रक्षामंत्री बोलीं- नहीं हुआ आतंकी हमला, कांग्रेस ने पूछा- उरी, पठानकोट और गुरुदासपुर क्या था?

बीजेपी के राष्ट्रीय अधिवेशन में सीतारमण ने पार्टी नेताओं के बीच कहा कि प्रधानमंत्री मोदी ने यह सुनिश्चित किया कि आतंकियों को भारत में कोई जगह न मिले.

News18Hindi
Updated: January 13, 2019, 6:29 AM IST
रक्षामंत्री बोलीं- नहीं हुआ आतंकी हमला, कांग्रेस ने पूछा- उरी, पठानकोट और गुरुदासपुर क्या था?
फाइल फोटो
News18Hindi
Updated: January 13, 2019, 6:29 AM IST
भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अधिवेशन में रक्षामंत्री निर्मला सीतारमण की ओर से मोदी सरकार के दौरान कोई आतंकी हमला न होने का दावा करने के बाद कांग्रेस उन पर हमलावर हो गई है. कांग्रेस ने शनिवार को रक्षामंत्री के इस दावे पर सवाल किए.

बीजेपी के राष्ट्रीय अधिवेशन में सीतारमण ने पार्टी नेताओं के बीच कहा कि प्रधानमंत्री मोदी ने यह सुनिश्चित किया कि आतंकियों को भारत में कोई जगह न मिले. टाइम्स ऑफ इंडिया के अनुसार सीतारमण ने कहा कि 'साल 2014 के बाद देश पर कोई बड़ा आतंकी हमला नहीं हुआ. प्रधानमंत्री मोदी के नेतृत्व वाली सरकार ने यह सुनिश्चित किया कि आतंकियों को शांति भंग करने का कोई मौका न मिले.'

यह भी पढ़ें:  8 साल की बच्ची ने राहुल गांधी को समझाया राफेल मुद्दा, वीडियो हो रहा वायरल

कांग्रेस प्रवक्ता मनीष तिवारी ने कहा, ‘देश की रक्षा मंत्री ने कहा कि पिछले 55 महीने में भारत में कोई बड़ा आतंकी हमला नहीं हुआ? जब आतंकी हमला हुआ ही नहीं, तो फिर सर्जिकल स्ट्राइक क्यों करनी पड़ गई? क्या उरी, गुरुदासपुर और पठानकोट के हमले बड़े आतंकी हमले नहीं थे?'

यह भी पढ़ें:  HAL कर्मचारियों का आरोप- कंपनी को बंद करने की साजिश रच रही है सरकार



कांग्रेस नेता अहमद पटेल ने रक्षामंत्री के इस दावे को चौकाने वाला बताया. उन्होंने रक्षामंत्री के बयान पर ट्वीट किया. पटेल ने लिखा-रक्षा मंत्री के इस चौकाने वाले दावे को सुनकर बहुत आश्चर्य हुआ कि मई 2014 के बाद से कोई आतंकवादी हमला नहीं हुआ है. उन्हें याद दिलाना चाहते हैं कि पिछले 55 महीनों में पठानकोट, अमरनाथ यात्रा, उड़ी और अन्य जगहों पर हुए आतंकी हमलों में 400 से अधिक जवानों ने अपनी जान गंवाई.'

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पाससब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स

यह भी पढ़ें:  रक्षा मंत्री पर विवादित बयान देकर फंसे राहुल गांधी, महिला आयोग ने भेजा नोटिस
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर