दिल्ली, मुंबई की हालत सुधरी; अब इन बड़े शहरों की सेहत बिगाड़ सकता है कोरोना

दिल्ली, मुंबई की हालत सुधरी; अब इन बड़े शहरों की सेहत बिगाड़ सकता है कोरोना
बेंगलुरु, हैदराबाद और पुणे कोरोना के नए हॉटस्पॉट बन सकते हैं. (AP Photo/Mahesh Kumar A.)

Coronavirus India: कोरोना वायरस संक्रमण के ताज़ा आंकड़ों के मुताबिक. तो एक ओर जहां दिल्ली, मुंबई, चेन्नई और अहमदाबाद में मामले कम आने शुरू हो गए हैं, वहीं दूसरी ओर बेंगलुरु, हैदराबाद और पुणे देश में कोरोना के नए हॉटस्पॉट बनने की आशंका है.

  • Share this:
नई दिल्ली. देश में कोरोना वायरस (Coronavirus India) के मरीजों की संख्या 10 लाख के पार हो गई है. संक्रमण का सबसे बुरा असर उन बड़े शहरों में हुआ, जहां आबादी 5 करोड़ से ज्यादा है. ताजा आंकड़े इस ओर संकेत दे रहे हैं कि एक ओर जहां दिल्ली, मुंबई, चेन्नई और अहमदाबाद में मामले कम होने शुरू हो गए हैं, वहीं दूसरी ओर अब बेंगलुरु, हैदराबाद और पुणे देश में कोरोना के नए हॉटस्पॉट बन सकते हैं.

जिस शहर में मामलों में वृद्धि की दर सबसे अधिक देखी गई वह है बेंगलुरु. यहां पिछले चार हफ्तों में कोरोना मामलों में औसतन 12.9% की बढ़ोतरी हुई है. इसी दौरान शहर में प्रति दिन 8.9% की दर से मौतों की संख्या में इजाफा दर्ज किया गया.

मृत्यु दर (प्रति 100 मामलों में मृत्यु) की बात करें तो अहमदाबाद लिस्ट में सबसे ऊपर है. इसके बाद मुंबई और कोलकाता आते हैं. चेन्नई में उसकी जनसंख्या के मुकाबले 8,595 प्रति लाख मामलों के साथ सबसे अधिक केस डेंसिटी है. इसके बाद केस डेंसिटी में मुंबई, पुणे और दिल्ली का नंब है. मुंबई में यहां की हर एक लाख आबादी पर 345 हुई जो देश में सबसे अधिक है. इसके बाद अहमदाबाद और दिल्ली है.



मुंबई में मामलों की संख्या कम लेकिन पुणे में बढ़ रही रफ्तार!
पिछले चार हफ्तों के आंकड़ों के विश्लेषण से पता चलता है कि राज्यों और क्षेत्रों के भीतर संक्रमण नए शहरी केंद्रों की ओर बढ़ रहा है. उदाहरण के लिए कोरोना के मामले में मुंबई में पाए जाने वाले मामलों की संख्या प्रतिदिन घट रही है लेकिन पुणे में लगाता इजाफा हो रहा है. अहमदाबाद में मामले राष्ट्रीय औसत से बहुत कम दर पर बढ़ रहे हैं, लेकिन सूरत में वृद्धि राष्ट्रीय औसत से ऊपर है. आंकड़ों से पता चलता है चेन्नई में कोरोना की रफ्तार धीमी पड़ गई है, लेकिन हैदराबाद और बेंगलुरु में बढ़ोतरी जारी है.

नए शहरो में संक्रमण का दबाव बढ़ने के साथ ही इस यह भी देखने को मिला है कि एक शहर के अलग-अलग क्षेत्रों से कोरोना केस पाए जाने में बदलाव हुआ है. उदाहरण के लिए देश में सबसे ज्यादा कोरोना केस मुंबई में पाया गया. यहां संक्रमण पर नियंत्रण पर लिया गया है लेकिन लेकिन ठाणे, कल्याण, नवी मुंबई और भिवंडी कस्बों में बड़े पैमाने पर संक्रमण के मामले सामने आना जारी है. जून महीने  और जुलाई में पिछले दो हफ्तों के दौरान  शहर में प्रतिदिन केवल 1,000-1,500 मामले दर्ज किए गए हैं किन घनी आबादी और इसके आसपास के सेमी-रूरल बस्तियों में संक्रमण के स्तर में वृद्धि देखी गई है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज