ममता बनर्जी ने PM मोदी को लिखा खत, कहा- सितम्बर तक कैसे संभव होंगी परीक्षाएं

ममता बनर्जी ने PM मोदी को लिखा खत, कहा- सितम्बर तक कैसे संभव होंगी परीक्षाएं
बनर्जी ने अपने पत्र में कहा, ‘‘मैं समझती हूं कि विभिन्न राज्यों ने भारत सरकार के साथ मुद्दे को उठाया है,

  • Share this:
नई दिल्ली. पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी (Mamata Banerjee) ने एमएचआरडी और यूजीसी (UGC) द्वारा कॉलेजों और विश्वविद्यालयों में टर्मिनल परीक्षा (Revised guidelines issued by MHRD & UGC) आयोजित करने के संबंध में संशोधित दिशा-निर्देशों पर पीएम मोदी (PM Modi) को एक पत्र लिखा है. पत्र में ममता बनर्जी ने प्रधानमंत्री मोदी से इस मामले की तुरंत जांच करवाने के लिए कहा है. इसके साथ ही यूजीसी की पहले की सलाह को बहाल करने का अनुरोध किया है.

उन्होंने चिट्ठी में उल्लेख किया है ​कि अप्रैल महीने से ही जिस तरह देश में कोरोना (Corona) का संक्रमण लगातार बढ़ रहा है, ऐसे में सितम्बर तक परीक्षाएं आयोजित करने लायक वातावरण होगा या नहीं, इस बारे में अभी से कुछ नहीं कहा जा सकता है. मुख्यमंत्री ने अपने पत्र में कहा कि विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (यूजीसी) के छह जुलाई के दिशानिर्देश का छात्र हितों पर विपरीत असर होगा. बनर्जी ने अपने पत्र में कहा, ‘‘मैं समझती हूं कि विभिन्न राज्यों ने भारत सरकार के साथ मुद्दे को उठाया है, अपनी चिंताएं व्यक्त की हैं और नये दिशानिर्देशों से असहमति जताई है.’’ उन्होंने कहा, ‘‘मैं इसलिए आपसे आग्रह करती हूं कि मामले पर तुरंत पुनर्विचार किया जाए....’’

ऑनलाइन परीक्षाएं संभव नहीं
देश भर में इंटरनेट सेवाओं को देखते हुए पूरे देश में ऑनलाइन परीक्षाएं कराना संभव नहीं होगा. विशेषकर ग्रामीण इलाकों में कम्प्यूटर और इंटरनेट की पर्याप्त व्यवस्था नहीं होने के कारण ऑनलाइन परीक्षाएं संभव नहीं है. इसके अलावा मौजूदा हालातों में अधिकतर शैक्षणिक संस्थानों को क्वारंटाइन सेंटर में बदल दिया गया है. ऐसे में सभी कॉलेजों व विश्वविद्यालयों के वाइस चांसलरों और शिक्षाविदों से बात करने के बाद इंटरनल असेस्मेंट और पहले की परफार्मेंस के आधार पर ही नतीजों की घोषणा पर जोर दिया जा रहा है ताकि पारदर्शिता बरती जा सके.
उल्लेखनीय है कि यूजीसी के गाइडलाइन में कहा गया है कि सितम्बर तक परीक्षाएं आयोजित करवाना आवश्यक है. हालांकि परीक्षाओं के आयोजन पर यूजीसी ने राज्य सरकारों से बातचीत नहीं की है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज