Assembly Banner 2021

ऐतिहासिक फैसलाः चीन की कोर्ट ने एक शख्स को पूर्व पत्नी को घर के काम के लिए मुआवजे देने को कहा

कोर्ट ने दोषी पति को सुनाई 7 साल की सजा (सांकेतिक फोटो)

कोर्ट ने दोषी पति को सुनाई 7 साल की सजा (सांकेतिक फोटो)

Unrecognised domestic work: चीनी अदालत के फैसले के तहत एक व्यक्ति को अपनी पूर्व पत्नी को शादीशुदा जिंदगी के समय गृहकार्य करने के एवज में भुगतान करना होगा. कोर्ट ने पत्नी द्वारा किए गए गृहकार्य को "अवैतनिक श्रम" माना है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 24, 2021, 11:11 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. बीजिंग की अदालत (Divorce Court) ने एक शख्स को अपनी पूर्व पत्नी को शादीशुदा जिंदगी के समय गृहकार्य करने के एवज में 50 हजार युआन (7700 डॉलर) का भुगतान करने को कहा है. कोर्ट के इस फैसले चीनी सोशल मीडिया साइट्स पर बहस छेड़ दी है. कोर्ट ने कहा कि महिला को किया गया भुगतान "अवैतनिक श्रम" के लिए होगा, जब एक जोड़े के रूप में दोनों विवाहित थे. चीनी मीडिया के मुताबिक ये अपनी तरह का पहला फैसला है, जिसने चीनी परिवारों में महिलाओं की स्थिति और अमान्य घरेलू कार्य की यथास्थिति पर सवाल खड़े कर दिए हैं.

कोर्ट रिकॉर्ड्स के मुताबिक पुरूष शख्स की पहचान उसके सरनेम चेन से हुई है, जिसने पिछले साल वांग सरनेम वाली अपनी पत्नी से तलाक के लिए अपील दायर की थी, दोनों ने 2015 में शादी की थी. वांग पहले तलाक नहीं देना चाहती थी, लेकिन बाद में अपने वकील के जरिए उसने मुआवजे की गुजारिश की और दलील पेश करते हुए कहा कि उसके पति ने शादीशुदा जिंदगी में घर का कोई काम नहीं किया और ना ही अपने बेटे की जिम्मेदारी उठाई.

कोर्ट ने दोनों के बीच साझा संपत्ति को बराबर-बराबर बांट दिया और फैसला दिया कि वांग कानूनी तौर पर अपने पति चेन से अलग हो गई है, इसलिए चेन को उसे मुआवजे का भुगतान करना होगा. जज फेंग मिआओ ने कहा कि कोर्ट का ये फैसला पीपुल्स रिपब्लिक ऑफ चाइना के सिविल कोड के आर्टिकल 1088 के तहत किया गया है. चीन का ये नया सिविल कोड पिछले साल लागू हुआ था.



चीन की सरकारी मीडिया में छपे एक लेख में कहा गया है, "जब एक पत्नी के ऊपर बच्चों या बुजुर्गों की देखभाल की अतिरिक्त जिम्मेदारी होती है, या फिर दूसरे पति/पत्नी के काम में हाथ बंटाना होता है, तो फिर तलाक की स्थिति में पत्नी/पति का अधिकार बनता है कि वह दूसरे पक्ष से मुआवजे की मांग करे और दूसरे पक्ष को इसका भुगतान करना चाहिए."
बीजिंग की अदालत के इस फैसले पर आधारित 'पूर्व पत्नी को गृह कार्य के लिए 50 हजार युआन का मुआवजा" शीर्षक से प्रकाशित खबर चीनी सोशल मीडिया साइट पर देखते ही देखते वायरल हो गई. बुधवार तक इस स्टोरी को 500 मिलियन से ज्यादा बार देखा गया. हालांकि कुछ सोशल मीडिया यूजर्स ने सवाल उठाया कि मुआवजे की गणना कैसे की गई तो अन्य लोगों ने कहा कि 50 हजार युआन बहुत कम है.

SixthTone न्यूज वेबसाइट के मुताबिक चीन में 2003 के बाद से ही तलाक के मामले लगातार बढ़ रहे हैं. 2019 में चीन में 47 लाख जोड़ों ने तलाक लिया, इनमें से 74 फीसदी मामलों में औरतों ने तलाक का प्रस्ताव रखा.

विशेषज्ञों का कहना है कि औरतों को मिली आजादी और शादी को लेकर विचारों में आए बदलाव का परिणाम तलाक के बढ़ते मामलों के रूप में दिख रहा है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज