चीन फिर देगा धोखा! पीछे हटने की बात कह कर LAC पर और बढ़ा रहा सैनिक

चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग.
चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग.

India China Dispute: भारत और चीन हाल ही में डिसएंगेजमेंट पर राजी हुए थे लेकिन एक बार फिर चीन अपनी नापाक चाल चलता दिख रहा है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 20, 2020, 12:45 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. पूर्वी लद्दाख (East Ladakh) में वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC) पर भारत और चीन (India China) के बीच गतिरोध जारी है. बीते दिनों खबर आई थी कि दोनों देश डिसएंगेजमेंट की प्रक्रिया के लिए तैयार हो गए हैं और उन संरचनाओं को ध्वस्त करेंगे जो इस साल मई के बाद तैयार किए गए हैं. हालांकि चीन एक बार फिर अपने वादे से पीछे हटता दिख रहा है.

अंग्रेजी अखबार हिन्दुस्तान टाइम्स के अनुसार चीन की पीपुल्स लिबरेशन आर्मी ने पोस्ट्स की रिइंफोर्समेंट, सैनिकों का स्थानांतरण और बीते 30 दिनों में अक्साई चिन के कब्जे वाले जमीन पर सड़क निर्माण को और तेज कर दिया है. रिपोर्ट के अनुसार यह सब इस बात के स्पष्ट संकेत हैं कि चीन 3488 किलोमीटर लंबे LAC पर लंबे समय तक के गतिरोध के लिए तैयार हो रहा है. साथ ही वह भारत पर भी दबाव बना रहा है. बता दें दोनों देशों में अब तक 8 बार सैन्य वार्ता हो चुकी है और 9वीं अगले कुछ दिनों में होने वाली है.

किजिल जिग्ला में सैनिकों की तैनाती और बढ़ा दी 
रिपोर्ट के अनुसार वरिष्ठ सैन्य कमांडर्स का दावा है कि चीन की PLA ने समर लुंगपा, माउंट सजुम, रेचिन ला के दक्षिण में 10 डोंगिया बना ली हैं. साथ ही चीन ने दौलत बेग ओल्डी से 70 किलोमीटर पूर्व में स्थित किजिल जिग्ला में सैनिकों की तैनाती और बढ़ा दी है.



शेंडोंग से स्पंगगुर गैप, चुशुल के दक्षिण में सड़क पर 60 से अधिक हैवी इक्वीपमेंट्स ट्रांसपोर्ट व्हीकल्स की आवाजाही देखी गई है और लद्दाख में एलएसी पर चीनियों द्वारा निगरानी उपकरण लगाए जा रहे हैं. चीनी टैंक ट्रांसपोर्टर्स को भी LAC से 60 किमी पूर्व स्थित गोबक में देखा गया है. इससे इस बात के साफ संकेत हैं कि पीएलए ने अपने सैनिकों की संख्या में कोई कमी नहीं की है. इसके साथ ही डेमचोक के उत्तर-पूर्व में रुडोग, मापोथेंग, सुमक्सी, और चांग ला के पश्चिम में अक्साई चिन में सैनिकों की फिर से तैनाती हुई है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज