नाशिक में स्वच्छ सर्वेक्षण की तैयारी जोरों पर, 24 इलाकों में चली क्लीनिंग ड्राइव

शनिवार को नाशिक म्युनिसिपल कमिश्नर कैलाश जाधव ने दूसरे अधिकारियों के साथ मिलकर महामार्ग बस स्टैंड के साथ-साथ आसपास के इलाकों में भी सफाई की. (प्रतीकात्मक तस्वीर: Shutterstock)

Nashik Cleaning Drive: सॉलिड वेस्ट डिपार्टमेंट की डायरेक्टर कल्पना कुटे ने बताया 'हमने म्युनिसिपल कमिश्नर कैलाश जाधव (Kailas Jadhav) के आदेश पर मिशन क्लीन नाशिक की शुरुआत की है.' एनएमसी घर-घर तक शहर को साफ करने का संदेश पहुंचाना चाहती है.

  • Share this:
    नाशिक. नाशिक (Nashik) को पूरी तरह स्वच्छ बनाने के लिए नाशिक म्युनिसिपल कॉर्पोरेशन (NMC) तैयार है. एनएमसी ने शनिवार को शहर के 24 इलाकों में क्लीनिंग ड्राइव (Cleaning Drive) का आयोजन किया. खास बात है कि इस दौरान 36 टन से ज्यादा का ठोस कचरा इकट्ठा किया है. खास बात है कि सफाई कर्मियों के अलावा इस दौरान कॉर्पोरेशन के बड़े अधिकारी भी मौजूद थे. सभी ने ड्राइव के दौरान शहर को स्वच्छ बनाने के लिए जमकर सफाई की.

    शनिवार को नाशिक म्युनिसिपल कमिश्नर कैलाश जाधव ने दूसरे अधिकारियों के साथ मिलकर महामार्ग बस स्टैंड के साथ-साथ आसपास के इलाकों में भी सफाई की. सॉलिड वेस्ट डिपार्टमेंट की डायरेक्टर कल्पना कुटे ने बताया 'हमने म्युनिसिपल कमिश्नर कैलाश जाधव के आदेश पर मिशन क्लीन नाशिक की शुरुआत की है.' उन्होंने जानकारी दी कि यह क्लीनिंग ड्राइव सभी 6 मंडलों में चलेगी.

    यह भी पढ़ें: इंदौरः नाले में हुई नगर निगम की बैठक, जहां होती थी गंदगी और बदबू वहां कमिश्नर ने किया नाश्ता

    उन्होंने कहा कि हमारा मकसद नाशिक शहर को स्वच्छ बनाना है. इसके अलावा एनएमसी आगामी स्वच्छ सर्वेक्षण के मद्देनजर शहरवासियों के घर-घर तक शहर को साफ करने का संदेश पहुंचाना चाहती है. केंद्र सरकार की तरफ से स्वच्छ सर्वेक्षण का आयोजन किया जाता है. आवास और शहरी मामलों के मंत्रालय ने ऐलान कर दिया है कि देश भर में स्वच्छता आकलन 1 मार्च से लेकर 30 मार्च तक किया जाएगा.

    बीते साल हुए स्वच्छ सर्वेक्षण में 10 लाख से ज्यादा आबादी वाले शहरों में नाशिक को 11 स्थान मिला था. नाशिक का स्वच्छता स्कोर 4729.46 रहा था. खास बात है कि 2020 में भी मध्य प्रदेश के इंदौर शहर ने स्वच्छता के मामले में बाजी मार ली थी. इस सूची में 5647.56 स्कोर के साथ इंदौर शहर पहले स्थान पर काबिज था. जबकि, दूसरे नंबर पर सूरत और तीसरे स्थान पर नवी मुंबई थे. केंद्र सरकार ने स्वच्छ सर्वेक्षण की शुरुआत बड़े स्तर पर नागरिकों को मिशन में शामिल करने के इरादे से की है. इसका उद्देश्य देश के सबसे साफ शहर बनने के लिए शहरों के बीच एक स्वस्थ प्रतिस्पर्धा आयोजित करना है.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.