Home /News /nation /

सबसे ज्यादा देश की कानून-व्यवस्था पर छलका अल्पसंख्यकों का दर्द, जानें क्या कहते हैं आंकड़े

सबसे ज्यादा देश की कानून-व्यवस्था पर छलका अल्पसंख्यकों का दर्द, जानें क्या कहते हैं आंकड़े

मुसलमान, सिक्ख और ईसाइयों को सबसे ज्यादा शिकायत देश की कानून-व्यवस्था है. Demo pic

मुसलमान, सिक्ख और ईसाइयों को सबसे ज्यादा शिकायत देश की कानून-व्यवस्था है. Demo pic

साल 2018-19 से लेकर अब तक किसी भी साल में अल्पसंख्यकों (Minority) के बड़े समुदाय मुसलमानों की ओर से नेशनल माइनॉरिटी कमीशन (National Minority Commission) में आने वाली शिकायतों की संख्या एक हजार से कम नहीं हैं. 1344, 1232, 1103 और इस साल 2021-22 नवंबर तक शिकायतों की संख्या 64 पहुंच चुकी है. इसके अलावा एनकाउंटर (Encounter), मॉब लिंचिंग (Mob Lynching), नमाज पढ़ने और धार्मिक स्थलों के अधिकार को लेकर होने वालीं बहुत सारी शिकायतें पुलिस स्टेशन और स्थानीय प्रशासन के यहां दर्ज हैं.

अधिक पढ़ें ...

    नई दिल्ली. अल्पसंख्यकों (Minority) की शिकायतों को लेकर बात करें तो देश में मुसलमानों (Muslim) के बाद दूसरे नंबर पर सिक्ख (Sikh) और तीसरे पर ईसाई हैं. लेकिन देश की कानून-व्यवस्था पर सवालियां निशान लगाने के मामले में तीनों अल्पसंख्यक समुदाय पहले पायदान पर एक साथ खड़े हैं. हाल ही में अल्पसंख्क मंत्रालय (Minority Ministry) की ओर से राज्यसभा में रखे गए शिकायतों के आंकड़े बताते हैं कि मुसलमान, सिक्ख और ईसाइयों (Christian) को सबसे ज्यादा शिकायत देश की कानून-व्यवस्था है. कानून-व्यवस्था को लेकर की गईं शिकायतें पहले नंबर पर हैं. धार्मिक अधिकार और शिक्षा संबंधी शिकायतें भी बहुत की गई हैं. ये सभी शिकायतें नेशल माइनॉरिटी कमीशन में की गई हैं. बीजेपी (BJP) सांसद राकेश सिन्हा ने राज्यसभा में शिकायतें संबंधी यह सवाल उठाया है.

    तीन साल में आईं 25 सौ से ज्यादा शिकायतें

    साल 2018-19 से लेकर 2020-21 तक तीन साल में नेशल माइनॉरिटी कमीशन को 2518 शिकायतें मिली हैं. यह सभी शिकायतें कानून-व्यवस्था के संबंध में की गई हैं. इन शिकायतों में अल्पसंख्यकों के सभी वर्ग जैन, बौद्ध और पारसी भी शामिल हैं. यह सभी शिकायतें नेशल माइनॉरिटी कमीशन की हैं. यहां उन शिकायतों को शामिल नहीं किया गया है जो ज़िले के पुलिस स्टेशन और राज्य अल्पसंख्यक आयोग में दर्ज कराई गई हैं.

    आ रही हैं धार्मिक और शिक्षा संबंधी शिकायतें भी

    नेशल माइनॉरिटी कमीशन ने अल्पसंख्कों की शिकायतों को 14 कैटेगिरी में रखा है. इसी में कानून-व्यवस्था भी शामिल है. लेकिन इसके साथ ही कैटिगिरी में शामिल धार्मिक अधिकार और शिक्षा संबंधी शिकायतें भी आ रही हैं. राज्यसभा में रखे गए आंकड़ों पर गौर करें तो तीन साल में धार्मिक अधिकार संबंधी शिकायतों की संख्या 146 है. वहीं शिक्षा संबंधी शिकायतें 192 हैं. शिकायतों की 14 कैटेगिरी में एक कैटेगिरी अन्य शिकायतों की भी है. ऐसी शिकायतों की संख्या 1444 है.

    muslim, sikh, Christian, law and order, national minority commission, BJP, encounter, mob lynching, police, rajya sabha, मुस्लिम, सिख, ईसाई, कानून और व्यवस्था, राष्ट्रीय अल्पसंख्यक आयोग, भाजपा, मुठभेड़, मॉब लिंचिंग, पुलिस, राज्य सभा

    ऊपर बताया गया आंकड़ा हर साल राष्ट्रीय अल्पसंख्यक आयोग में आने वाली कुल शिकायतों का है.

    यूपी के इस शहर में एक महीने में काटे 82 हजार चालान, जानिए सबसे ज्यादा किसके कटे

    2021-22 में बढ़ गईं सिक्खों की शिकायतें

    साल 2020-21 की बात करें तो इसके मुकाबले 2021-22 में सिक्खों की आने वाली शिकायतों की संख्या बढ़ गई है. 2020-21 में सिक्खों की कुल शिकायतों की संख्या 99 थी, जबकि 2021-22 में शिकायतों की संख्या बढ़कर 115 हो गई है.

    अगर तीन साल में होने वाली शिकायतों की बात करें तो पहले नंबर पर मुसलमानों के बाद दूसरे नंबर पर सिक्ख और तीसरे पर ईसाई हैं. वहीं 4 और 5वें नंबर पर जैन और बौद्ध हैं. सबसे कम शिकायतें पारसी समुदाय की आई हैं.

    Tags: Law and order, Minority community, Muslim

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर