Assembly Banner 2021

मालिक की मौत के बाद हिरासत में मुर्गा, हो सकती है अदालत में पेशी; जानें क्या है पूरा मामला

इस लड़ाई में एक मुर्गे को दूसरे के खिलाफ जंग के लिए छोड़ा जाता है. जहां उनपर लाखों रुपए की शर्तें लगाई जाती हैं. (सांकेतिक तस्वीर: Shutterstock)

इस लड़ाई में एक मुर्गे को दूसरे के खिलाफ जंग के लिए छोड़ा जाता है. जहां उनपर लाखों रुपए की शर्तें लगाई जाती हैं. (सांकेतिक तस्वीर: Shutterstock)

Rooster Fights: तेलंगाना (Telangana) में मुर्गों की लड़ाई अवैध है, लेकिन गुप्त रूप से राज्य में इनके आयोजन की खबरें सामने आती रहती हैं. इस लड़ाई में एक मुर्गे को दूसरे के खिलाफ जंग के लिए छोड़ा जाता है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 28, 2021, 7:09 AM IST
  • Share this:
हैदराबाद. तेलंगाना में एक मुर्गे (Rooster) को अपने मालिक की हत्या के मामले में सजा हो सकती है. यह मामला राज्य के जगतियाल जिले के गोलापल्ली का है. फिलहाल मुर्गे को पुलिस कस्टडी (Police Custody) में रखा गया है. इतना ही नहीं हो सकता है कि इस अपराध के चलते उसे अदालत के सामने पेश भी होना पड़े. हालांकि, यह पहली बार नहीं है जब मुर्गों को कानूनी प्रक्रिया से गुजरना पड़ा हो. बीती जनवरी में दो मुर्गों को 10 लोगों के साथ हवालात में तीन दिन गुजारने पड़े थे.

यह मामला 22 फरवरी का है. गोलापल्ली में मंदिर के पास मुर्गों की लड़ाई होनी थी. इसके लिए पोल्ट्री फार्म चलाने वाले 45 साल  के टी सतैया भी तैयारी कर रहे थे. उन्हें ऐसी लड़ाई के लिए मुर्गों को तैयार करने में माहिर समझा जाता है. वे सुबह काम पर आए और मुर्गे के पैर में 3 इंच का चाकू बांधा. उन्होंने जैसे ही दूसरे मुर्गे को उठाने के लिए पहले वाले को नीचे रखा, तो वह चाकू गिराने की कोशिश करने लगा. इसी दौरान गलती से चाकू सतैया की कमर में लग गया.

गोलापल्ली पुलिस स्टेशन के सब-इंस्पेक्टर के जीवन बताते हैं कि सतैया का जमकर खून बहने लगा. उन्होंने कहा 'नुकीले चाकू से गंभीर चोट पहुंची है. अस्पताल ले जाने के रास्ते में उसका काफी खून बह गया, जहां बाद में उसे मृत घोषित कर दिया गया.' जीवन इसे ओपन एंड शट के केस मान रहे हैं. वहीं, चाकू और जब्त किए गए मुर्गे की सावधानी से तस्वीरें ले ली गईं हैं.



उन्होंने जानकारी दी 'हमने मुर्गे को एक दिन के लिए पुलिस स्टेशन में रखा, लेकिन बाद में नजदीक के पोल्ट्री फार्म में भेज दिया. जहां उसकी देखभाल की जा रही है. मुर्गे की तस्वीरें अदालत में जमा की जाएंगी. अगर अदालत आदेश देती है, तो उसे पेश किया जाएगा.' सतैया की पत्नी ने पुलिस को बताया कि वो ऐसी लड़ाइयों में शामिल होता रहता था. वे हर लड़ाई में 1500 से 2000 हजार रुपए कमाता था.

तेलंगाना में मुर्गों की लड़ाई अवैध है, लेकिन गुप्त रूप से राज्य में इनके आयोजन की खबरें सामने आती रहती हैं. इस लड़ाई में एक मुर्गे को दूसरे के खिलाफ जंग के लिए छोड़ा जाता है. जहां उनपर लाखों रुपए की शर्तें लगाई जाती हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज