अपना शहर चुनें

States

पाकिस्तान के दो टुकड़े होने के 50 साल पर जश्न मनाएगी कांग्रेस, एके एंटनी की अगुआई में बनी समिति

सोनिया गांधी  (Reuters)
सोनिया गांधी (Reuters)

कांग्रेस ने एक बयान में कहा, 'कांग्रेस अध्यक्ष ने 1971 में जीती गई बांग्लादेश मुक्ति युद्ध की ऐतिहासिक 50वीं वर्षगांठ मनाने के लिए भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस की गतिविधियों की योजना और समन्वय के लिए समिति के गठन को मंजूरी दी है.'

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 30, 2020, 3:35 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. कांग्रेस ने बांग्लादेश मुक्ति संग्राम की 50वीं वर्षगांठ के अवसर पर पार्टी की ओर से आयोजित होने वाले कार्यक्रमों की योजना बनाने और समन्वय के लिए वरिष्ठ नेता एवं पूर्व रक्षा मंत्री एके एंटनी की अगुआई में समिति का गठन किया है. समिति में पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह, पूर्व लोकसभा अध्यक्ष मीरा कुमार, महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री पृथ्वीराज चव्हाण और पूर्व केंद्रीय मंत्री जितेंद्र सिंह शामिल हैं.

पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी की पुत्री एवं पार्टी की राष्ट्रीय प्रवक्ता शर्मिष्ठा मुखर्जी भी समिति का हिस्सा हैं. पार्टी के एक आधिकारिक बयान में कहा गया, ‘कांग्रेस अध्यक्ष ने 1971 में जीते गए बांग्लादेश मुक्ति संग्राम, जो हमारे दो देशों के बीच विशेष संबंधों का साक्ष्य है, की 50वीं ऐतिहासिक वर्षगांठ मनाने के लिए पार्टी की गतिविधियों की योजना बनाने एवं समन्वय के वास्ते समिति के गठन को मंजूरी दे दी है.’

पार्टी ने कहा कि समिति के अन्य सदस्यों में हरियाणा की पूर्व मंत्री किरण चौधरी, तेलंगाना कांग्रेस कमेटी के प्रमुख उत्तम कुमार रेड्डी और मेजर वेदप्रकाश भी शामिल हैं. प्रवीण डावर को इस समिति का संयोजक बनाया गया है.



यह हमारे दोनों देशों के बीच विशेष संबंधों की गवाही- कांग्रेस
पार्टी ने एक बयान में कहा, 'कांग्रेस अध्यक्ष ने 1971 में जीती गई बांग्लादेश मुक्ति युद्ध की ऐतिहासिक 50वीं वर्षगांठ मनाने के लिए भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस की गतिविधियों की योजना और समन्वय के लिए समिति के गठन को मंजूरी दी है, जो हमारे दोनों देशों के बीच विशेष संबंधों की गवाही देती है.'

गौरतलब है कि बांग्लादेश मुक्ति संग्राम के समय इंदिरा गांधी देश की प्रधानमंत्री थीं. इसी मुक्ति संग्राम के बाद बांग्लादेश अस्तित्व में आया था. विश्व युद्ध दो के बाद सबसे बड़े सैन्य आत्मसमर्पण के साथ यह युद्ध खत्म हुआ था.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज