• Home
  • »
  • News
  • »
  • nation
  • »
  • CHINA NOT ISSUING VISAS TO INDIANS EVEN AFTER GETTING CHINESE VACCINE MINISTRY OF EXTERNAL AFFAIRS

चीनी वैक्सीन लगवाने के बाद भी भारतीयों को वीजा नहीं दे रहा चीन: विदेश मंत्रालय

चीन ने भारतीय नागरिकों के प्रवेश के लिए चीनी वैक्सीन को अनिवार्य किया हुआ है. (सांकेतिक फोटो)

MEA Press Briefing: पंद्रह मार्च को चीन ने भारत एवं 19 अन्य देशों से आने वाले यात्रियों के लिए चीनी कोविड-19 वैक्सीन लगवाना अनिवार्य कर दिया था.

  • Share this:
नई दिल्ली. भारतीय विदेश मंत्रालय (Ministry of External Affairs) ने जानकारी दी है कि कुछ भारतीयों ने चीन जाने के लिए चीनी वैक्सीन (Chinese Vaccine) लगवाई है. विदेश मंत्रालय ने कहा कि नवंबर 2020 से भारतीय नागरिक चीन नहीं जा पाए हैं. मंत्रालय ने कहा कि मार्च में चीनी दूतावास ने चीनी वैक्सीन लगवाने वाले लोगों को वीज़ा देने की बात कही थी, चीनी वैक्सीन लेने के बाद कुछ भारतीय नागरिकों ने चीन के वीज़ा के लिए आवेदन दिया था. लेकिन चीनी वैक्सीन लगने के बाद अभी तक उन्हें वीज़ा नहीं दिए गए. ऐसे में चीन जाने वाले भारतीय जल्द ही वीजा मिलने की उम्मीद जता रहे हैं. कोरोना वायरस के प्रकोप के चलते चीन ने भारतीय नागरिकों पर प्रतिबंध लगाया हुआ है, हालांकि चीनी नागरिकों के भारत आने पर कोई रोक नहीं है.

कुछ दिन पहले खबर सामने आई थी कि चीन की शर्त के मुताबिक चीनी कोविड-19 टीके लगवा चुके 300 से अधिक भारतीयों ने उससे (चीन से) यात्रा पाबंदियां हटाने एवं उन्हें अपने काम-धंधे पर लौटने देने की इजाजत देने की अपील की है. पंद्रह मार्च को चीन ने भारत एवं 19 अन्य देशों से आने वाले यात्रियों के लिए चीनी कोविड-19 वैक्सीन लगवाना अनिवार्य कर दिया था.

ये भी पढ़ें- बड़ी सहूलियत-अब ग्राहक तय करेंगे किस डिस्‍ट्रीब्‍यूटर से भराना है LPG Cylinder

चीन ने नोटिस में कही थी ये बात
नई दिल्ली में चीनी दूतावास द्वारा जारी किये गये नोटिस में कहा गया था कि 15 मार्च, 2021 से व्यवस्थित तरीके से लोगों की आवाजाही को बहाल करने के उद्देश्य से भारत में चीनी दूतावास एवं वाणिज्य दूतावास चीन द्वारा निर्मित कोविड-19 टीका लेने एवं टीकाकरण प्रमाणपत्र प्राप्त करने वाले लोगों को यात्रा सुविधा प्रदान करेंगे.

इस घोषणा से, चीन में कामधंधा करने वाले लेकिन भारत में कोविड-19 बीमारी की लंबी अवधि के बाद यात्रा पाबंदियों के चलते वहीं फंस गये सैंकड़ों भारतीय दुविधा में आ गये क्योंकि भारत में चीनी टीके उपलब्ध नहीं थे.

चीन में अपने कामधंधे पर लाौटने एवं परिवारों से मिलने के लिए व्याकुल 300 से अधिक भारतीय चीनी टीके के लिए दुबई के अलावा नेपाल, मालदीव जैसे देशों में चले गये और वे वहां एक महीने से अधिक समय तक रहे. इसके चलते उन्हें भारी खर्चा भी उठाना पड़ा. लेकिन उनकी यह कोशिश व्यर्थ गयी क्योंकि चीनी दूतावास ने उनकी वापसी के लिए वीजा जारी करना शुरू नहीं किया है.

ये भी पढ़ें- कराची की सड़कों पर भीख मांग चुकी है ये पाकिस्तानी वकील, अब मिली ग्लोबल पहचान

उसके बाद 202 भारतीयों, जिन्होंने चीनी टीका लगवा लिया है, ने इस माह के प्रारंभ में भारत में चीन के राजदूत सन वीडोंग को संयुक्त पत्र लिखा. उन्होंने अपनी शीघ्र वापसी हेतु मदद की मांग करते हुए बीजिंग में भारतीय दूतावास को भी पत्र लिखा है.

 

इस संबंध में पूछे जाने पर चीन के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता वांग वेनबिन ने सोमवार को मीडिया ब्रीफिंग में कहा कि उन्हें भारत में चीनी दूतावास से संपर्क करना चाहिए.

ये भी पढ़ें- कोरोनाः सोच समझकर कोविन प्लेटफॉर्म पर करें सर्च, वरना अकाउंट हो सकता है ब्लॉक

जब उनसे कहा गया कि वे पहले ही चीनी दूतावास से संपर्क कर चुके हैं लेकिन उन्हें सफलता नहीं मिली तब उन्होंने कहा, मैं पहले ही इस मुद्दे पर चीन का सैद्धांतिक रूख स्पष्ट कर चुका हूं. ब्योरे के लिए मैं अब भी आपको भारत में चीनी दूतावास से संपर्क करने को कहूंगा.’’ (भाषा के इनपुट सहित)