लाइव टीवी

नॉर्थ-ईस्ट में नागरिकता बिल का विरोध हुआ उग्र, सेना तैनात, अर्धसैनिक बलों के 5000 जवान भेजे गए

News18Hindi
Updated: December 11, 2019, 4:15 PM IST
नॉर्थ-ईस्ट में नागरिकता बिल का विरोध हुआ उग्र, सेना तैनात, अर्धसैनिक बलों के 5000 जवान भेजे गए
नागरिकता संशोधन विधेयक (Citizenship amendment bill 2019) में अफगानिस्तान, बांग्लादेश एवं पाकिस्तान से आए हिंदू, सिख, बौद्ध, जैन, पारसी एवं ईसाई शरणार्थियों को नागरिकता देने का प्रावधान है. इस विधेयक को सोमवार को लोकसभा ने पारित किया.

नागरिकता संशोधन विधेयक (Citizenship amendment bill 2019) में अफगानिस्तान, बांग्लादेश एवं पाकिस्तान से आए हिंदू, सिख, बौद्ध, जैन, पारसी एवं ईसाई शरणार्थियों को नागरिकता देने का प्रावधान है. इस विधेयक को सोमवार को लोकसभा ने पारित किया.

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 11, 2019, 4:15 PM IST
  • Share this:
गुवाहाटी. नागरिकता संशोधन विधेयक (Citizenship amendment bill 2019)  के खिलाफ असम (Assam) में व्यापक विरोध प्रदर्शन जारी है और राज्य सचिवालय के निकट छात्रों के एक बड़े समूह और पुलिस के बीच बुधवार को झड़प हुई. सभी दिशाओं से बड़ी संख्या में छात्रों को सचिवालय की ओर बढ़ते देखा गया. वहीं एक अन्य समूह गणेशगुरी क्षेत्र तक पहुंच गया जिससे सचिवालय सिर्फ 500 मीटर की दूरी पर है. इन सब घटनाओं के बाद असम और त्रिपुरा के कई इलाकों में सेना तैनात कर दी गई है.

गृह मंत्रालय के अधिकारियों के मुताबिक नागरिकता विधेयक को लेकर विरोध के मद्देनजर शांति का माहौल सुनिश्चित करने के वास्ते अर्द्धसैनिक बलों के पांच हजार जवानों को पूर्वोत्तर भेजा जा रहा है. छात्रों ने जीएस रोड पर अवरोधक को तोड़ दिया जिसके बाद पुलिस ने लाठी चार्ज किया. छात्रों पर आंसू गैस के गोले भी दागे गए. छात्रों ने जिसे वापस पुलिसकर्मियों पर उठाकर फेंका.

छात्रों ने बताया कि उनमें से कई लाठीचार्ज में घायल हो गए. उन्होंने कहा, ‘सर्बानंद सोनोवाल के नेतृत्व में बर्बर सरकार है. जब तक कैब वापस नहीं लिया जाता है तब तक हम किसी दबाव में नहीं आएंगे.’ गुवाहाटी के अलावा डिब्रूगढ़ जिले में प्रदर्शनकारियों की झड़प पुलिस से हुई और पत्थरबाजी में एक पत्रकार घायल हो गया.

जीएस रोड पर एक बैरिकेड को तोड़ दिया

प्रदर्शनकारियों ने जीएस रोड पर एक बैरिकेड को तोड़ दिया जिसके बाद पुलिस ने लाठीचार्ज किया. पुलिसकर्मियों ने छात्रों पर टियर गैस का इस्तेमाल भी किया. गुवाहाटी के अलावा, डिब्रूगढ़ जिले में भी प्रदर्शनकारी पुलिस के साथ भिड़ गए जहां पुलिस ने प्रदर्शनकारियों पर आंसू गैस के गोले और रबर की गोलियां चलाईं. वहां पथराव में एक पत्रकार घायल हो गया.

असम में नागरिकता संशोधन विधेयक के खिलाफ बड़े पैमाने पर विरोध प्रदर्शन के मद्देनजर, पूर्वोत्तर सीमांत रेलवे ने बुधवार को कई ट्रेनों को रद्द कर दिया और कुछ को रिशेड्यूल किया गया जो राज्य से जाती हैं.

इन ट्रेनों पर पड़ा असरएनएफ रेलवे के मुख्य जनसंपर्क अधिकारी सुभान चंदा ने एक बयान में कहा कि कम से कम 14 ट्रेनों को या तो रद्द कर दिया गया है, या ट्रेन के ऑपरेशन में गड़बड़ी की आशंका है. बयान में बताया गया है कि इनमें से आठ ट्रेनों को तो ‘पूरी तरह’ से रद्द कर दिया गया है जबकि अन्य को गंतव्य स्थान से पहले ही रोक दिया गया.

अवध असम एक्सप्रेस को न्यू तिनसुकिया से चलाने का निर्णय लिया गया है. यह डिब्रूगढ़ और न्यू तिनसुकिया के बीच रद्द रहेगी. वहीं लीडो गुवाहाटी इंटरसिटी एक्सप्रेस, डिब्रूगढ़ फरकाटिंग गुवाहाटी इंटरसिटी एक्सप्रेस, नाहरलागुन तिनसुकिया इंटरसिटी एक्सप्रेस, डेकारगांव डिब्रूगढ़ इंटरसिटी एक्सप्रेस पूरी तरह से रद्द है.

यह भी पढ़ें: अमित शाह ने राज्यसभा में पेश किया नागरिकता संशोधन विधेयक, कहा- भारतीय मुस्लिमों को डरने की कोई जरूरत नहीं

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 11, 2019, 2:53 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर