होम /न्यूज /राष्ट्र /

केरल: 5वीं क्लास की बच्ची ने लगाया चंदन का टीका, मदरसे ने निकाल दिया बाहर

केरल: 5वीं क्लास की बच्ची ने लगाया चंदन का टीका, मदरसे ने निकाल दिया बाहर

5वीं की छात्रा हिना

5वीं की छात्रा हिना

उमर मलयिल के एक फेसबुक पोस्ट से पूरा मामला सामने आया है. मलयिल ने लिखा, "मेरी 10 साल की बेटी हिना पढ़ाई के अलावा खेलकूद और सांस्कृतिक कार्यक्रमों में भी काफी आगे रहती है. एक शॉर्ट फिल्म में एक्टिंग के लिए मेरी बेटी ने माथे पर चंदन का टीका लगाया था. इस वजह से उसे मदरसे से बाहर निकाल दिया गया. "

अधिक पढ़ें ...
    (असीम पीके)

    केरल में एक बच्ची को कथित तौर पर मदरसे से महज इसलिए निकाल दिया गया, क्योंकि वह चंदन का टीका लगाकर आई थी. मामला केरल के कोझिकोड का है. बच्ची 5वीं में पढ़ती है. उसके पिता का कहना है कि बच्ची ने एक शॉर्ट फिल्म में एक्टिंग करने के लिए माथे पर चंदन का टीका लगाया था. इस वजह से उसे मदरसे से बाहर निकाल दिया गया.

    उमर मलयिल के एक फेसबुक पोस्ट से पूरा मामला सामने आया है. मलयिल ने अपने फेसबुक पेज पर लिखा, "मेरी 10 साल की बेटी हिना पढ़ाई के अलावा खेलकूद और सांस्कृतिक कार्यक्रमों में भी काफी आगे रहती है. एक शॉर्ट फिल्म में एक्टिंग के लिए मेरी बेटी ने माथे पर चंदन का टीका लगाया था. इस वजह से उसे मदरसे से बाहर निकाल दिया गया. शुक्र है कि बेटी को सिर्फ मदरसे से निकाला गया, पत्थर नहीं मारा गया."

    उमर मलयिल ने ये पोस्ट मलयालम में लिखी है. उन्होंने लिखा, " मैं 100 फीसदी मानवता का विश्वासी हूं. किसी भी समुदाय या धर्म के खिलाफ नहीं हूं. अपने धर्म के अलावा मैं सभी धर्मों का बराबर सम्मान करता हूं. मुझे मानवता प्यारी है." उमर मलयिल का ये पोस्ट वायरल हो रहा है. अब तक लगभग 8 हजार से ज्यादा लोगों ने उनके पोस्ट को लाइक कर चुके हैं. करीब 2800 लोग इसे शेयर भी कर चुके हैं.


    उमर की फेसबुक पोस्ट वायरल होने के बाद कुछ लोग मदरसे के इस कदम की आलोचना कर रहे हैं. वहीं, कुछ लोगों का कहना है कि चंदन का टीका इस्लाम और शरीयत के खिलाफ है. इसलिए मदरसे ने सही फैसला लिया.जबकि, कुछ लोगों का कहना है कि ये मामला इतना बड़ा भी नहीं है कि इसे तूल दिया जाए. ये कोई अंतरराष्ट्रीय मुद्दा नहीं है, जिसपर बहस होनी चाहिए.

    Tags: Madarsa

    अगली ख़बर