• Home
  • »
  • News
  • »
  • nation
  • »
  • खुफिया रिपोर्ट में खुलासा, तिब्बती लोगों पर जुल्म, जबरिया सेना में भर्ती कर रहा चीन

खुफिया रिपोर्ट में खुलासा, तिब्बती लोगों पर जुल्म, जबरिया सेना में भर्ती कर रहा चीन

चीनी सेना में तिब्बत के लोगों को जबरदस्ती शामिल किया जा रहा है. (फाइल फोटो)

चीनी सेना में तिब्बत के लोगों को जबरदस्ती शामिल किया जा रहा है. (फाइल फोटो)

ड्रैगन अब तिब्बत के लोगों (Tibetan People) को जबरन सेना में भर्ती कर रहा है. कम्युनिस्ट शासन ने हर घर से व्यक्ति का चीनी मिलिशिया में शामिल होना जरूरी कर दिया है. इस बात का खुलासा खुफिया रिपोर्ट में हुआ है.

  • News18Hindi
  • Last Updated :
  • Share this:

नई दिल्ली. दुनिया की सबसे ताकतवर फौज तैयार करने में लगे चीन (China) ने अब अपने देश के नागरिकों के साथ जबरदस्ती भी शुरू कर दी है. ड्रैगन अब तिब्बत के लोगों को जबरन सेना में भर्ती कर रहा है. कम्युनिस्ट शासन ने हर घर से व्यक्ति का चीनी मिलिशिया में शामिल होना जरूरी कर दिया है. इस बात का खुलासा खुफिया रिपोर्ट में हुआ है.

भारत के साथ लगते तिब्बत के इलाके में रहने वाले लोगों के हर घर से 18 से 40 साल तक के उम्र के एक व्यक्ति को चीनी मिलिशिया में शामिल होना अनिवार्य कर दिया गया है. हालांकि 18 साल के उम्र के बाद चीन के हर युवा को अपना रजिस्ट्रेशन मिलेट्री सर्विसिज के लिए करना होता है, लेकिन फौज में शामिल होना अब जरूरी नहीं. अब चीन ने फिर से सेना में शामिल होना अनिवार्य कर दिया है. ये अनिवार्यता चीनी नागरिकों के लिए नहीं बल्कि तिब्बत के लोगों पर जबरन थोपी जा रही है.

फिलहाल डोकलाम के पास चुंबी वैली में बड़ी भर्ती का काम जारी है. सूत्रों के मुताबिक इसी साल अगस्त से भर्ती की प्रक्रिया शुरू की गई है. कुल 400 युवाओं को भर्ती करने की योजना पर काम हो रहा है. इस भर्ती के बाद सभी युवाओं को एक साल के लिए ल्हासा के पास ट्रेनिंग दी जाएगी.

इन्हें भारत-चीन वास्तविक नियंत्रण रेखा पर तैनात किया जाएगा
ट्रेनिंग के बाद इन्हें भारत-चीन वास्तविक नियंत्रण रेखा पर तैनात किया जाएगा. इससे पहले के भर्ती अभियान में 100-100 लोगों के दो बैच तैयार किए थे. बताया जा रहा है कि इन्हें ट्रेनिंग के बाद तैनात किया जा चुका है. इनका इस्तेमाल वो ह्यूमन इंटेलीजेंस इकट्ठा करने के लिए करने वाला है. इनकी तैनाती उन बॉर्डर इलाकों में होगी जहां से व्यापार होता है.

चीन ने बाकायदा स्पेशल तिब्बत आर्मी यूनिट तैयार की है और इसका नाम रखा गया है मिमांग चेटोन. तिब्बती भाषा में इसका मतलब है पब्लिक के लिए. सूत्रों की मानें तो जिन बैच की ट्रेनिंग पूरी भी हो चुकी है उन्हें चुंबी वैली के युतुंग, चीमा, रिनचेंगंग, पीबी थांग और फारी में तैनात किया गया गया है.

दरअसल ये युवा तिब्बत की विषम परिस्थितियों में चीनी सेना से बेहतर तरीके से लड़ सकते हैं. चीनी सेना तिब्बत के पठार में ज्यादा दिन तक टिक नहीं सकती. पैंगॉन्ग के दक्षिण छोर पर भारतीय स्पेशल फ्रंटियर फोर्स के कब्जे के बाद से ही चीन ने तिब्बतियों की मिलिशिया फोर्स तैयार करने में तेजी लाई है. भारतीय स्पेशल फ्रंटियर फोर्स में तिब्बत के युवा भी शामिल हैं. इससे पहले पूर्वी लद्दाख के दूसरी ओर नागरी से भी इसी साल जुलाई ऐसी ही भर्ती की गई है.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज