मसूद अजहर पर नरम पड़ा चीन! कहा- भारत की चिंता समझते हैं, सुलझा लेंगे मसला

मसूद अजहर को वैश्विक आतंकी घोषित करने को लेकर संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में 14 मार्च को पेश प्रस्ताव पर चीन ने वीटो लगा दिया था.

News18Hindi
Updated: March 17, 2019, 2:58 PM IST
मसूद अजहर पर नरम पड़ा चीन! कहा- भारत की चिंता समझते हैं, सुलझा लेंगे मसला
फाइल फोटो
News18Hindi
Updated: March 17, 2019, 2:58 PM IST
जैश-ए-मोहम्मद सरगना आतंकी मसूद अजहर का नाम वैश्विक आतंकियों की सूची में डालने के मुद्दे पर चीन का रुख थोड़ा नरम पड़ता दिख रहा है. भारत में चीन के राजदूत लिओ झेंगहुई ने कहा है कि उनका देश भारत की चिंताओं का समझता है और जल्द ही इस मुद्दे को सुलझा लिया जाएगा.

समाचार एजेंसी ANI के अनुसार लिओ ने कहा कि यह सिर्फ तकनीकी रोक है, जिसका मतलब है कि इस मुद्दे पर अभी और विचार किया जाएगा. आप मेरा यकीन करें इसे सुलझा लिया जाएगा. लिओ ने कहा कि मसूद अजहर के संबंध में हम भारत की चिंता समझते हैं. हमारा मानना है कि यह मुद्दा सुलझा लिया जाएगा.

यह भी पढ़ें: IPL 2019 : चेन्नई सुपर किंग्स ने एम.ए चिदंबरम स्टेडियम में शुरू की तैयारी



चीनी दूतावास में होली समारोह के दौरान लिओ ने कहा कि बीते साल वुहान शिखर सम्मेलन के बाद पर द्विपक्षीय सहयोग सही रास्ते पर है. हम इस सहयोग से संतुष्ट हैं, भविष्य के बारे में आशावादी हैं.

यह भी पढ़ें: एक-दूसरे पर मिसाइल ताने थे भारत और पाकिस्तान, US ने किया बीच-बचाव: रिपोर्ट



यह भी पढ़ें:  जब पद्म विभूषण तीजन बाई के सम्मान में राष्ट्रपति भवन ने छत्तीसगढ़ी में किया ट्वीट



यह भी पढ़ें: 107 साल की महिला को पद्मश्री, नंगे पैर पहुंची, सम्‍मान लेकर राष्ट्रपति को दिया आशीर्वाद

बता दें 14 मार्च को चीन ने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में उसे वैश्विक आतंकी घोषित करने वाले प्रस्ताव पर वीटो कर दिया था. संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की '1267 अल कायदा सैंक्शन्स कमेटी' के तहत अजहर को आतंकवादी घोषित करने का प्रस्ताव 27 फरवरी को फ्रांस, ब्रिटेन और अमेरिका ने लाया था.

यह भी पढ़ें: 'दाऊद इब्राहिम और सलाहुद्दीन को भारत को सौंप दे पाकिस्‍तान'

जम्मू कश्मीर के पुलवामा में जैश-ए-मोहम्मद के फिदायीन ने 14 फरवरी को सीआरपीएफ के काफिले पर हमला किया था, जिसमें 40 जवानों की मौत हो गई थी. इस हमले की वजह से भारत और पाकिस्तान के बीच तनाव पैदा हो गया था. कमेटी के सदस्यों के पास प्रस्ताव पर आपत्ति जताने के लिए 10 दिन का वक्त था. यह अवधि बुधवार को (न्यूयॉर्क के) स्थानीय समय दोपहर तीन बजे (भारतीय समयनुसार बृहस्पतिवार रात साढ़े 12 बजे) खत्म होनी थी.

यह भी पढ़ें: प्रचार का शोर थमने के बाद घोषणापत्र जारी नहीं कर सकेंगी पार्टियां: चुनाव आयोग

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...