Home /News /nation /

Nagaland Firing: नगालैंड के मुख्‍यमंत्री नेफ्यू रियो ने की AFSPA हटाने की मांग

Nagaland Firing: नगालैंड के मुख्‍यमंत्री नेफ्यू रियो ने की AFSPA हटाने की मांग

नगालैंड में सुरक्षा बलों की गोलीबारी में 14 आम नागरिकों की मौत हो गई.

नगालैंड में सुरक्षा बलों की गोलीबारी में 14 आम नागरिकों की मौत हो गई.

नगालैंड (Nagaland) में फायरिंग का मामला अब देश की संसद तक पहुंच गया है. विपक्ष ने जहां इस मुद्दे पर केंद्र सरकार को घेरने की कोशिश की है, वहीं राज्‍य के मुख्‍यमंत्री नेफ्यू रियो (Neiphiu Rio) ने AFSPA हटाने की मांग की है. उन्‍होंने कहा है कि इस कानून से देश की छवि धूमिल हो रही है. रियो ने बताया कि इस कांड के प्रभावित लोगों को मुआवजा दिया जा रहा है.

अधिक पढ़ें ...

    नई दिल्ली. नगालैंड (Nagaland) के मोन जिले में ओटिंग गांव के ग्रामीणों (Oting villagers) पर सेना (Indian Army) की 21 पैरा स्पेशल फोर्स (21 Para Special forces) ने ‘खुली गोलियां चलाई’ जिसमें 14 नागरिक मारे गए. ये मामला अब देश की संसद तक पहुंच गया है. विपक्ष ने जहां इस मुद्दे पर केंद्र सरकार को घेरने की कोशिश की है, वहीं राज्‍य के मुख्‍यमंत्री नेफ्यू रियो (Neiphiu Rio) ने AFSPA हटाने की मांग की है. उन्‍होंने कहा है कि इस कानून से देश की छवि धूमिल हो रही है. रियो ने बताया कि इस कांड के प्रभावित लोगों को मुआवजा दिया जा रहा है.

    AFSPA कानून को लेकर मेघालय के मुख्यमंत्री कोनराड के संगमा ने भी नगालैंड के सीएम की बात का समर्थन करते हुए इसे तत्काल हटाने की मांग की है. दरअसल, अफ्सा को लेकर नार्थ-ईस्ट में हमेशा से विरोध होता रहा है. बता दें कि नगालैंड के मोन जिले में ओटिंग गांव के ग्रामीणों पर सेना की 21 पैरा स्पेशल फोर्स ने ‘खुली गोलियां चलाई’ जिसमें 14 नागरिक मारे गए. राज्य पुलिस ने सेना इकाई के खिलाफ स्वतः संज्ञान लेकर दर्ज की गई एफआईआर में आरोप लगाया कि सुरक्षा बलों का ‘इरादा’ ‘नागरिकों को ‘मारना और घायल करना’ था.

    इसे भी पढ़ें :- EXCLUSIVE: खुफिया एजेंसियों की नाकामी नहीं थी नगालैंड की घटना, 14 मौतों की थी ये बड़ी वजह

    पुलिस शुरू से दावा करती रही है कि शनिवार और रविवार को हुई गोलीबारी की अलग-अलग घटनाओं में 14 असैन्य नागरिक मारे गए. गोलीबारी की पहली घटना जिसमें छह लोग मारे गए थे, तब हुई जब सेना के जवानों ने शनिवार शाम को एक पिकअप वैन में घर लौट रहे कोयला खदान कर्मियों को प्रतिबंधित संगठन एनएससीएन (के) के युंग आंग गुट से संबंधित उग्रवादी समझ लिया.

    इसे भी पढ़ें :- नगालैंड गोलीबारी में 14 लोगों की मौत पर पुलिस की FIR में कहा- सुरक्षाबलों ने की अंधाधुंध गोलीबारी, हत्या का था इरादा

    FIR में कहा गया है, ‘दोपहर लगभग 3.30 बजे, ओटिंग गांव के कोयला खदान मजदूर एक वाहन बोलेरो पिकअप से तिरु से अपने गांव लौट रहे थे. अपर तिरु और ओटिंग गांव के बीच लोंगखाओ पहुंचने पर, सुरक्षा बलों ने बिना किसी उकसावे के वाहन पर अंधाधुंध गोलियां चला दीं, जिसके परिणामस्वरूप कई ग्रामीणों की मौत हो गई और कई अन्य गंभीर रूप से घायल हो गए.’

    Tags: Army, Firing, Nagaland

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर