Assembly Banner 2021

कोरोना पर 11 राज्यों के साथ केंद्र की बैठक, हालात काबू में करने के लिए दिया 5 सूत्रीय एजेंडा

बैठक में बताया गया कि बीते 14 दिनों में इन 11 राज्यों से 90% मामले और 90.5% मौत रिपोर्ट हो रही हैं.

बैठक में बताया गया कि बीते 14 दिनों में इन 11 राज्यों से 90% मामले और 90.5% मौत रिपोर्ट हो रही हैं.

इसके साथ ही बैठक में पांच सूत्रीय एजेंडे- टीकाकरण, टेस्टिंग, कंटेनमेंट, कॉन्टैक्ट ट्रेसिंग और 'कोविड एप्रोप्रिएट विहेवियर' के पालन पर विशेष जोर दिया गया.

  • Share this:
नई दिल्ली. कैबिनेट सेक्रेटरी की सभी राज्यों के चीफ सेक्रेटरी के साथ शुक्रवार को हुई बैठक में महाराष्‍ट्र, पंजाब और छत्‍तीसगढ़ सहित 11 राज्‍यों में बढ़ते कोरोना संक्रमण के मामलों को लेकर  गंभीर चिंता जताई गई है. कैबिनेट सेक्रटरी ने सभी राज्यों के मुख्य सचिवों की बैठक में कोरोना के नियमों को तोड़ने वालों के खिलाफ कार्रवाई का निर्देश दिया, इसमें पुलिस एक्ट,डिजास्टर मैनेजमेंट एक्ट और दूसरी कानूनी और प्रशासनिक प्रावधानों का इस्तेमाल करने के निर्देश दिए गए हैं.

इसके साथ ही बैठक में पांच सूत्रीय एजेंडे- टीकाकरण, टेस्टिंग, कंटेनमेंट, कॉन्टैक्ट ट्रेसिंग और 'कोविड एप्रोप्रिएट विहेवियर' के पालन पर विशेष जोर दिया गया. बैठक में जिन 11 राज्‍यों में कोरोना के ज्‍यादा केस रिकार्ड हो रहे है, वहां के हालात को लेकर‍ चिंता जताई गई.

इन राज्यों में सबसे ज्यादा कोरोना केस
जिन राज्‍यों में कोरोना के ज्‍यादा केस रिकॉर्ड हो रहे हैं और जों चिंता का कारण बने हुए हैं उनमें महाराष्‍ट्र, पंजाब, कर्नाटक, केरल, चंडीगढ़, छत्‍तीसगढ़, गुजरात, मध्‍य प्रदेश, तमिलनाडु, दिल्‍ली और हरियाणा शामिल हैं.
टू टियर और थ्री टियर शहरों में मामले ज्यादा आ रहे हैं, ऐसे में कोरोना गाइडलाइंस का सख्ती से पालन हो, कंटेनमेंट और सर्विलेंस को भी गंभीरता से लागू किया जाए, टीकाकरण की रफ्तार बढ़ाई जाए और टेस्टिंग भी ज्यादा से ज्यादा की जाए. यह भी कहा गया कि कुल टेस्ट का RTPCR 70% हो, 25- 30 कॉन्टैक्ट 72 घंटे में तलाशे जाएं.





इसके साथ ही माइक्रो कंटेनमेंट ज़ोन बनाने पर जोर देने के साथ ही ऑक्सीजन बेड, आइसोलेशन बेड, वेंटिलर/आईसीयू के पर्याप्त इंतजाम करने पर भी बल दिया गया ताकि ऑक्सीजन सप्लाई की दिक्कत न आए. एंबुलेंस के इंतजाम दुरुस्त रखने और अस्पताल में स्टाफ की संख्या बढ़ाई जाने पर खास जोर दिया गया. बैठक में यह भी कहा गया कि ऐसी व्यवस्था करें की AIIMS के डॉक्टर से ज़िले के अस्पताल के आईसीयू के डॉक्टर रोजाना टेली कंसल्‍टेशन करें. अभी फिलहाल ये हफ्ते में दो दिन हो रहा है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज