लाइव टीवी

कोरोना वायरस: कोलकाता में चीनी मूल के लोगों के साथ नस्लीय भेदभाव

भाषा
Updated: March 25, 2020, 10:22 PM IST
कोरोना वायरस: कोलकाता में चीनी मूल के लोगों के साथ नस्लीय भेदभाव
कोरोना वायरस की दहशत के बीच लोग चीनी मूल के लोगों के साथ नस्लीय भेदभाव कर रहे हैं.

पेशे से एक संगीतकार लेपचा ने टी-शर्ट पहनी एक तस्वीर फेसबुक (Facebook) पर पोस्ट की जिसमें उन्होंने कहा कि वह कोलकाता (Kolkata) से है और वह कभी चीन (China) नहीं गये. लेपचा को पूरी दुनिया में फैली महामारी कोरोना वायरस (Coronavirus) के चलते नस्लीय भेदभाव का सामना करना पड़ा.

  • Share this:
कोलकाता. कोरोना वायरस (Coronavirus) महामारी को लेकर बढ़ती दहशत के बीच शहर में चीनी मूल (Chinese Origin) के लोग नस्लीय भेदभाव का निशाना बने है. इनमें से कुछ लोग जन्म से ही यहां रहते हैं. 41 साल के फ्रांसिस यी लेपचा, जिनके दादा दशकों पहले चीन से आ गये थे, ने कहा कि वह बीमारी फैलने के बाद से उपेक्षा का सामना कर रहे थे.

पेशे से एक संगीतकार लेपचा ने टी-शर्ट पहनी एक तस्वीर फेसबुक (Facebook) पर पोस्ट की जिसमें उन्होंने कहा कि वह कोलकाता (Kolkata) से है और वह कभी चीन (China) नहीं गये. उन्होंने कहा, ‘‘पुरी (Puri) की अपनी हालिया यात्रा के दौरान, मैं लोगों को मुझ पर ताना मारते हुए और मुझे ‘कोरोना’ कहते हुए सुन सकता था. इसके बाद मैंने फैसला किया कि मुझे इसके बारे में कुछ करना चाहिए.’’
उन्होंने कहा, ‘‘मैंने सोशल मीडिया पर एक सफेद टी-शर्ट पहनी हुई अपनी एक तस्वीर पोस्ट की जिसमें कहा गया कि मैं शहर से हूं और मैं कभी भी चीन नहीं गया. यह तस्वीर इंटरनेट पर वायरल हो गई और कई लोगों ने इस घटना को लेकर खेद प्रकट किया.’’





शहर की एक व्यवसायी ने कहा कि उनकी एक परिचित को हाल ही में तंग्रा इलाके में एक किराने की दुकान पर ऐसी ही स्थिति का सामना करना पड़ा था, जिसे कोलकाता के चाइनाटाउन के रूप में भी जाना जाता है.

उन्होंने कहा, ‘‘उनके पिता चीनी मूल के है और मां एक नेपाली है. जब वह आवश्यक वस्तुओं को खरीदने के लिए किराने की दुकान पर गई तो दुकान मालिक ने उन्हें ‘कोरोना’ कहा. लड़की ने इसका विरोध किया जिसके बाद दुकानदार ने माफी मांगी.’’

ये भी पढ़ें-
कोरोना वायरस: जाने-माने शेफ फ्लोयड कार्डोज़ की मौत, हाल ही में आए थे भारत

LPG रसोई गैस सिलेंडर को लेकर IOC ने Paytm के साथ मिलकर शुरू की नई सर्विस


 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: March 25, 2020, 10:22 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर