लाइव टीवी

पश्चिम बंगाल: निकाय चुनाव से पहले तृणमूल कराएगी सर्वे, रिपोर्ट पर बनेगी PK की रणनीति

भाषा
Updated: October 14, 2019, 4:21 PM IST
पश्चिम बंगाल: निकाय चुनाव से पहले तृणमूल कराएगी सर्वे, रिपोर्ट पर बनेगी PK की रणनीति
तृणपूल कांग्रेस नगर निकाय चुनाव से पहले सर्वे कराएगी.

तृणमूल कांग्रेस (Trinamool Congress) ने 2021 में पश्चिम बंगाल में होने वाले विधानसभा चुनाव के मद्देनजर सर्वे कराने का फैसला किया है. सर्वे की रिपोर्ट के आधार पर प्रशांत किशोर पार्टी की जीत के लिए रणनीति बनाएंगे.

  • Share this:
कोलकाता. तृणमूल कांग्रेस (Trinamool Congress) नेतृत्व कोलकाता नगर निगम (Kolkata Municipal Corporation) और राज्य के 107 नगर निकायों पर चुनाव (Election) से पहले सर्वे कराएगा. ताकि वर्ष 2020 में होने वाले चुनाव के पहले समर्थन का आधार पता किया जा सके. साथ ही इसी आधार पर बीजेपी की पैठ का भी आकलन किया जा सके. पश्चिम बंगाल में आगामी 2021 विधानसभा चुनाव होना है. नगर निकायों के चुनाव को विधानसभा चुनाव का छोटा रूप माना जा रहा है.

तृणमूल के सूत्रों ने बताया कि पार्टी चुनाव रणनीतिकार प्रशांत किशोर और उनकी आई-पीएसी दल की मदद से यह सर्वे करवाएगी. उन्होंने बताया कि सर्वे की रिपोर्ट के आधार पर ही रणनीति तय की जाएगी और निकाय चुनाव के लिए उम्मीदवारों का चयन किया जाएगा.

2021 के विधानसभा चुनाव में सत्ता का लक्ष्य
बता दें कि बीजेपी की पश्चिम बंगाल इकाई ने 2021 के विधानसभा चुनाव में राज्य में सत्ता में आने का लक्ष्य रखा है. पश्चिम बंगाल बीजेपी के अध्यक्ष दिलीप घोष ने कहा कि बीजेपी वाम दलों और कांग्रेस को पछाड़कर पश्चिम बंगाल में पहले ही मुख्य विपक्षी दल बन चुकी है. राज्य कार्यकारिणी की बैठक में अपने संबोधन में घोष ने कहा कि राज्य में लोग ममता बनर्जी की जनविरोधी नीतियों से अप्रसन्न हैं और वे विकल्प की ओर देख रहे हैं, ऐसे में बीजेपी उनको विकल्प उपलब्ध कराएगी.

वहीं पार्टी से जुड़े सूत्रों का भी कहना  है कि आगामी चुनाव के मद्देनजर पार्टी ने अपनी रणनीति बना ली है. पार्टी जमीनी स्तर से लेकर विभिन्न स्तरों पर पार्टी की संगठनात्मक शक्ति का आकलन कर इसे और मजबूत करने पर जोर दिया जा रहा है. केंद्रीय मंत्री बाबुल सुप्रियो ने तृणमूल कांग्रेस पर तंज कसते हुए कहा कि 2021 के विधानसभा चुनाव में टीएमसी पूरी तरह से साफ हो जाएगी.

गौरतलब है कि 2019 लोकसभा चुनाव में बीजेपी ने टीएमसी को कड़ी टक्कर दी थी. अब बीजेपी की नजर विधानसभा चुनाव पर है. बीजेपी ने राज्य की 42 में से 18 लोकसभा सीटों पर कब्ज जमाया था, जबकि टीएमसी वर्ष 2014 के चुनाव के मुकाबले 34 से घटकर 22 सीट पर ही सिमट कर रह गई है.

ये भी पढ़ें: 
Loading...

यादवों के बाद अब दलित समाज ने उठाई सेना में वाल्मीकि रेजिमेंट बनाने की आवाज!
दिल्ली को गैस चैंबर बनने से बचाना है तो करें ये 10 काम

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 14, 2019, 3:26 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...