होम /न्यूज /उत्तर प्रदेश /Commonwealth Games: गन्ने के खेत को बनाया था ग्राउंड, बांस बना भाला, पढ़ें अनु रानी की कहानी

Commonwealth Games: गन्ने के खेत को बनाया था ग्राउंड, बांस बना भाला, पढ़ें अनु रानी की कहानी

Commonwealth Games: कॉमनवेल्थ गेम्स 2022 में भाला फेंक कर कांस्य पदक जीतने वाली अनु रानी को जीवन में काफी कठिनाइयों का ...अधिक पढ़ें

रिपोर्ट-विशाल भटनागर

मेरठ. ऊंचाइयों को छूने के लिए कई बार कठिन हालात से भी जूझना पड़ता है. वहीं, जो लोग कठियानाइयों और हालातों से समझौता कर लेते हैं, वो कभी भी मंजिल को हासिल नहीं कर पाते. जबकि कठिन हालात का सामना करते हुए जो लगातार आगे बढ़ते रहते हैं .वही एक नया कीर्तिमान लिखते हैं.कुछ ऐसा ही कर दिखाया है मेरठ की लाड़ली बेटी अनु रानी (Annu Rani) ने. चलिए पदक वीर से जानते हैं उनकी कहानी.

कौन कहता है आसमां में सुराख नहीं हो सकता, एक पत्थर तो तबीयत से उछालो यारों. ये लाइनें अंतरराष्ट्रीय भाला फेंक खिलाड़ी अनु रानी पर एक दम सटीक बैठती हैं. हां बस पत्थर की जगह अनु ने भाला फेंका और विश्व में भारत का परचम लहरा दिया. वैसे तो अनु रानी ने अपने खेल की शुरुआत कठिन संघर्ष करते हुए की. उन्होंने गन्ने के खेत में ग्राउंड बनाकर बांस और गन्ने से भाला फेंकने की प्रैक्टिस की और अब कॉमनवेल्थ गेम्स (Commonwealth Games 2022 ) में कांस्य पदक जीतकर इतिहास रच दिया.

आपके शहर से (मेरठ)

पीएम द्वारा किए गए सम्मान से बढ़ा हौसला
NEWS 18 LOCAL से खास बातचीत करते हुए अनु रानी कहती हैं कि जिस तरीके से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ देश के खिलाड़ियों का सम्मान कर रहे हैं. गेम के बाद खिलाड़ियों के सम्मान में समारोह आयोजित करते हैं, हमसे बात करते हैं उससे खिलाड़ियों का आत्मविश्वास बढ़ता है. उसी का परिणाम कॉमनवेल्थ गेम्स में देखने को मिला.

हालातों से डरे नहीं बल्कि लक्ष्य की ओर बढ़ते रहें
अनु रानी का कहना है कि अगर अपने सपने को पूरा करना है तो हालातों से कभी डरे नहीं बल्कि हालातों का सामना करते हुए आगे बढ़ते रहें. उन्होंने बताया कि उनके जीवन में काफी कठिनाइयों थी, लेकिन वह उन कठिनाइयों के बीच भी रास्ता निकालते हुए अपने सपने को पूरा करने के लिए खेलती रहीं. अनु ने बताया कि उनके माता-पिता ने उनका भरपूर साथ दिया, इसी वजह से वह इस मुकाम को हासिल कर पाई हैं.

ये हैं अनु रानी की उपलब्धियां
अनु रानी के अन्य रिकॉर्डों की बात करें तो वर्ष 2014 में हुए एशियाई गेम्स में कांस्य विजेता, 2014 कॉमनवेल्थ गेम्स में प्रतिभाग किया, 2015 की एशियाई चैंपियनशिप में कांस्य पदक, 2017 एशियन चैंपियनशिप में रजत, वर्ल्ड चैंपियनशिप फाइनल में जगह पक्की करने वाली भारतीय बनीं, तो उनके नाम 8 बार का राष्ट्रीय रिकॉर्ड है.

पदक वीर का जोरदार स्वागत
कॉमनवेल्थ गेम्स में पदक हासिल कर जैसे ही अनु रानी मेरठ पहुंची, तो उनका भव्य स्वागत किया गया. शहर से लेकर गांव तक विभिन्न कार्यक्रमों का आयोजन हुआ जिसमें अनु रानी को सम्मानित भी किया गया.

Tags: Commonwealth Games, Commonwealth Games 2022, Meerut news

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें