सेना ने PLA को साफ कहा, LAC में तब्दीली स्वीकार नहीं: सरकारी सूत्र

सेना ने PLA को साफ कहा, LAC में तब्दीली स्वीकार नहीं: सरकारी सूत्र
चीनी सेना गलवान घाटी और संघर्ष के कुछ स्थानों से पीछे हटी है लेकिन पेंगांग सो, देपसांग ओर कुछ अन्य क्षेत्रों में सैनिकों के पीछे हटने की प्रक्रिया आगे नहीं बढ़ी है. (File Photo)

सूत्रों (Government Sources) ने बताया है कि सैन्य वार्ता में गतिरोध उत्पन्न हो गया है क्योंकि भारतीय सेना (Indian Army) जोर देकर कह रही है कि तीन महीने से अधिक पुराने सीमा गतिरोध को हल करने के लिए PLA को इस वर्ष अप्रैल की यथास्थिति को बहाल करना होगा.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 22, 2020, 6:16 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. चीनी सेना (PLA) पूर्वी लद्दाख में सीमा गतिरोध (Border Dispute) के समाधान को लेकर गंभीर नहीं है. सूत्रों (Government Sources) ने बताया कि सैन्य वार्ता में गतिरोध उत्पन्न हो गया है क्योंकि भारतीय सेना जोर देकर कह रही है कि तीन महीने से अधिक पुराने सीमा गतिरोध को हल करने के लिए PLA को इस वर्ष अप्रैल की यथास्थिति को बहाल करना होगा.

भारतीय सेना ने दिया जोरदार जवाब
सूत्रों ने बताया कि भारतीय सेना ने चीन की पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (पीएलए) को स्पष्ट रूप से कहा है कि वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) में तब्दीली (शिफ्टिंग) उसे स्वीकार्य नहीं है. उन्होंने बताया, ‘भारतीय सेना के जोरदार जवाब के कारण पीएलए को अपनी गलत हरकतों के लिए अप्रत्याशित और अनपेक्षित परिणामों का सामना करना पड़ा है.’ एक अन्य सूत्र ने बताया कि चीनी पक्ष मुख्य बातों से ध्यान हटाते हुए इधर-उधर की रणनीति का सहारा ले रहा है और सीमा गतिरोध का हल खोजने में कोई दिलचस्पी नहीं दिखा रहा है.

चीन ने जताई थी सहमति
भारत और चीन ने बृहस्पतिवार को मौजूदा समझौतों और प्रोटोकॉल के तहत, लंबित मुद्दों के जल्द निपटारे पर सहमति जताई थी. दोनों पक्षों के बीच पूर्वी लद्दाख में सीमा संबंधी गतिरोध को लेकर ताजा राजनयिक वार्ता के बाद विदेश मंत्रालय ने यह बात कही थी. पिछले ढाई महीनों में भारत और चीन के बीच सैन्य और राजनयिक स्तरीय कई दौर की वार्ता हुई है लेकिन पूर्वी लद्दाख में सीमा विवाद के समाधान के लिए कोई महत्वपूर्ण प्रगति नहीं हुई है.



बृहस्पतिवार को भी दोनों पक्षों के बीच राजनयिक वार्ता का एक और दौर हुआ जिसके बाद विदेश मंत्रालय ने कहा था कि भारत और चीन ने मौजूदा समझौतों और प्रोटोकॉल के तहत लंबित मुद्दों को ‘शीघ्र आधार’ पर निपटाने पर सहमति जताई है. सूत्रों ने बताया कि हालांकि बैठक में कोई महत्वपूर्ण परिणाम नहीं निकल सका.

विशेष प्रतिनिधियों की बातचीत के बाद पीछे हटी सेनाएं
पांच जुलाई को राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजित डोभाल और चीन के विदेश मंत्री वांग यी द्वारा सीमा विवाद सुलझाने के रास्तों की तलाश के लिये करीब दो घंटे तक टेलीफोन पर बातचीत हुई थी. डोभाल और वांग सीमा वार्ता के लिए विशेष प्रतिनिधि हैं. इसके बाद से छह जुलाई को सैनिकों के पीछे हटने की औपचारिक प्रक्रिया की शुरूआत हुई थी.

सूत्रों ने बताया कि चीनी सेना गलवान घाटी और संघर्ष के कुछ स्थानों से पीछे हटी है लेकिन पेंगांग सो, देपसांग ओर कुछ अन्य क्षेत्रों में सैनिकों के पीछे हटने की प्रक्रिया आगे नहीं बढ़ी है. कोर कमांडर स्तर की वार्ता के पांच दौर में भारतीय पक्ष ने जल्द से जल्द चीनी सैनिकों के पूरी तरह से पीछे हटने और पूर्वी लद्दाख के सभी क्षेत्रों में अप्रैल से पहले की यथास्थिति तत्काल बहाल करने पर जोर दिया है.

सर्दियों के भारतीय सेना कर रही तैयारियां
दोनों पक्षों के राजनयिक और सैन्य वार्ता में लगे होने के बीच भारतीय सेना सर्दियों के महीनों में पूर्वी लद्दाख में सभी प्रमुख क्षेत्रों में सैनिकों की अपनी मौजूदा ताकत बनाए रखने के लिए विस्तृत तैयारी कर रही है. गौरतलब है कि 15 जून को गलवान घाटी में हिंसक झड़पों के बाद दोनों पक्षों के बीच तनाव बढ़ गया. हिंसक झड़प में 20 भारतीय सैन्यकर्मी शहीद हो गये थे. चीनी सैनिक भी हताहत हुए लेकिन उसने इस संबंध में कोई जानकारी नहीं दी. अमेरिकी खुफिया रिपोर्ट के अनुसार चीन की तरफ हताहतों की संख्या 35 है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज