होम /न्यूज /राष्ट्र /सिटीजनशिप बिल का विरोध: अमित शाह से मुलाकात के बाद JMACAB ने रद्द की हड़ताल

सिटीजनशिप बिल का विरोध: अमित शाह से मुलाकात के बाद JMACAB ने रद्द की हड़ताल

नागरिकता संशोधन बिल 2019 का सबसे ज्यादा विरोध असम के गुवाहाटी में हो रहा है.  फोटो : पीटीआई

नागरिकता संशोधन बिल 2019 का सबसे ज्यादा विरोध असम के गुवाहाटी में हो रहा है. फोटो : पीटीआई

नागरिकता संशोधन बिल 2019 (Citizen Amedment Bill) के पास होने के बाद इसका सबसे ज्यादा असर पूर्वोत्तर में देखने को मिल रह ...अधिक पढ़ें

    नई दिल्ली. नागरिकता संशोधन बिल 2019 (Citizen Amedment Bill) के पास होने के बाद इसका सबसे ज्यादा असर पूर्वोत्तर में देखने को मिल रहा है. पूर्वोत्तर में असम में हिंसक झड़पों में 2 लोगों की मौत हो गई है. हिंसा की ये आग अब पूर्वोत्तर के दूसरे राज्यों में भी पहुंचती दिख रही है. गुवाहाटी के बाद अब मेघालय के शिलांग में भी कर्फ्यू लागू हो गया है. गुरुवार रात 10 बजे से शिलॉन्ग के भी कुछ इलाकों में कर्फ्यू लगाने का आदेश जारी किया गया है.

    जेएमएसीएबी ने दी सरकार को राहत
    त्रिपुरा में  ज्वाइंट मूवमेंट अगेंस्ट सिटीजनशिप अमेंडमेंट बिल (जेएमएसीएबी) के नेताओं ने गृहमंत्री अमित शाह से मुलाकात के बाद अपनी अनिश्चितकालीन हड़ताल को रद्द करने का फैसला किया. इस बिल के विरोध में आंदोलन करने वाले और JMACAB के संयोजक एंथनी देबवर्मा ने कहा, हम गुरुवार से इस बिल के खिलाफ अनिश्चितकालीन हड़ताल करने वाले थे, लेकिन खुद गृहमंत्री अमित शाह ने हमें फोन किया. उन्होंने हमारी बात सुनी, इसलिए अब हमने इस हड़ताल को रोकने का फैसला किया है.






    इधर, मेघालय की राजधानी शिलांग में भी प्रदर्शन के बाद इंटरनेट पर 48 घंटे के लिए प्रतिबंध लगा दिया गया है. 15 से 17 दिसंबर को सिक्किम में होने जा रहे नॉर्थ-ईस्ट यूथ फेस्टिवल को प्रदर्शन के मद्देनज़र फिलहाल स्थगित किया गया इससे पहले प्रदर्शनकारियों ने बीजेपी विधायक बिनोद हजारिका के घर में आग लगा दी. एक मीडिया रिपोर्ट के अनुसार घटना राज्य के चबुआ की है. समाचार एजेंसी पीटीआई के अनुसार डिब्रूगढ़ (Dibrugarh) जिला स्थित चबुआ (Chabua) में भाजपा विधायक बिनोद हजारिका (Binod Hazarika) के घर में आग लगा दी. बताया गया कि कम एक सर्किल ऑफिस में भी प्रदर्शनकारियों ने आग लगा दी. CAB 2019 का विरोध कर रहे लोगों ने गाड़ियों में आग भी लगा दी.

    राज्यपाल ने छात्रों से की अपील
    असम के राज्यपाल जगदीश मुखी ने कहा, मैं सभी छात्रों, बहनों और भाइयों से अपील करता हूं कि नागरिकता संशोधन बिल 2019 के खिलाफ विरोध करते समय वह अपना विवेक न खोएं. राज्य में शांति बनाए रखें. उन्होंने कहा, केंद्र सरकार ने संसद में इस बात का भरोसा दिया है कि इस बिल के बाद भी असम के हितों की रक्षा की जाएगी. उन्होंने राज्य के मूल निवासियों की संस्कृति, भाषा अधिकारों को संरक्षण देने का भी भरोसा दिलाया है.



    48 घंटे के लिए बंद हो गया इंटरनेट
    असम में इंटरनेट पर प्रतिबंध 48 घंटे के लिए बढ़ाया गया. असम में 22 दिसंबर तक सभी स्कूलों को बंद करने का आदेश दिया गया है. गुवाहाटी के अंबरी इलाके में प्रदर्शनकारियों ने असम गण परिषद (एजीपी) के मुख्यालय पर हमला किया. गुस्साए प्रदर्शनकारियों ने पत्थरबाजी भी की. राज्य के कई इलाकों में असम गण परिषद और भारतीय जनता पार्टी के दफ्तरों पर प्रदर्शनकारियों ने हमला किया है. नागरिकता संशोधन बिल को लेकर मचे बवाल के बीच गुवाहाटी में खेले जा रहे रंजी ट्रॉफी के चौथे दिन के खेल को सस्पेंड कर दिया गया है.

    बांग्लादेश के गृहमंत्री का दौरा रद्द
    बांग्लादेश के गृह मंत्री अस्दुज्जमां खान ने मेघालय का अपना तीन दिवसीय दौरा रद्द किया. भारतीय विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने बांग्लादेश के साथ भारत के संबंधों पर कहा कि यहां थोड़ा कन्फ्यूजन हुआ है. हमने पहले ही साफ किया है कि बांग्लादेश में सैन्य शासन और पूर्व की सरकारों के समय अल्पसंख्यकों के साथ भेदभाव किया गया. वर्तमान सरकार के समय ऐसी कोई खबरें नहीं हैं.

    मुख्यमंत्री सोनोवाल ने की शांति की अपील
    असम के मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल ने असम के लोगों से अपील की है कि सभी लोग शांति बनाए रखें. उन्होंने कहा कि असम के लोगों को पूरा संरक्षण मिलेगा. यह सुनिश्चित किया जाएगा कि उनकी पहचान सदैव बरकरार रहेगी. समाज के सभी वर्गों से मेरी अपील है कि वह आगे आएं और शांति का माहौल बनाएं. उन्होंने कहा मुझे उम्मीद है कि इस अपील पर गंभीरता से ध्यान देंगे.

    विरोध में पहली अवॉर्ड वापसी
    2011 में राज्य साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित शिरीन दलवी ने नागरिकता बिल के विरोध में अपना अवार्ड वापस कर दिया है. चार्ली हेब्दो के विवादास्पद कार्टून को अपने अखबार में छापने के कारण शिरीन को गिरफ्तार किया गया था. बाद में उन्हें जमानत मिल गई थी.

    मुस्लिम लीग बिल के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट जाएगी
    बिल के खिलाफ इंडियन मुस्लिम लीग सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर करेगी. बुधवार को सदन में भी कई नेताओं ने कहा था कि ये बिल सुप्रीम कोर्ट में फेल हो जाएगा. कांग्रेस सांसद पी. चिदंबरम ने कहा था कि ये बिल अगर संसद में नहीं रोका गया, तो सुप्रीम कोर्ट में जरूर फेल हो जाएगा.

    ये भी पढ़ें: नागरिकता बिल को लेकर असम के हिंदू इलाकों में क्यों हो रहा है विरोध?
    नॉर्थ ईस्ट के इन इलाकों में नहीं लागू होगा नागरिकता बिल, फिर भी क्यों हो रहा है विरोध?
    जानिए, फांसी से ठीक पहले क्या था गोडसे, रंगा-बिल्ला, कसाब और याकूब मेमन का हाल
    ब्रिटेन चुनाव में क्यों छाया है हिंदी, हिंदू और हिंदुस्तान का मुद्दा

    Tags: Assam, Citizenship bill, Guwahati

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें