लाइव टीवी

क्या कांग्रेस में सचमुच सोनिया बनाम राहुल की लड़ाई चल रही है?

Anil Rai | News18Hindi
Updated: October 4, 2019, 6:28 PM IST
क्या कांग्रेस में सचमुच सोनिया बनाम राहुल की लड़ाई चल रही है?
कांग्रेस नेता संजय निरुपम के आरोपो से ऐसा लगता है कि सोनिया गांधी और राहुल गांधी खेमे में संघर्ष चल रहा है.

कांग्रेस (Congress) में राहुल गांधी और सोनिया गांधी (Rahul Gandhi and Sonia Gandhi) के बीच मनमुटाव की खबरें अब सामने आ रही हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 4, 2019, 6:28 PM IST
  • Share this:
नई दिल्‍ली. कांग्रेस (Congress) में क्या सत्ता को लेकर सोनिया गांधी और राहुल गांधी (Sonia Gandhi and Rahul Gandhi) में संघर्ष चल रहा है? कांग्रेस के वरिष्‍ठ नेता और मुंबई कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष संजय निरुपम (Sanjay Nirupam) का बयान तो कुछ यही इशारा कर रहा है. संजय निरुपम ने सोनिया गांधी के समर्थकों पर राहुल गांधी के खिलाफ साजिश करने का आरोप लगाया है और वो भी खुलकर. दरअसल, सोनिया गांधी और राहुल गांधी के बीच आपसी मनमुटाव की खबरें राहुल गांधी के कांग्रेस अध्यक्ष पद से इस्तीफा देने के साथ ही आने लगी थी.

सुत्रों की माने तो राहुल गांधी ने अध्यक्ष पद से इस्तीफा देने से पहले अपनी मां सोनिया गांधी को विश्वास में नहीं लिया था. इसको लेकर सोनिया गांधी ने राहुल से नाराजगी भी जताई थी. कांग्रेस के कुछ करीबी नेताओं का दावा है कि सोनिया गांधी ने राहुल गांधी पर इस्तीफा वापस लेने का दबाव भी बनाया था, लेकिन राहुल टस से मस नहीं हुए.

उसके बाद सोनिया गांधी प्रियंका को अध्यक्ष की कुर्सी देना चाहती थीं, लेकिन राहुल गांधी ने लगातार गांधी परिवार के बाहर का कांग्रेस अध्यक्ष होने का बयान देकर सोनिया गांधी और उनकी टीम के सामने मुश्किल खड़ी कर दी. अंत में सोनिया गांधी को कार्यकारी अध्यक्ष के रुप में सामने आकर कांग्रेस की डूबती नैया को सहारा देना पड़ा. ऐसे में राहुल गांधी और सोनिया गांधी का विवाद भले ही सामने ना आया हो लेकिन गाहे-बगाहे दोनों के समर्थक नेता एक दूसरे पर आरोप लगाने से बाज नहीं आए. अब संजय निरुपम के बयान के बाद ये बात खुलकर सामने आ गई है.

राहुल के समर्थक लगातार छोड़ रहे हैं कांग्रेस

संजय निरुपम का ये बयान यूं ही नहीं आया है, पिछले एक साल में कांग्रेस के जिन दिग्गज नेताओं ने पार्टी का साथ छोड़ा है अगर उनके नामों पर नजर डाले तो उसमें ज्यादातार नाम वही है जो एक दौर में या तो राहुल गांधी की टीम में थे या राहुल गांधी खेमे के माने जाते थे. एक साल में कांग्रेस छोड़ने वाले नेताओं में अल्पेश ठाकोर, प्रियंका चुर्वेदी, कृपाशंकर सिंह, उर्मिला मातोंडकर जैसे कई नाम हैं.

महाराष्ट्र और हरियाणा विधानसभा चुनावों के बीच राहुल गांधी के करीबी समझे जाने वाले संजय निरुपम और अशोक तंवर बगावत का झंडा उठा चुके हैं. अशोक तंवर ने जहां पार्टी के सभी पदों से इस्तीफा दे दिया है वहीं संजय निरुपम ने कांग्रेस के किसी भी उम्मीदवार का प्रचार करने से इनकार कर दिया है. दूसरी ओर उत्तर प्रदेश में राहुल गांधी की करीबी समझी जाने वाली रायबरेली की विधायक अदिति सिंह का भी झुकाव बीजेपी की तरफ दिख रहा है. इसको लेकर कांग्रेस नेता प्रमोद कृष्णम् ने भी राहुल गांधी की टीम के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है


Loading...

आखिर कब थमेगी ये लड़ाई

दोनों खेमे से एक-एक खिलाड़ी खुलकर मैदान में आ गए हैं और एक दूसरे पर शब्दबाण भी चला रहे हैं. लेकिन, इन दोनों खिलाड़ियों को ठीक से देखें तो भले ही ये दिख अकेले रहे हों लेकिन इनके पीछे एक टीम है और ये बात, ये बताने के लिए काफी है कि कांग्रेस में शुरु हुई दो पीढ़ियों की लड़ाई सिर्फ हरियाणा और महाराष्ट्र चुनाव को लेकर नहीं है. बल्कि ये अभी आगे भी जारी रहेगी और इसके परिणाम को जानने के लिए कम से कम कांग्रेस के पूर्णकालिक अध्यक्ष के चुनाव तक तो इंतजार करना ही होगा.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 4, 2019, 5:24 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...