होम /न्यूज /राष्ट्र /लद्दाख में चीन की सेना ने फिर दिखाई अकड़बाजी, भारतीय चरवाहों को पशु चराने से रोका

लद्दाख में चीन की सेना ने फिर दिखाई अकड़बाजी, भारतीय चरवाहों को पशु चराने से रोका

पूर्वी लद्दाख में PLA द्वारा भारतीय चरवाहों को अपने पशुओं को चराने से रोके जाने का मामला प्रकाश में आया है. (File Photo)

पूर्वी लद्दाख में PLA द्वारा भारतीय चरवाहों को अपने पशुओं को चराने से रोके जाने का मामला प्रकाश में आया है. (File Photo)

पारंपरिक चरागाह में भारतीय चरवाहों द्वारा अपने पशुओं को चराने को लेकर विवाद हुआ. चीन के सैनिकों ने आपत्ति जताई. हालांकि ...अधिक पढ़ें

श्रीनगरः पूर्वी लद्दाख में एक बार फिर चीन की सेना (PLA) द्वारा भारतीय चरवाहों को अपने पशुओं को चराने से रोके जाने का मामला प्रकाश में आया है. सूत्रों की मानें तो पिछले हफ्ते पारंपरिक चरागाह में भारतीय चरवाहों द्वारा अपने पशुओं को चराने को लेकर विवाद हुआ. चीन के सैनिकों ने आपत्ति जताई. हालांकि, इस मसले को दोनों देशों ने कमांडर स्तर की वार्ता में सुलझा लिया. सेना के सूत्रों के मुताबिक किसी तरह के फेसऑफ, धक्कामुक्की या बैनर ड्रिल की नौबत नहीं आई. यह घटना डेमचौक के सैंडल पास के चार्डिंग निंगलुंग नाला (CNN) के ट्रैक जंक्शन की बताई जा रही है.

पीटीआई-भाषा के मुताबिक गत 21 अगस्त को कुछ भारतीय चरवाहे एलएसी के पास गए थे. वे भारतीय सीमा में ही थे, लेकिन पीएलए ने उनकी मौजूदगी पर आपत्ति जताई और उनसे वापस चले जाने को कहा. रिपोर्ट के मुताबिक इस इलाके में अक्सर दोनों देशों की सेनाएं सीमा उल्लंघन को लेकर आपत्ति दर्ज कराती रहती हैं. यह मामला सामने आने के बाद भारतीय और चीन के सैन्य अधिकारियों ने बातचीत की और विवाद की स्थिति नहीं उत्पन्न होने दी. यह घटना जिस इलाके की है, एलएसी पर फ्रिक्शन पॉइंट के पास स्थित है और यहां 2020 से दोनों देशों की सेनाएं तैनात हैं. मामले से अवगत सैन्य अधिकारियों ने पीटीआई-भाषा को बताया कि  इस इलाके में ऐसी घटनाएं इसलिए होती हैं, क्योंकि यहां एलएसी क्लियर नहीं है और दोनों ही देश अपने.अपने हिसाब से एलएसी को मानते हैं.

आपको बता दें कि पूर्वी लद्दाख में भारत और चीन के बीच सीमा विवाद को लेकर तनाव की स्थिति बनी हुई है. जून 2020 में गलवान घाटी में हुए टकराव के बाद दोनों देशों के संबंधों में काफी गिरावट आई है. पिछले सप्ताह विदेश मंत्री एस. जयशंकर ने स्पष्ट कहा था कि भारत और चीन के संबंध बहुत बुरे दौर से गुजर रहे हैं. उन्होंने गलवान घाटी में हुए संघर्ष का जिक्र करते हुए कहा था कि अब तक कोई समाधान नहीं निकल पाया है. गत जुलाई में भारत और चीन के बीच 16वें दौर की सैन्य वार्ता हुई थी. इतनी बार की बातचीत के बावजूद सीमा पर डिसइंगेटमेंट को लेकर दोनों देश किसी समाधान पर नहीं पहुंच सके हैं. पैंगोंग त्सो और गोगरा हॉट स्प्रिंग इलाके में अब भी दोनों देशों के सैनिक तैनात हैं. इसके अलावा यहां भारत और चीन दोनों ने उन्नत हथियार भी तैनात किए हैं. (इनपुट पीटीआई-भाषा से)

Tags: Chinese Army, Ladakh, Ladakh Indian Army

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें