CNN-NEWS18 Survey: घाटी में शांति बरकरार, लोगों ने कहा- खत्‍म हो आतंकवाद

CNN-NEWS18 Suvey: जम्मू संभाग में, 68 लोगों में से 63 (93%) ने बंटवारे के फैसले का स्वागत किया है.

News18Hindi
Updated: August 11, 2019, 12:05 AM IST
CNN-NEWS18 Survey: घाटी में शांति बरकरार, लोगों ने कहा- खत्‍म हो आतंकवाद
(AP Photo/ Dar Yasin)
News18Hindi
Updated: August 11, 2019, 12:05 AM IST
जम्मू कश्मीर और लद्दाख (Jammu-Kashmir and Ladakh ) के अलग-अलग केंद्र शासित प्रदेश बनाए जाने के बाद CNN-News18 ने सर्वे किया. इस सर्वे में सामने आया है कि अधिकतर लोग इस फैसले से खुश हैं. वे सभी फैसले का स्वागत कर रहे हैं. CNN-NEWS18 के सर्वे में हमने जिन लोगों से मुलाकात की उन्होंने कहा कि घाटी में शांति बरकरार है. उनका कहना है कि यहां से आतंकवाद खत्म हो. जम्मू और कश्मीर (Jammu And Kashmir) के युवाओं का मानना है कि अब उन्हें रोजगार के और उचित अवसर मिलेंगे. लद्दाख ( Ladakh )  डिवीजन में लोगों ने इस फैसले का स्वागत किया. हालांकि कारगिल के लोगों ने कुछ चिंता जाहिर की है.

वहीं, कश्मीर घाटी में कुछ लोग चिंतित हैं. जम्मू क्षेत्र और लद्दाख क्षेत्र के अधिकतर लोग इस फैसले से खुश हैं. कश्मीर क्षेत्र में रहने वाले कुछ लोग परेशान हैं. अधिकतर लोगों का मानना है कि अनुच्छेद 370 (Article 370) का खत्म किया जाना उनकी पहचान पर हमला है. हालांकि उन्होंने यह कहा कि जम्मू और कश्मीर में भ्रष्टाचार और बेरोजगारी, बहुत ज्यादा है. उन्होंने सरकार से अपील की है कि इस मामले में फैसले लिए जायें.

यह भी पढ़ें: आर्टिकल-370 हटाने के खिलाफ SC पहुंची नेशनल कॉन्फ्रेंस

फैसले  से महिलाएं खुश

सर्वे में यह भी सामने आया है कि इस फैसले से महिलाएं खुश हैं. अनंतनाग की मिसरा बानो ने कहा कि यह फैसला अच्छा है. इस फैसले से महिलाओं का सशक्तिकरण होगा. इस सर्वे में कश्मीर डिवीजन (65%), जम्मू डिवीजन में 68 (29%), डोडा डिवीजन में 6 (3%) और 6 (3%) लद्दाख डिवीजन में 151 व्यक्तियों को शामिल थे. कश्मीर संभाग में, 151 लोगों में से 87 (58%) फैसले के समर्थन में हैं और 45 (30%) इसके विरोध में हैं. 19 (13%) लोग अभी कुछ कहने की स्थिति में नहीं हैं.

वहीं, जम्मू संभाग में, 68 लोगों में से 63 (93%) ने इस फैसले का स्वागत किया है. इसके साथ ही 3 (4%) लोगों ने इसका विरोध किया और 2 (3%) लोग अभी कुछ कहने की स्थिति में नहीं हैं.

राज्य के डोडा (Doda) डिवीजन में, कुल 6 लोगों में से, 5 (83%) ने कदम का स्वागत किया है, 1 (17%) व्यक्ति ने इस फैसले का विरोध किया. इस फैसले का लद्दाख संभाग (Ladakh)में, कुल 6 व्यक्तियों में से 4 (67%) लोगों ने इसका स्वागत किया है तो वहीं 2 (33%) ने इसका विरोध किया है.
Loading...

यह भी पढ़ें:  Survey: J&K में शांति, महिलाओं ने किया बंटवारे का समर्थन

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 10, 2019, 8:10 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...