लाइव टीवी

नागरिकता विधेयक: विमानन कंपनियों ने रद्द की असम की उड़ानें

भाषा
Updated: December 12, 2019, 6:59 PM IST
नागरिकता विधेयक: विमानन कंपनियों ने रद्द की असम की उड़ानें
असम में विधेयक पारित होने के बाद से विरोध प्रदर्शन और आगजनी की खबरें आ रही थी.

गरिकता (संशोधन) विधेयक (Citizen amendment bill 2019) के संसद में पारित होने के बाद से पूर्वोत्तर राज्यों में बड़े पैमाने पर इसका विरोध किया जा रहा है.

  • Share this:
नई दिल्ली. नागरिकता (संशोधन) विधेयक (Citizen amendment bill 2019) के खिलाफ असम (Assam )में जारी व्यापक विरोध प्रदर्शन के कारण विभिन्न विमानन कंपनियों ने राज्य के कई शहरों की उड़ानें गुरुवार को रद्द कर दी. उड़ानें रद्द करने वाली विमानन कंपनियों में इंडिगो, विस्तार, एयर इंडिया और स्पाइसजेट शामिल हैं. गोएयर और एयरएशिया ने यात्रा की तारीख बदलने पर लगने वाले शुल्क को समाप्त करने की घोषणा की है.

इंडिगो के एक प्रवक्ता ने बयान में कहा कि असम में विरोध प्रदर्शनों की स्थिति को देखते हुए बृहस्पतिवार को गुवाहाटी तथा डिब्रूगढ़ की उड़ानें रद्द की गयी हैं. उसने कहा, 'हम इन स्थानों पर अटके यात्रियों के लिये अभी राहत उड़ानें चला रहे हैं, जिसके किराये की अधिकतम सीमा स्थिर है.' कंपनी ने गुवाहाटी, डिब्रुगढ़ और जोरहाट की उड़ानों के यात्रियों के लिये 13 दिसंबर तक टिकट रद्द करने या यात्रा की तिथि बदलने के लिये शुल्क समाप्त कर दिया है.

सरकार के परामर्श के अनुसार उड़ानें रद्द की- विस्तारा
विस्तार ने एक ट्वीट में बताया कि उसने सरकार के परामर्श के अनुसार उड़ानें रद्द की हैं. एयर इंडिया के एक प्रवक्ता ने बताया कि कंपनी ने सिर्फ कोलकाता और डिब्रुगढ़ के बीच की उड़ान को रद्द किया है. गोएयर ने एक बयान में कहा, 'गोएयर ने गुवाहाटी जाने या वहां से आने वाली 13 दिसंबर तक की उड़ानों के टिकट की तारीख बदलने पर शुल्क नहीं लेने का निर्णय लिया है.'

एयरएशिया ने कहा कि उसने त्रिपुरा के अगरतला तथा गुवाहाटी जाने और वहां से आने वाली 13 दिसंबर तक की उड़ानों के लिये रद्द करने या तारीख व स्थान बदलने के शुल्क को समाप्त कर दिया है. हालांकि, कंपनी ने कहा है कि यदि किराये में कोई अंतर होगा तो यात्री को उसका वहन करना होगा. नागर विमानन सचिव प्रदीप सिंह खरौला से फोन एवं संदेशों के जरिये असम की उड़ानें रद्द करने के मंत्रालय के परामर्श के बारे में प्रतिक्रिया के लिये संपर्क करने की कोशिशें की गयीं, लेकिन उनकी कोई प्रतिक्रिया नहीं मिल सकी है.

यह भी पढ़ें: CAB: कांग्रेस का तंज- मोदीजी, असम के लोग आपका संदेश नहीं पढ़ सकते...

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 12, 2019, 6:59 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर