TRP रेटिंग एजेंसियों पर गाइडलाइंस की समीक्षा के लिए कमेटी गठित

फर्जी टेलिविजन रेटिंग पॉइंट (TRP) विवाद के बाद सभी न्यूज़ चैनलों की वीकली रेटिंग अगले 8-12 हफ्ते के लिए रोकी जा चुकी है.
फर्जी टेलिविजन रेटिंग पॉइंट (TRP) विवाद के बाद सभी न्यूज़ चैनलों की वीकली रेटिंग अगले 8-12 हफ्ते के लिए रोकी जा चुकी है.

समाचार एजेंसी एएनआई की रिपोर्ट के मुताबिक इस कमेटी की अध्यक्षता प्रसार भारती के सीईओ (Prasar Bharati CEO) शशि शेखर वेम्पति करेंगे. वेम्पति की अगुवाई वाली कमेटी रेटिंग सिस्टम को और स्पष्ट और जवाबदेह बनाने के लिए अपनी अनुशंसा देगी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 4, 2020, 10:42 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. सूचना प्रसारण मंत्रालय (Ministry of Information and Broadcasting) ने बुधवार को एक कमेटी का गठन किया जो टेलिविजन रेटिंग एजेंसियों पर गाइडलाइंस की समीक्षा करेगी. समाचार एजेंसी एएनआई की रिपोर्ट के मुताबिक इस कमेटी की अध्यक्षता प्रसार भारती के सीईओ शशि शेखर वेम्पति करेंगे. वेम्पति की अगुवाई वाली कमेटी रेटिंग सिस्टम को और स्पष्ट और जवाबदेह बनाने के लिए अपनी अनुशंसा देगी.

कमेटी के अन्य सदस्यों में आईआईटी कानपुर के डॉ. शलभ, डॉ. राजकुमार उपाध्याय, और प्रोफेसर पुलक घोष भी शामिल होंगे. गौरतलब है कि फर्जी टेलिविजन रेटिंग पॉइंट (TRP) विवाद के बाद सभी न्यूज़ चैनलों की वीकली रेटिंग 8-12 हफ्ते के लिए रोकी जा चुकी है. ब्रॉडकास्ट ऑडियंस रिसर्च काउंसिल (BARC) ने कहा था कि वह फेक रेटिंग की खबरों और दावों के बीच अपने सिस्टम की समीक्षा करेगा. BARC ने कहा था कि 'न्यूज़ जॉनर' के साथ ही BARC सभी समाचार चैनलों के लिए इंडिविजुअल वीकली रेटिंग जारी करना बंद कर देगा.


बता दें बीते महीने मुंबई पुलिस ने दावा किया था कि रिपब्लिक टीवी और दो मराठी चैनलों ने टीआरपी में हेरफेर की है. पुलिस ने बताया था कि कथित टीआरपी स्कैम के सिलसिले में अब तक चार लोगों को गिरफ्तार किया गया है. इनमें दो मराठी चैनलों के मालिक शामिल हैं.





रिपब्लिक टीवी के मुख्य वित्तीय अधिकारी शिव सुब्रमण्यम सुंदरम और सिंह इससे पहले पुलिस के समक्ष पेश होने से यह कहते हुए इनकार कर चुके थे कि टीवी चैनल ने राहत के लिए सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया था.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज