सीमा विवाद: फिंगर एरिया से पीछे जाने में चीन कर रहा आनाकानी, भारत अड़ा

सीमा विवाद: फिंगर एरिया से पीछे जाने में चीन कर रहा आनाकानी, भारत अड़ा
चीनी सेना पूर्वी लद्दाख के फिंगर 8 इलाके से पीछे जाने को तैयार नहीं है. (सांकेतिक फोटो)

INDIA-CHINA STAND OFF: समाचार एजेंसी ANI से बातचीत में सरकार के एक सूत्र ने बताया है कि चीनी सेना फिंगर 8 एरिया के पास से पूरी तरह हटने को तैयार नहीं है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: July 16, 2020, 12:10 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. भारत के साथ लगातार चल रही सैन्य कमांडर लेवल (Army Commander Level Talk) की बातचीत के बावजूद चीन (China) पूर्वी लद्दाख (Eastern Ladakh) के फिंगर एरिया से पीछे जाने को तैयार नहीं है. हालांकि चीन टकराव वाले इलाकों गलवान, हॉटस्प्रिंग और गोगरा पोस्ट एरिया से अपनी सेनाएं पूरी तरह पीछे करने के लिए तैयार है.

समाचार एजेंसी ANI से बातचीत में सरकार के एक सूत्र ने बताया है कि चीनी सेना फिंगर 8 एरिया के पास से पूरी तरह हटने को तैयार नहीं है. गौरतलब है कि पहले भी ऐसी आशंकाएं जताई जा रही थीं कि चीन को फिंगर 8 से पीछे लेकर जाना भारत के लिए बड़ी चुनौती होगी. लेकिन फिंगर 4 के इलाके में चीन ने अपने स्ट्रक्चर अब हटाने शुरू कर दिए हैं. हालांकि भारत की तरफ से बिल्कुल साफ कर दिया गया है कि दोनों सेनाओं को अप्रैल-मई में विवाद से पहले वाली पोजीशन पर जाना होगा.

इससे पहले समाचार एजेंसी पीटीआई ने खबर दी थी कि भारतीय सेना ने चीनी सेना को स्पष्ट संदेश दे दिया है कि अगर वास्तविक नियंत्रण रेखा पर शांति बनाए रखनी है तो सभी प्रयास करने होंगे. भारतीय सेना ने करीब 15 घंटे तक चली बातचीत में चीनी सेना को यह ‘स्पष्ट संदेश’ दिया है कि पूर्वी लद्दाख में आवश्यक तौर पर पहले जैसी स्थिति बहाल की जाए. साथ ही LAC पर शांति एवं स्थिरता वापस लाने के लिए सभी प्रोटोकॉल का पालन करना होगा.



सैन्य कमांडरों के बीच हुई बातचीत
सूत्रों ने बताया कि दोनों देशों की थल सेनाओं के वरिष्ठ कमांडरों के बीच गहन एवं जटिल बातचीत बुधवार तड़के दो बजे तक चली. इसमें भारतीय प्रतिनिधिमंडल ने चीनी पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (पीएलए) को ‘लक्ष्मण रेखा’ से भी अवगत कराया और कहा कि क्षेत्र में संपूर्ण स्थिति बेहतर करने की व्यापक रूप से जिम्मेदारी चीन पर है.

हरिंदर सिंह ने किया नेतृत्व
भारतीय प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व लेफ्टिनेंट जनरल हरिंदर सिंह ने किया, जो लेह स्थित 14 वीं कोर के कमांडर हैं. जबकि चीनी पक्ष का नेतृत्व मेजर जनरल लियु लिन ने किया, जो दक्षिण शिंजियांग सैन्य क्षेत्र के कमांडर हैं. थल सेना प्रमुख जनरल एम एम नरवणे को बातचीत के विवरण से अवगत कराया गया, जिसके बाद उन्होंने वरिष्ठ सैन्य अधिकारियों के साथ चर्चा की.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading