CNN-NEWS18 Survey: Jammu & Kashmir के 70 फीसदी लोग बंटवारे पर सरकार के साथ

CNN-NEWS18 के सर्वे में जम्मू-कश्मीर (Jammu Kashmir) और लद्दाख (Ladakh) के 231 लोगों ने हिस्सा लिया. इसमें से 70 फीसदी लोगों का मानना है कि सरकार का यह फैसला उचित है.

News18Hindi
Updated: August 10, 2019, 7:25 PM IST
CNN-NEWS18 Survey: Jammu & Kashmir के 70 फीसदी लोग बंटवारे पर सरकार के साथ
CNN-NEWS18 के सर्वे में जम्मू-कश्मीर (Jammu Kashmir) और लद्दाख (Ladakh) के 231 लोगों ने हिस्सा लिया. इसमें से 70 फीसदी लोगों का मानना है कि सरकार का यह फैसला उचित है.
News18Hindi
Updated: August 10, 2019, 7:25 PM IST
जम्मू-कश्मीर और लद्दाख (Jammu and Kashmir, and Ladakh) को अलग-अलग केंद्र शासित प्रदेश (Unioun Territory) बनाए जाने के केंद्र सरकार के फैसले पर CNN-NEWS18 ने एक सर्वे किया है. इस सर्वे में 70 फीसदी लोगों का मानना है कि सरकार का यह फैसला उचित है. इस सर्वे में जम्मू-कश्मीर और लद्दाख के 231 लोगों ने हिस्सा लिया. CNN-NEWS18 ने कश्मीर डिवीजन के 151 लोगों में से 87 फीसदी लोग सरकार के इस फैसले से समहत हैं. वहीं बात अगर जम्मू डिवीजन की बात करें तो इस फैसले के पक्ष में 93 फीसदी लोग हैं. लद्दाख डिवीजन में 67 फीसदी लोग सरकार के इस फैसले से सहमत हैं.

बता दें, 5 अगस्त यानी सोमवार को गृह मंत्री अमित शाह (Amit Shah) ने राज्यसभा (Rajya Sabha)में जम्मू और कश्मीर राज्य के पुनर्गठन का विधेयक पेश किया जो उसी दिन पास हो गया. इसके बाद लोकसभा (Loksabha)में 6 अगस्त को यही विधेयक पूर्ण बहुमत से पास हुआ.

सर्वे में यह बात सामने आई है कि अनुच्छेद 370 और अनुच्छेद 35 ए (Article 370 and Article 35A) को हटाए जाने को लेकर भी लोग सरकार के फैसले के पक्ष में हैं. लोगों का मानना है कि इससे भ्रष्टाचार तो कम होगा ही साथ ही साथ रोजगार के नए अवसर बढ़ेंगे.

सरकार के इस फैसले से महिलाएं खुश

सरकार के इस फैसले से महिलाएं भी खुश हैं. कश्मीर स्थित अनंतनाग (Anantnag) निवासी रुख्साना अख्तर ने कहा कि 'यह वाजिब फैसला है. इससे महिलाओं को अब उनके अधिकार मिलेंगे.' वहीं बारामूला (Baramulla) निवासी खदीजा बेगम ने कहा कि 'यह स्वागत योग्य फैसला है और अब मोदी जी अब हमारे इलाके का भी विकास कर सकेंगे.' बारामूला की ही हाजरा बेगम ने कहा कि 'यह शानदार फैसला है. इससे ग्रामीण इलाकों में विकास के नए आयाम तय होंगे.'

लोगों का मानना- अब दिशा बदलेगी
अनंतनाग की मुनीरा ने कहा कि यह 'अच्छा कदम है. पारंपरिक राजनेता और दल अपने फायदे के लिए लोगों की भावनाओं का शोषण कर रहे थे. अब दिशा बदलेगी और राज्य का विकास प्राथमिकता में होगा.' CNN-NEWS18 के इस सर्वे में कुछ लोगों ने इस फैसले का विरोध भी जाहिर किया. जम्मू में 4, कश्मीर में 30, लद्दाख में 33 फीसदी लोगों ने राज्य के बंटवारे का विरोध किया.
Loading...

कुलगाम (Kulgam) की फरजाना अख्तर ने कहा - 'लोगों ने आत्मनिर्णय के अधिकार को छोड़कर और कुछ भी नहीं चाहिए.' कुलगाम की ही शहाना मुमताज ने कहा कि 'कश्मीर के लोग ऐसे किसी भी फैसले को स्वीकार नहीं करेंगे क्योंकि उन्हें भारत से आजादी चाहिए.'

ये भी पढ़ें: आर्टिकल 370 पर आतंकी मसूद अज़हर ने उगला जहर!

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 10, 2019, 6:48 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...