Home /News /nation /

chinese visa scam ed registered money laundering case karti chidambaram

चीनी नागरिकों को अवैध तौर पर वीजा दिलाने का मामला, CBI के बाद ED ने भी दर्ज किया मामला, कार्ति चिदंबरम की बढ़ी मुश्किलें

26 मई दिन बुधवार को सीबीआई की टीम कार्ति चिदम्बरम से पूछताछ कर सकती है, ये पूछताछ दिल्ली स्थित केंद्रीय जांच एजेंसी सीबीआई मुख्यालय में पूछताछ में होगी. (File Photo)

26 मई दिन बुधवार को सीबीआई की टीम कार्ति चिदम्बरम से पूछताछ कर सकती है, ये पूछताछ दिल्ली स्थित केंद्रीय जांच एजेंसी सीबीआई मुख्यालय में पूछताछ में होगी. (File Photo)

मामले में सीबीआई ने ED को एफआईआर सहित कुछ दस्तावेज प्रदान किये हैं. लेकिन ईडी ने हाल में ही एक और खत सीबीआई को लिखा है और छापेमारी के दौरान मिले अन्य दस्तावेजों और सबूतों की डिटेल्स मांगी है, ताकि ये मामला और बेहतर तरीके से जांचा जा सके.

अधिक पढ़ें ...

नई दिल्ली. कुछ सालों पहले पंजाब में स्थापित एक पावर प्रोजेक्ट के लिए चीनी मूल के करीब 263 लोगों को अवैध तौर पर पैसे अर्जित करके वीजा उपलब्ध कराने के मामले में केंद्रीय जांच एजेंसी (सीबीआई) ने कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पी चिदंबरम के बेटे कार्ति चिदंबरम के खिलाफ एक FIR दर्ज करके छापेमारी की थी, अब उसी मामले में केंद्रीय जांच एजेंसी प्रवर्तन निदेशालय यानी ईडी ने भी एक बड़ी कार्रवाई को अंजाम देते हुए उसी मामले को दर्ज कर लिया है.

सीबीआई द्वारा दर्ज एफआईआर को आधार बनाते हुए ईडी ने मनी लॉन्ड्रिंग एक्ट (PMLA) के तहत इस केस को टेकओवर कर लिया है. ईडी मुख्यालय के वरिष्ठ सूत्रों के मुताबिक जल्द ही इस मामले में ईडी द्वारा कार्ति चिदंबरम सहित कई अन्य आरोपियों को पूछताछ के लिए समन भेजा जाएगा और आगे की कार्रवाई को अंजाम दिया जाएगा. सूत्रों के मुताबिक दिल्ली स्थित ईडी मुख्यालय में इस मामले को दर्ज करने के बाद आगे की तफ़्तीश प्रारंभ कर दी गई है. इस मामले में सीबीआई से ED को एफआईआर सहित कुछ दस्तावेज प्रदान किया गया है, लेकिन ईडी ने हाल ही में एक और खत सीबीआई को लिखा है और सीबीआई की छापेमारी के दौरान मिले अन्य दस्तावेजों और सबूतों की डिटेल्स मांगी है, जिससे ये मामला और बेहतर तरीके से जांचा जा सके.

कार्ति चिदंबरम से पूछताछ
26 मई दिन बुधवार को सीबीआई की टीम कार्ति चिदंबरम से पूछताछ कर सकती है, ये पूछताछ दिल्ली स्थित केंद्रीय जांच एजेंसी सीबीआई मुख्यालय में पूछताछ में होगी. हालांकि पूछताछ की प्रक्रिया से बचने के लिए कार्ति चिदंबरम ने अपने वकील को सीबीआई मुख्यालय भेजा था और किसी अन्य दिन आने की गुजारिश की, लेकिन जब सीबीआई ने कहा कि कार्ति चिदंबरम को पूछताछ की प्रक्रिया में हिस्सा लेने के लिए खुद आना चाहिए, इसके बाद वकील द्वारा जब कार्ति को सूचित किया गया तब कार्ति ने बुधवार को दोपहर दो बजे के बाद सीबीआई की पूछताछ में आने का भरोसा दिया.

इस मामले की अगर बात करें तो ये मामला पंजाब में स्थापित एक पावर प्रोजेक्ट के लिए चीनी मूल के करीब 263 लोगों को गलत तरीके से यानी अवैध तौर पर पैसे अर्जित करके वीजा उपलब्ध कराने का है. इस मामले में पैसों का जो भी लेनदेन हुआ है, वो विदेश से किया गया, लिहाजा इसी बात के मद्देनजर कुछ दिनों पहले सीबीआई द्वारा एक एफआईआर दर्ज करके मामले में 9 प्रमुख लोकेशन पर छापेमारी की प्रक्रिया को अंजाम दिया गया था.

सीबीआई की टीम ने दिल्ली में जोरबाग स्थित पी. चिदंबरम के आवास पर, चेन्नई, कर्नाटक, ओडिशा, मुंबई, पंजाब में छापेमारी को अंजाम दिया था. उसके बाद इसी मामले में कार्ति चिदंबरम के बेहद खास सहयोगी भास्कर रमन को पूछताछ के बाद गिरफ्तार किया गया था. क्योंकि भास्कर रमन पर बेहद गंभीर आरोप लगे थे, सीबीआई द्वारा दर्ज एफआईआर के मुताबिक इसी आरोपी के मार्फत अवैध वीजा से जुड़े पैसों के लेन देन को अंजाम दिया गया था. इस केस में कार्ति चिदंबरम के ऊपर भी गिरफ्तारी की तलवार लटक रही है, लिहाजा उनके वकीलों के द्वारा कोर्ट में अग्रिम जमानत याचिका दायर की गई थी, जिसे सीबीआई की कोर्ट ने खारिज करते हुए जांच एजेंसी को एक नोटिस भी दिया कि कार्ति चिदंबरम को गिरफ्तार करने से पहले करीब 72 घंटे पहले उन्हें आप सूचित करेंगे, उसके बाद ही उन्हें आप गिरफ्तार कर सकते हैं.

पी. चिदंबरम भी आ सकते हैं रडार पर 
सीबीआई द्वारा दर्ज इस मामले की गंभीरता को देखा जाए तो इस मामले में पी. चिदंबरम से भी जांच एजेंसी द्वारा पूछताछ की जा सकती है, क्योंकि ये मामला साल 2011 का है, जब कार्ति चिदंबरम के पिता पी. चिदंबरम केंद्रीय गृहमंत्री के पद पर कार्यरत थे. क्योंकि जांच एजेंसी को ये जानकारी मिली थी कि कार्ति चिदंबरम और उसके सहयोगी द्वारा उनके पिता के नाम और पद का दुरुपयोग करते हुए इस फर्जीवाड़े को अंजाम दिया गया था, उसी सच्चाई को बेहतर तरीके से जानने के लिए और समझने के लिए सीबीआई की टीम कई आरोपियों से पूछताछ करने के बाद जरूरत पड़ी तो सीनियर चिदंबरम यानी पी. चिदंबरम को भी समन भेजकर पूछताछ के लिए बुला सकती है.

कार्ति चिदंबरम और उसके करीबी एस. भास्कर रमन को वेदांता समूह की कंपनी तलवंडी साबो पावर लिमिटेड (TSPL) के एक वरिष्ठ अधिकारी द्वारा घूस की रकम प्रदान की गई थी, सीबीआई द्वारा दर्ज FIR के मुताबिक बिजली परियोजना की स्थापना का काम चीनी मूल की एक कंपनी कर रही थी, इसी वजह से करीब 263 लोगों को वीजा दिलाने के लिए अवैध तौर पर पैसों का लेनदेन किया गया था.

Tags: Enforcement directorate, Karti Chidambaram

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर