स्टालिन ने मांगी राजीव गांधी के हत्यारों की रिहाई, नाराज हुई तमिलनाडु कांग्रेस

21 मई, 1991 को तमिलनाडु के श्रीपेरूंबुदूर में एक विस्फोट में राजीव गांधी की मौत हो गयी थी. (फाइल फोटो: News18 English)

21 मई, 1991 को तमिलनाडु के श्रीपेरूंबुदूर में एक विस्फोट में राजीव गांधी की मौत हो गयी थी. (फाइल फोटो: News18 English)

द्रमुक प्रमुख स्टालिन (MK Stalin) ने राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद को पत्र लिखकर हत्या के दोषियों को तुरंत रिहा करने की मांग की थी. इसके एक दिन बाद ही तमिलनाडु कांग्रेस कमेटी (टीएनसीसी) के अध्यक्ष केएस अलागिरि ने कहा कि पार्टी इस मुद्दे और राष्ट्रपति को पत्र लिखने के मामले में स्टालिन के साथ नहीं है.

  • Share this:

चेन्नई. तमिलनाडु कांग्रेस कमेटी (Tamilnadu Congress) ने शुक्रवार को कहा कि वह मुख्यमंत्री एमके स्टालिन (MK Stalin) द्वारा पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी (Rajiv Gandhi) हत्याकांड के सातों दोषियों को रिहा करने की मांग से सहमत नहीं है. पार्टी ने कहा कि वह इस 'राजनीतिक दबाव' (Political Pressure) को अस्वीकार करती है.

द्रमुक प्रमुख स्टालिन ने राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद (President Ramnath Kovind) को पत्र लिखकर हत्या के दोषियों को तुरंत रिहा करने की मांग की थी. इसके एक दिन बाद ही तमिलनाडु कांग्रेस कमेटी (टीएनसीसी) के अध्यक्ष केएस अलागिरि ने कहा कि पार्टी इस मुद्दे और राष्ट्रपति को पत्र लिखने के मामले में स्टालिन के साथ नहीं है. अलागिरि ने दोषियों को रिहा करने और स्टालिन द्वारा इसके लिए राष्ट्रपति कोविंद को पत्र लिखने के सवाल पर पत्रकारों से कहा, ‘हम इससे सहमत नहीं हैं.’

‘केवल अदालत द्वारा दोषी को सजा दी जानी चाहिए और रिहा किया जाना चाहिए'

राजीव गांधी की 30वीं पुण्यतिथि के मौके पर यहां पार्टी मुख्यालय में उनकी तस्वीर पर पुष्प अर्पित करने के बाद अलागिरि ने कहा कि दोषियों में धर्म, जाति, भाषा और नस्ल के आधार पर अंतर नहीं किया जाना चाहिए. उन्होंने कहा, ‘केवल अदालत द्वारा दोषी को सजा दी जानी चाहिए और रिहा किया जाना चाहिए, ऐसे मामलों में ‘राजनीतिक दबाव’ नहीं होना चाहिए और यही टीएनसीसी का रुख है.’

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज