लाइव टीवी

फिशरमैन कोव रिजॉर्ट की कलाकृतियां देख हैरान रह गए चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग

News18Hindi
Updated: October 12, 2019, 1:52 PM IST
फिशरमैन कोव रिजॉर्ट की कलाकृतियां देख हैरान रह गए चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग
कोवलम के फिशरमैन कोव रिजॉर्ट में रखी गई शिव नटराज मूर्ति

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ( Narendra Modi) और चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग (Xi Jinping) के बीच शिखरवार्ता का आयोजन तटीय शहर कोवलम के फिशरमैन कोव रिजॉर्ट (Fishermankov Resort of Kovalam) में किया गया.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 12, 2019, 1:52 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. महाबलिपुरम के ऐतिहासिक मंदिर परिसर में वार्ता के बाद, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ( Narendra Modi) और चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग (Xi Jinping) के बीच शिखरवार्ता का आयोजन एक बार फिर संस्कृति वातावरण में आयोजित की गई. शनिवार को दोनों नेताओं के बीच शिखर वार्ता का आयोजन तटीय शहर कोवलम के फिशरमैन कोव रिजॉर्ट (Fishermankov Resort of Kovalam) में किया गया है. इस होटल का बागीचे को कई तरह की प्राचीन कलाकृतियों और मूर्तियों से सुशोभित किया  गया, जिनमें से अधिकांस कांस्य की नटराज मूर्तियां हैं.

गौरतलब है कि भगवान शिव की नटराज मूर्ति का उल्लेख 10वीं और 11वीं शताब्दी के चोल युगीन शासन में मिलता है. होटल को खास तौर पर चिदंबरम नटराज की कांस्य मूर्ति से सजाया गया है. वहीं होटल की दूसरी मूर्ति भगवान गणेश की है. जिसमें गणेश एक कमल पर दिखाई दे रहे हैं. इस मूर्ति में भगवान गणेश पर्वत में अपनी सवारी चूहे के साथ नृत्य कर रहे हैं. साथ ही इस मूर्ति के दोनों ओर कांसे की दो युवतियों की मूर्ति भी हैं.

कोवलम के फिशरमैन कोव रिजॉर्ट


शिव और पार्वती से संबंधित कांस्य मूर्तियां

बता दें कि दक्षिण भारत के प्राचीन चोल वंश के राजा शैव मत को मानने वाले थे. उस दौरान शिव और पार्वती से संबंधित कई मूर्तियों का निर्माण किया गया. होटल में एक अन्य मूर्ति में भगवान शिव की पत्नी पार्वती को शिवकामी के रूप में दिखाया गया है. इस मूर्ति का निर्माण 10वीं शताब्दी में किया गया था. इसमें शिवकामी को त्रिभंगा मुद्रा में दिखाया गया है.

कोवलम के फिशरमैन कोव रिजॉर्ट की पार्वती देवी मूर्ति


इसके अतिरिक्त दोनों नेताओं के बीच होने वाले अनौपचारिक शिखर वार्ता के आयोजन स्थल को अन्य मूर्तियों से भी सजाया गया है. जिसमें से प्रमुख रूप से भगवान विष्णु की मूर्ति भी शामिल है. जिन्हें दक्षिण भारत में पेरुमल भी कहा जाता है.
Loading...

साथ ही हिंदू देवी-देवताओं के कई अवतारों से संबंधित कांस्य मूर्तियों से आयोजन स्थल को सजाया गया है. इन मूर्तियों में नरसिंह, अर्धनारी देवी दुर्गा और ऋषि दत्तात्रेय भी शामिल हैं. इन मूर्तियों को राज्य के कई स्थानों से आयोजन स्थल में लाया गया है.

ये भी पढ़ें: 

मोदी-जिनपिंग ने डिनर में इन व्यंजनों का उठाया लुत्फ

दिल्ली की आबोहवा आज से हो सकती है खराब, सांस लेने के लिए नहीं मिलेगी शुद्ध हवा

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 12, 2019, 1:49 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...