दिव्यांग महिला का आरोप- दिल्ली एयरपोर्ट पर CISF कर्मी ने किया दुर्व्यवहार

मोटिवेशनल स्पीकर (Motivational Speaker) और दिव्यांगों के हक के लिए लड़ने वाली (Disability Rights Activist) विराली मोदी ने आरोप लगाया है कि सोमवार सुबह जब वे मुंबई से दिल्ली (Mumbai to Delhi) जा रही थीं, तब CISF स्टाफ ने उनके साथ दुर्व्यवहार किया.

News18Hindi
Updated: September 9, 2019, 11:14 PM IST
दिव्यांग महिला का आरोप- दिल्ली एयरपोर्ट पर CISF कर्मी ने किया दुर्व्यवहार
विराली मोदी नाम की महिला ने CISF स्टाफ के ऊपर दुर्व्यवहार का आरोप लगाया है
News18Hindi
Updated: September 9, 2019, 11:14 PM IST
नई दिल्ली. सोमवार सुबह, मोटिवेशनल स्पीकर और दिव्यांगों के हक के लिए लड़ने वाली विराली मोदी मुंबई से दिल्ली (Mumbai to Delhi) जा रही थीं, उनके अनुसार, उस वक्‍त CISF स्टाफ ने उनके साथ दुर्व्यवहार किया. यह आरोप लगाने वाली विराली ने कहा है कि CISF स्टाफ ने उन्हें खड़े न हो पाने के चलते प्रताड़ित किया, यह बताने के बावजूद कि उन्हें 13 सालों से लकवा मारा हुआ (Paralysed) है.

एक दुर्घटना में 2006 में विराली की रीढ़ की हड्डी में चोट लग गई थी. तबसे एक दशक से ज्यादा का वक्त गुजर चुका है लेकिन वे व्हीलचेयर पर ही हैं. वे एक अमेरिकी नागरिक हैं. और वे कहती हैं कि उन्होंने ऐसी प्रताड़ना या भेदभाव किसी भी अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे (International Airport) पर नहीं झेला.

CISF ने कहा कि व्हीलचेयर छोड़ खड़ी हो जाएं और चलें
विराली के लिखे फेसबुक पोस्ट (Facebook Post) के मुताबिक, विराली को एयरपोर्ट में घुसते ही नियमों के मुताबिक अपनी पर्सनल व्हीलचेयर दे देने के लिए कहा गया. उन्हें एक पोर्टर दिया गया जो उन्हें सिक्योरिटी चेक-इन स्टेशन तक ले गया. इसके बाद ही उनकी परेशानी की शुरुआत हुई.

विराली ने लिखा है कि सीआईएसएफ की एक महिला स्टाफ ने उनसे खड़े होने के लिए कहा. जब उन्होंने उससे कहा कि वे खड़ी नहीं हो सकतीं तो CISF स्टाफ ने उनसे कहा कि उन्हें खड़ा होना ही पड़ेगा. इतना ही नहीं उनसे कहा गया कि वे अपनी व्हीलचेयर छोड़ दें और सिक्योरिटी चेक के लिए बनाए गए अस्थायी कक्ष तक चलकर जाएं.

विराली ने लगाया मजाक उड़ाने का आरोप
विराली ने न्यूज18 को बताया, "मैंने उन्हें बार-बार कहा कि मुझे पिछले 13 सालों से लकवा मारा हुआ है और मैं किसी भी तरह से नहीं चल सकती. मैंने उनसे कहा कि अगर वे मुझे उठाकर ले चलती हैं तो ऐसा कर सकती हैं."
Loading...

विराली का कहना है कि इसके बाद उन्होंने CISF स्टाफ की महिला को अपनी सहकर्मी से विराली के बारे में बुरा-भला कहते सुना. विराली का कहना है कि स्टाफ की महिलाएं कहती रहीं कि वे ड्रामा कर रही हैं और मैं आसानी से खड़ी हो सकती हूं लेकिन खड़ी नहीं हो रही. विराली का कहना है कि यह सब सुनकर उनकी आंखों में आंसू आ गए थे. इसके बाद जब उन्होंने स्टाफ की महिलाओं को टोका तो वे मुझपर चिल्लाते हुए बोलीं कि किसी और बारे में बात कर रही थीं.

विराली ने मेल के जरिए CISF से घटना के बारे में शिकायत की है (विराली की फेसबुक पोस्ट से)


सोशल मीडिया पर साझा की है घटना
हालांकि जब विराली ने उनके बर्ताव का विरोध किया तो एक CISF की एक सीनियर स्टाफ आई और उनकी मदद की. उनकी जांच करके उन्हें जाने दिया गया. उन्होंने कहा है कि उन्होंने इस घटना की CISF हेडक्वार्टर में शिकायत कर दी है. उन्होंने अपनी शिकायत का एक स्क्रीनशॉट भी सोशल मीडिया पर शेयर किया है.

यह भी पढे़ं: दुनिया की आबादी जितना हर साल बढ़ता है सिंगल यूज़ प्लास्टिक कचरा?

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 9, 2019, 7:03 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...