भारत बंद को लेकर कांग्रेस की ये है तैयारी

कांग्रेस ने इस भारत बंद को सफल करने के लिए न सिर्फ दूसरी विपक्षी पार्टियों का समर्थन मांगा बल्कि एक बड़ी रणनीति के तहत सभी प्रदेशों में भी इसका व्यापक असर दिखे इसकी मुक्कमल तैयारी की है.

Ranjita Jha | News18Hindi
Updated: September 10, 2018, 9:34 AM IST
भारत बंद को लेकर कांग्रेस की ये है तैयारी
कांग्रेस ने इस भारत बंद को सफल करने के लिए दूसरी विपक्षी पार्टियों का समर्थन मांगा है.
Ranjita Jha | News18Hindi
Updated: September 10, 2018, 9:34 AM IST
पेट्रोल और डीजल की लगातार बढ़ती कीमतों के खिलाफ कांग्रेस ने भारत बंद का आह्वान किया है. महंगाई के खिलाफ मोदी सरकार को घेरने के लिए कांग्रेस पूरी तैयारी में है. कांग्रेस के समर्थन में 20 पार्टियां भी रहेंगी जो कहीं न कहीं केंद्र सरकार के लिए चिंता का विषय है. कांग्रेस ने इस भारत बंद को सफल करने के लिए न सिर्फ दूसरी विपक्षी पार्टियों का समर्थन मांगा बल्कि एक बड़ी रणनीति के तहत सभी प्रदेशों में भी इसका व्यापक असर दिखे इसकी मुक्कमल तैयारी की है.

भारत बंद को सफल बनाने को लेकर क्या है कांग्रेस की तैयारी

  1. भारत बंद की शुरुआत 10 सितंबर को दिल्ली के राजघाट (गांधी समाधि) से शुरू किया जाएगा. सुबह 8 बजे सभी नेता राजघाट पहुचेंगे जिसमें कांग्रेस की पूर्व अध्यक्ष सोनिया गांधी, कई सांसद, CWC सदस्य और 20 पार्टियों के प्रतिनिधि जिसमें NCP से डी पी त्रिपाठी, RJD से मनोज झा, RLD से जयंत चौधरी, सीताराम येचुरी, डी राजा सहित कई पार्टी के नेताओं के शामिल होने की खबर है. एक से डेढ़ किलोमीटर की इस पैदल यात्रा में सभी नेता शामिल होंगे और सरकार पर ये दबाव डालने की कोशिश होगी कि जल्द पेट्रोल, डीजल और घरेलू गैस के दामों पर काबू पाया जाए.



ये भी पढ़ेंः पेट्रोल-डीजल के बढ़ते दाम के खिलाफ कांग्रेस का 'भारत बंद' आज, यहां जानें सब कुछ

2. कांग्रेस की बड़ी रणनीति है कि राज्यों में भी भारत बंद का व्यापक असर पड़े.यही कारण है कि बंद की रूपरेखा बनाने के लिए वरिष्ठ नेताओं ने पिछले दिनों सभी राज्यों के प्रभारी महासचिवों और प्रदेश अध्यक्षों की बैठक दिल्ली में बुलाई थी जिसके बाद ये तय किया गया कि सभी प्रभारी महासचिव 10 सितंबर को अपने प्रभार वाले राज्य में रहेंगे और उनके साथ AICC सचिव भी अपने प्रभार जिलों में रहकर अलग-अलग जगह से प्रदर्शन करें.
Loading...
3. कांग्रेस की कोशिश है कि इस बंद को जनता का समर्थन मिले. इसलिए पार्टी लगातार प्रदेश से लेकर दिल्ली तक ये संदेश दे रही है कि इस बंद का मकसद किसी तरह की हिंसा को बढ़ावा देना या जनजीवन को अस्त-व्यस्त करना नहीं है, बल्कि केंद्र में सोई सरकार को जन सरोकार के मुद्दे पर जगाना है.

ये भी पढ़ेंः पेट्रोल पर बोली कांग्रेस, देश में बढ़ते दामों से किसान परेशान और पतंग उड़ा रहे हैं

4. पीएमभारत बंद का समय कांग्रेस ने सुबह 10 बजे से 2 बजे तक का रखा है. इस बीच वरिष्ठ नेताओं की एक टीम मॉनीटरिंग के ज़रिए ये सुनिश्चित करेगी कि सभी प्रदेशों के कार्यक्रम ठीक ढंग से हों और इसमें किसी तरह की कोई हिंसा न हो. कांग्रेस एक तीर से दो निशाना लगाने की तैयारी इस बंद के ज़रिए कर रही है- एक ओर जहां वह मंहगाई जैसे मुद्दे को उठाकर जनता का विश्वास अपने में जगाना चाहती है वहीं दूसरी ओर विपक्षी एकजुटता दिखाकर सरकार को चुनाव में मात देने की भी मजबूत कोशिश कर रही है.

 
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर