Home /News /nation /

कोरोना वायरस : चीन की कंपनी की सफाई-किट में कोई खराबी नहीं, टाइमिंग के चलते नतीजों में दिख रहा है अंतर

कोरोना वायरस : चीन की कंपनी की सफाई-किट में कोई खराबी नहीं, टाइमिंग के चलते नतीजों में दिख रहा है अंतर

कंपनी ने ये भी कहा कि उन्हें पुणे के नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी से इसे बनाने का अप्रूवल था.

कंपनी ने ये भी कहा कि उन्हें पुणे के नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी से इसे बनाने का अप्रूवल था.

इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (ICMR) ने सोमवार को राज्य सरकारों से कहा कि चीन की दो कंपनियों वॉन्डफो और Zhuhai Livzon Diagnostics की रैपिड किट का इस्तेमाल तुंरत बंद किया जाए

    चेन्नई. कोरोना वायरस (Coronavirus) के संक्रमण पर लगाम लगाने के लिए रैपिड टेस्ट किट को गेम चेंजर के तौर पर देखा जा रहा था. लेकिन अब इसमें सही नतीजे न आने के बाद रोक लगा दी गई है. इस बीच इस किट को बनाने वाली चीन की एक कंपनी वॉन्डफो बायोटेक (Wondfo Biotech) ने सफाई दी है. कंपनी ने कहा है कि उनकी किट में कोई खराबी नहीं है और टेस्ट की टाइमिंग के चलते नतीजों में अंतर दिख रहा है. कंपनी ने ये भी कहा कि उन्हें पुणे के नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी से इसे बनाने का अप्रूवल था.

    कंपनी की सफाई
    सीएनन न्यूज़ 18 को बयान जारी करते हुए कंपनी ने कहा कि वो सरकार के फैसले से हैरान और दुखी है. बता दें कि केंद्र सरकार ने कोरोना वायरस के संक्रमण पर नजर रखने के लिए रैपिड किट टेस्ट की शुरुआत की थी, लेकिन खराब नतीजे आने के चलते सोमवार को इसके इस्तेमाल पर रोक लगा दी गई. इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च ने सोमवार को राज्य सरकारों से कहा कि चीन की दो कंपनियों वॉन्डफो और Zhuhai Livzon Diagnostics की रैपिड किट का इस्तेमाल तुंरत बंद करें. जबकि 10  दिन पहले ही इसके इस्तेमाल की इजाजत दी गई थी.

    क्या कहते हैं एक्सपर्ट
    इस बीच मेडिकल एक्सपर्ट सुमंत रमण का कहना है कि ये समझ से बाहर है कि अलग-अलग समय और परिस्थितियों में इसके परिणामों के लिए रैपिड टेस्ट किट का परीक्षण भारत में क्यों नहीं किया गया. उन्होंने ये भी कहा कि हो सकता है कि किट की एक खेप में खराबी हो. लेकिन अब NIV पुणे को इसका जवाब देना चाहिए.

    कीमत पर सवाल
    इस बीच भारत सरकार ने कहा है कि उन्हें किट से कोई नुकसान नहीं हुआ है. इस बीच दिल्ली हाईकोर्ट ने आदेश में कहा है कि अभी की स्थिति को देखते हुए कोविड-19 टेस्ट किट 400 रुपये से ज्यादा के रेट पर नहीं बेची जानी चाहिए. आपको बता दें कि चीन से मंगाकर कोविड रैपिड जांच के लिए पांच लाख किट IMRC को 145 फीसदी के मुनाफे पर बेची गई.

    ये भी पढ़ें:-

    मुंबई पुलिस का फैसला, 55 साल से ज्यादा उम्र के पुलिसकर्मी नहीं करेंगे ड्यूटी

    इस सरकारी कंपनी में आज से शुरू हुई मैन्युफैक्चरिंग, दो शिफ्ट में होगा काम

    Tags: Corona epidemic, Coronavirus in India

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर