





15 जून को गलवान घाटी में हुआ था संघर्ष
गलवान घाटी में पिछले साल 15 जून को चीनी सैनिकों के साथ संघर्ष में भारतीय सेना के 20 जवान शहीद हुए थे. चीन ने संघर्ष में हताहत हुए अपने जवानों की संख्या सार्वजनिक नहीं की है. एक अमेरिकी खुफिया रिपोर्ट के अनुसार चीन के भी 35 सैनिक मारे गए थे.

सेना प्रमुख ने कहा कि स्थिति को नियंत्रण में लाने के लिए भारत और चीन के बीच आठ दौर की सैन्य वार्ता भी हुई है. उन्होंने कहा, ‘हम आपसी और समान सुरक्षा के आधार पर वर्तमान स्थिति का समाधान खोजना जारी रखेंगे.’
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज