लाइव टीवी

कर्नाटक उपचुनाव: कांग्रेस का दावा 12 सीटें जीतेंगे, BJP को सरकार बचानी है तो जीतनी होंगी इतनी सीटें

News18Hindi
Updated: November 12, 2019, 10:57 PM IST
कर्नाटक उपचुनाव: कांग्रेस का दावा 12 सीटें जीतेंगे, BJP को सरकार बचानी है तो जीतनी होंगी इतनी सीटें
कर्नाटक में कांग्रेस और जेडीएस की सरकार गिरने के बाद बीजेपी ने सरकार बनाई है.

कर्नाटक (Karnanatka) में अयोग्य ठहराए गए विधायकों की 17 में से 15 सीटों पर उपचुनाव (Karnanatka byelection) होने हैं. इन विधायकों के इस्तीफे और विश्वास मत से गैरमौजूदगी के चलते कांग्रेस-जद(एस) की गठबंधन (Congress JDS coalition) सरकार गिर गई थी और इसके बाद राज्य में भाजपा के लिए सत्ता में आने का रास्ता साफ हो गया. राज्य में पांच दिसंबर को उपचुनाव होने हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 12, 2019, 10:57 PM IST
  • Share this:
बेंगलुरू. कांग्रेस नेता सिद्धारमैया (Siddaramaiah) ने मंगलवार को विश्वास जताया कि कर्नाटक (Karnanatka byelection) में अगले महीने होने वाले उपचुनावों में उनकी पार्टी 15 विधानसभा सीटों में कम से कम 12 पर जीत हासिल करेगी. कर्नाटक के पूर्व मुख्यमंत्री ने भाजपा और जद(एस) के बीच ‘आपसी तालमेल’ होने का संदेह जताया और स्पष्ट किया कि कांग्रेस पार्टी ‘ऑपरेशन कमल’ (विरोधी पार्टी के विधायकों को गलत तरीके से निशाना बनाना) जैसे किसी कृत्य में शामिल नहीं होगी. सिद्धारमैया(Siddaramaiah) , जो कांग्रेस विधायक दल के नेता भी हैं, ने कहा, ‘मैंने कहा है कि हम 12 सीटें जीतेंगे, अगर हम सभी 15 सीटें जीत गए तो आश्चर्य नहीं होना चाहिए.’

उन्होंने विजयपुरा में संवाददाताओं से कहा कि अयोग्य ठहराए गए उम्मीदवारों की याचिका पर बुधवार को सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद कांग्रेस राज्य इकाई आलाकमान के साथ चर्चा करेगी और उसके बाद बाकी सात सीटों पर उम्मीदवारों के नाम के बारे में फैसला किया जाएगा. उन्होंने कहा कि पार्टी आठ सीटों पर उम्मीदवारों की घोषणा पहले ही कर चुकी है. कर्नाटक (Karnanatka) में अयोग्य ठहराए गए विधायकों की 17 में से 15 सीटों पर उपचुनाव होने हैं. इन विधायकों के इस्तीफे और विश्वास मत से गैरमौजूदगी के चलते कांग्रेस-जद(एस) की गठबंधन सरकार गिर गई थी और इसके बाद राज्य में भाजपा के लिए सत्ता में आने का रास्ता साफ हो गया. राज्य में पांच दिसंबर को उपचुनाव होने हैं.

बीजेपी ने अयोग्य ठहराए गए विधायकों को ही बनाया है उम्मीदवार
कांग्रेस-जद(एस) के अयोग्य ठहराए गए 17 विधायकों की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट 13 नवंबर को फैसला सुनाएगा. इन विधायकों ने तत्कालीन विधानसभा अध्यक्ष के आर रमेश कुमार द्वारा उन्हें अयोग्य ठहराने के फैसले को चुनौती दी है. भाजपा को सत्ता में बने रहने के लिए इन उपचुनावों के दौरान 15 में कम से कम छह सीटों पर जीत दर्ज करनी जरूरी है. सूत्रों के मुताबिक बीजेपी ने कोर्ट के फैसले के बाद इन अयोग्य ठहराए गए विधायकों को ही उम्मीदवार बनाने का फैसला किया है. जेडीएस के बीजेपी के करीब आने की अटकलों के बारे में पूछने पर सिद्धारमैया ने कहा, ‘मुझे नहीं पता कि उनके बीच क्या आंतरिक समझ बन रही है. जिस तरह आपको (मीडिया) संदेह है, उसी तरह मुझे भी संदेह है कि आंतरिक तालमेल हो सकता है.’

ये भी पढ़ें:

NCP ने शरद पवार को दिया सरकार गठन पर कोई भी फैसला लेने का अधिकार
भीमा कोरेगांव केस: गौतम नवलखा को झटका, पुणे की अदालत ने खारिज की जमानत याचिका

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 12, 2019, 9:06 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...